Home Uncategorized Attitude Shayari

Attitude Shayari

attitude shayari

A settled way of thinking or feeling about something. A positive attitude doesn’t mean ignoring life’s troubles. It just means being an optimist and looking for the good in things, rather being a pessimist and concentrating on the bad in things. In this post we are try to collect all type of unique Attitude Shayari. You can easily copy and share this Attitude Shayari in Hindi for SMS, WhatsApp network or any other social platforms in Hind language.

Koi Gurur Se Dekhe

Kaabil Najro Ke Liye Ham Jaan De De Par,
Koi Gurur Se Dekhe Ye Hame Manjoor Nahi.

Hamare Ishq Ne Mashoor Kar Diya Ai Bewafa,
Nahi  To Tu Surkhiyon Mein Rahe, Itni Aukaat Nahin.

Mohabbat Karna Hai To Dard Bhi Sahna Seekho,
Warna Aisa Karo Aukaat Me Rahna Seekho.

Apni Had Me Rahe Ai Waqt,
Yaad Rakh-Tere Saath Saath Mai Bhi Badloonga.

Mere Baare Mein Koi Rai Mat Banana Gaalib,
Mera Waqt Bhi Badlega Teri Rai Bhi…!

Mera Kuchh Na Ukhaad Sakoge Tum Mujhse Dushmani Karke,
Mujhe Barbaad Karna Chahate Ho To, Mujhse Mohabbat Kar Lo.

Rishte Unhi Se Banao Jo Nibhane ki Aukaat Rakhte Ho,
Baki Har Ek Dil Kaabil-Ai-Wafa Nahi Hota.

काबिल नजरो के लिये हम जान दे दे पर,
कोई गुरुर से देखे ये हमे मंजूर नही।

हमारे इश्क ने मशहूर कर दिया तुझे ऐ बेवफा,
नहीं तो तू सुर्खियों में रहे, इतनी औकात नहीं।

मोहब्बत करना है तो दर्द भी सहना सीखो,
वर्ना ऐसा करो औकात मे रहना सीखो।

अपनी हद मे रह… ए वक्त,
याद रख-तेरे साथ साथ ‘मै’ भी बदलूंगा।

मेरे बारे में कोई राय मत बनाना ग़ालिब,
मेरा वक्त भी बदलेगा तेरी राय भी…!

मेरा कुछ ना उखाड़ सकोगे तुम मुझसे दुश्मनी करके,
मुझे बर्बाद करना चाहते हो तो, मुझसे मोहब्बत कर लो।

रिश्ते उन्ही से बनाओ जो निभाने की औकात रखते हो,
बाकी हर एक दिल काबिल-ऐ-वफा नही होता।

Tu Mere Saath Nahi

Tu Mere Saath Nahi Chal Koi Baat Nahi, Lekin
Yeh Banda Tere Liye Aansu Bahaye Aisi Teri Aukaat Nahi.

Dil Se Agar De To Nafrat Bhi Kabool Hai,
Khairat Me To Teri Mohabbat Bhi Manjoor Nahi.

Log Hamen Samajhte Kam Hain Aur Samjhate Jyada Hain
Isalie Mamle Sulajhate Kam Hain Aur Ulajhte Jyada Hain.

Na-Khush Hai Ham Se Is Baat Par Zamana,
Shaamil Nahin Hai Hamari Fitrat Mein Sar Jhukana.

Kadr Hamari Bhi Karenge Ek Din Zamane wale Dekh Lena
Bas Jara Ye Bhalai Ki Buri Aadat Chhoot Jane Do.

Sun… Na Kar Shak Meri Mohabbat Par,
Agar Saboot Dene Par Aaya To Tu Badnaam Ho Jayegi.

तू मेरे साथ नही चल कोई बात नही, लेकिन
यह बंदा तेरे लिये आँसू बहाए ऐसी तेरी औकात नही।

दिल से अगर दे तो ​नफरत​ भी कबूल है​,
खैरात में तो तेरी मोहब्बत भी मंजूर नहीं।

लोग हमें समझते कम हैं और समझाते ज्यादा हैं,
इसलिए मामले सुलझते कम हैं और उलझते ज्यादा हैं।

न-खुश है हम से इस बात पर ज़माना,
शामिल नहीं है हमारी फ़ितरत में सर झुकाना।

कद्र हमारी भी करेंगे एक दिन ज़माने वाले देख लेना
बस जरा ये भलाई की बुरी आदत छूट जाने दो।

सुन… ना कर शक मेरी मोहब्बत पर,
अगर सबूत देने पर आया तो तू बदनाम हो जायेगी।

Dushman Ko Pyar Ho Jaye

Log Kahte Hain Ki Itni Dosti Mat Karo,
Ke Dost Dil Par Sawaar Ho Jaye,
Mein Kahta Hoon Dosti Itani Karo,
Ke Dushman Ko Bhi Tumse Pyar Ho Jaye.

Seediyan Unhe Mubarak Ho,
Jinhe Chhat Tak Jaana Hai,
Meri Manjil To Aasmaan Hai,
Rasta Mujhe Khud Banana Hai.

Meri Ladkhadaahat Tum,
Mujh Tak Hi Rahne Do,
Jo Baat Maine Hosh Ki Kar Di,
To Behosh Ho Jaoge.

लोग कहते हैं की इतनी दोस्ती मत करो,
के दोस्त दिल पर सवार हो जाए,
में कहता हूँ दोस्ती इतनी करो,
के दुश्मन को भी तुमसे प्यार हो जाए।

सीढिया उन्हे मुबारक हो,
जिन्हे छत तक जाना है,
मेरी मन्जिल तो आसमान है,
रास्ता मुझे खुद बनाना है।

मेरी लड़खड़ाहट तुम,
मुझ तक ही रहने दो,
जो बात मैंने होश की कर दी,
तो बेहोश हो जाओगे।

Mohabbat Ki Kya Aukaat

Vahi Hamare Kaabil Na Tha Dosto, Varna,
Mohabbat Ki Kya Aukaat Jo Hame Thukara De.

Chhede Is Sher Ko, Hai Kisiki Itani Aukaat,
Gardish Mein Gher Lete Hain Geedad Bhi Sher Ko.

Bikhar Jayen Tootkar Ham Vo Patte Nahin,
Hawaon Se Kaho Apni Aukaat Mein Rahen.

Chhod Diya Aavarapan To Hame Bhulane Lage Log,
Shauhrat Kadam Choomti Thi Jab Badnam Hua Karte The.

Tadap Jaegi Tu Pyaar Ki Ek Boond Ke Liye,
Main Aavara Baadal Hoon Kahin Aur Baras Jaunga.

Koi Nahin De Sakega Tumhen Chahat Hamari Tarah,
Hamare Baad Kahti Phirogi Hame Chaaho Uski Tarah.

वही हमरे काबिल न था दोस्तों, वरना,
मोहब्बत की क्या औकात जो हमे ठुकरा दे।

छेड़े इस शेर को, है किसीकी इतनी औकात,
गर्दिश में घेर लेते हैं गीदड़ भी शेर को।

बिखर जाएँ टूटकर हम वो पत्ते नहीं,
हवाओं से कहो अपनी औकात में रहें।

छोड़ दिया आवारापन तो हमे भुलाने लगे लोग,
शौहरत कदम चूमती थी जब बदनाम हुआ करते थे।

तड़प जाएगी तू प्यार की एक बूँद के लिए,
मैं आवारा बादल हूँ कहीं और बरस जाऊंगा।

कोई नहीं दे सकेगा तुम्हें चाहत हमारी तरह,
हमारे बाद कहती फिरोगी हमे चाहो उसकी तरह।

Wo Attitudai Hi Kya

Wo Attitudai Hi Kya,
Jo Waqt Ke Saath Toot Kar Bikhar Jaaye,
Agar Koi Kisi Se Dil Lagaye,
To Aise Lagaye Jaise Tez Aandhi
Sookhe Patto Ko Na Uda Paye.

वो Attitude ही क्या
जो वक्त के साथ टूट कर बिखर जाये,
अगर कोई किसी से दिल लगाये,
तो ऐसे लगाये जैसे तेज़ आंधी
सूखे पत्तो को न उड़ा पाए।

Qayamat Ka Har Toofaan

Mere Saath Jab Main Khud Khada Hota Hoon,
Tab Main Qayamat Ke Har Toofaan Se Bada Hota Hoon.

Jab Hamse Baat Karoge Tabhi Aukaat Samajh Paoge,
Door Se Andekha Karoge To Kaise Aukaat Samajh Paoge.

Husn Waalo Se Kah Do Itraana Chhod Den
Husn Nahi To Kya Itraana Hame Bhi Aata Hai.

Kitni Hi Siddat Se Sabhaal Lo Zindagi Ko Tum,
Koi Na Koi Kami Rah Hi Jaegi, Mere Bin.

मेरे साथ जब मैं खुद खड़ा होता हूँ,
तब मैं क़यामत के हर तूफ़ान से बड़ा होता हूँ।

जब हमसे बात करोगे तभी औकात समझ पाओगे
दूर से अनदेखा करोगे तो कैसे औकात समझ पाओगे।

हुस्न वालो से कह दो इतराना छोड़ दें
हुस्न नही तो क्या इतराना हमे भी आता है।

कितनी ही सिद्दत से सभाल लो ज़िन्दगी को तुम,
कोई न कोई कमी रह ही जाएगी, मेरे बिन।

Faqeer Mizaaz Hoon

Faqeer Mizaaz Hoon, Mai Apna Andaaz
Auron Se Juda Rakhati Hoon,
Log Masjido Me Jaate Hai,
Main Apne Dil Me Khuda Rakhti Hoon .

Bekhudi Ki Zindagi Ham Jiya Nahin Karte,
Jaam Doosron Se Chheenkar Ham Piya Nahin Karte,
Unko Mahobat Hai To Aakar Izahar Karen,
Peechha Ham Bhi Kisika Kiya Nahin Karate.

Zindagi Ki Har Ek Udaan Baaki Hai,
Har Mod Par Ek Imthaan Baaki Hai,
Abhi To Sirf Aap Hi Pareshaan Hai Mujhse,
Abhi To Poora Hindustaan Baaki Hai.

Rahate Hain Aas-Paas Hi,
Lekin Saath Nahi Hote,
Kuchh Log Jalte Hain Mujhse,
Bas Khaak Nahi Hote.

फ़क़ीर मिज़ाज़ हूँ, मै अपना अंदाज़
औरों से जुदा रखती हूँ,
लोग मस्जिदो मे जाते है,
मै अपने दिल मे ख़ुदा रखती हूँ।

बेखुदी की जिंदगी हम जिया नहीं करते,
जाम दूसरों से छीनकर हम पिया नहीं करते,
उनको महोबत है तो आकर इज़हार करें,
पीछा हम भी किसीका किया नहीं करते।

ज़िंदगी की हर एक उड़ान बाकी है,
हर मोड़ पर एक इम्तिहान बाकी है,
अभी तो सिर्फ़ आप ही परेशान है मुझसे,
अभी तो पूरा हिन्दुस्तान बाकी है।

रहते हैं आस-पास ही,
लेकिन साथ नही होते,
कुछ लोग जलते हैं मुझसे,
बस खाक नही होते।

Tasalli Se Padhe Hote

Tasalli Se Padhe Hote To Samajh Mein Aate Ham,
Zaroor Kuchh Panne Bina Padhe Hi Palat Diye Honge.

Ek Isi Usool Par Gujaari Hai Zindagi Maine,
Jisko Apna Mana Use Kabhi Parkha Nahin.

Jaise Har Sawaal Ka Jawab Nahi Hota,
Baise Hi Har Insaan Hamari Tarah Nawab Nahi Hota.

Bulandi Tak Pahunchna Chahta Hoon Main Bhi,
Par Galat Raaho Se Hokar Jaun Itni Jaldi Bhi Nahi.

Ham Ja Rahe Hain Bahan Jahan Dil Ki Ho Kadar,
Baithe Raho Tum Apni Adaen Liye Huye.

तसल्ली से पढ़े होते तो समझ में आते हम,
ज़रूर कुछ पन्ने बिना पढ़े ही पलट दिए होंगे।

एक इसी उसूल पर गुजारी है जिंदगी मैंने,
जिसको अपना माना उसे कभी परखा नहीं।

जैसे हर सवाल का जवाब नही होता,
वेसे ही हर इंसान हमारी तरह नवाब नही होता।

बुलंदी तक पहुंचना चाहता हूँ मै भी,
पर गलत राहो से होकर जाऊ इतनी जल्दी भी नही।

हम जा रहे हैं वहां जहाँ दिल की हो कदर,
बैठे रहो तुम अपने अदाएं लिए हुए।

Haq Se Agar Do

Haq Se Do Toh Tumhari Nafrat Bhi Qabool Humein,
Khairat Mein Toh Hum Tumhari Mohabbat Bhi Na Lein.

Sooraj Dhala Toh Kad Se Unche Ho Gaye Saaye,
Kabhi Pairo Se Raundi Thi Yehi Parchhaiyan Humne.

Hum Toh Aankhon Mein Sanwarte Hain Wahin Sanwrenge,
Hum Nahi Jaante Aayine Kahaan Rakhe Hain.

MujhKo Mere Wajood Ki Hadd Tak Na Jaaniye,
BeHadd Hoon, BeHisaab Hoon, BeIntehaan Hoon Main.

हक़ से दो तो तुम्हारी नफरत भी कबूल हमें,
खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें।

सूरज ढला तो कद से ऊँचे हो गए साये,
कभी पैरों से रौंदी थी यहीं परछाइयां हमने।

हम तो आँखों में संवरते हैं वहीं संवरेंगे,
हम नहीं जानते आईने कहाँ रखें हैं।

मुझको मेरे वजूद की हद तक न जानिए,
बेहद हूँ बेहिसाब हूँ बेइन्तहा हूँ मैं।

Toh Hukoomat Karte

Kee Mohabbat Toh Siyasat Ka Chalan Chhod Diya,
Hum Agar Pyar Na Karte Toh Hukoomat Karte.

Hum Bhi Bargad Ke Darakhton Ki Tarah Hain,
Jahan Dil Lag Jaye Wahan TaUmr Khade Rahte Hain.

Apni Zid Ko Anjaam Par Pahuncha Dun Toh Kya,
Tu Toh Mil Jayegi Par Teri Mohabbat Ka Kya.

Khuddariyon Mein Hadd Se Gujar Jana Chahiye,
Ijjat Se Jee Na Paaye Toh Mar Jaana Chahiye.

Kya Husn Ne Samjha Hai, Kya Ishq Ne Jaana Hai,
Hum Khak-Nashinon Ki Thhonkar Mein Zamana Hai.

Rehte Hain Aas-Paas Hi Lekin Saath Nahi Hote,
Kuchh Log Mujhse Jalte Hain Bas Khaak Nahi Hote.

की मोहब्बत तो सियासत का चलन छोड़ दिया,
हम अगर प्यार न करते तो हुकूमत करते।

हम भी बरगद के दरख़्तों की तरह हैं,
जहाँ दिल लग जाए वहाँ ताउम्र खड़े रहते हैं।

अपनी ज़िद को अंजाम पर पहुँचा दूँ तो क्या,
तू तो मिल जायेगी पर तेरी मोहब्बत का क्या?

खुद्दारियों में हद से गुजर जाना चाहिए,
इज्जत से जी न पाये तो मर जाना चाहिए।

क्या हुस्न ने समझा है, क्या इश्क ने जाना है,
हम खाक-नशीनों की ठोंकर में ज़माना है।

रहते हैं आस-पास ही लेकिन पास नहीं होते,
कुछ लोग मुझसे जलते हैं बस ख़ाक नहीं होते।

Chamak Chhod Jaaunga

Zarron Mein RahGujar Ke Chamak Chhod Jaaunga,
Pehchan Apni Dur Talak Chhod Jaaunga.
Khamoshiyon Ki Maut Ganwara Nahi Mujhe,
Sheesha Hoon Toot Kar Bhi Khanak Chhod Jaunga.

Mere Dushman Bhi Mere Mureed Hain Shayad,
Waqt-BeWaqt Mera Naam Liya Karte Hain,
Meri Gali Se Gujarte Hain Chhupa Ke Khanzar,
Ru-Ba-Ru Hone Par Salaam Kiya Karte Hain.

Haalat Ke Kadamo Par Sikandar Nahi Jhukte,
Toote Huye Taare Kabhi Zamin Par Nahi Girte,
Bade Shauk Se Girti Hai Lahrein Samundar Mein,
Par Samundar Kabhi Lahron Mein Nahi Girte.

ज़र्रों मे रहगुजर के चमक छोड़ जाऊँगा,
पहचान अपनी दूर तलक छोड़ जाऊँगा,
खामोशियों की मौत गंवारा नहीं मुझे,
शीशा हूँ टूटकर भी खनक छोड़ जाऊँगा।

मेरे दुश्मन भी मेरे मुरीद हैं शायद,
वक़्त-बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं,
मेरी गली से गुजरते हैं छुपा के खंजर,
रुबरू होने पर सलाम किया करते हैं।

हालात के कदमों पर समंदर नहीं झुकते,
टूटे हुए तारे कभी ज़मीन पर नहीं गिरते,
बड़े शौक से गिरती हैं लहरें समंदर में,
पर समंदर कभी लहरों में नहीं गिरते।

Mizaaj Mein Thodi Sakhti

Mizaaj Mein Thodi Sakhti Lazimi Hai Huzoor,
Log Pee Jaate Samandar Agar Khara Na Hota.

Meri Saadgi Hi GumNaam Rakhti Hai Mujhe,
Jara Sa Bigad Jaaun Toh MashHoor Ho Jaaun.

Zalzale Unchi Imaarat Ko Gira Sakte Nahi,
Main Toh Buniyaad Hun Mujhe Koi Khauf Nahi.

Jubaan Par Mohar Lagana Koi Badi Baat Nahi,
Badal Sako Toh Badal Do Mere Khayalon Ko.

Ugte Huye Sooraj Se Milate Hain Nigaahein,
Hum Gujari Hui Raat Ka Maatam Nahi Karte.

मिज़ाज में थोड़ी सख्ती लाज़िमी है हुज़ूर,
लोग पी जाते समंदर अगर खारा न होता।

मेरी सादगी ही गुमनाम में रखती है मुझे,
जरा सा बिगड़ जाऊं तो मशहूर हो जाऊं।

जलजले ऊँची इमारत को गिरा सकते हैं,
मैं तो बुनियाद हूँ मुझे कोई खौफ नहीं।

जुबां पर मोहर लगाना कोई बड़ी बात नहीं,
बदल सको तो बदल दो मेरे खयालों को।

उगते हुए सूरज से मिलाते हैं निगाहें,
हम गुजरी हुई रात का मातम नहीं करते।

Aadat Nahi Humari

Sahaare Dhhoondhne Ki Aadat Nahi Humari,
Hum Akele Poori Mehfil Ke Barabar Hain.

Thodi Khuddari Bhi Lajimi Thi Dosto,
Usne Haath Chhudaya Toh Humne Chhod Diya.

Tu Waqif Nahi Meri Deewangi Se,
Zidd Pe Aaoon Toh Khuda Bhi Dhhood Lu.

Shaam Ka Sooraj Hoon Puchhta Koi Nahi,
Jab Subah Hogi Main Hi Khuda Ho Jaunga.

Sudhar Gaya Main Toh Fir Pachhtaoge,
Ye Mera Junoon Hi Toh Meri Pehchan Hai.

Ishq Ki Holi Khelni Chhod Di Hai Humne,
Varna Har Chehre Par Rang Humara Hota.

सहारे ढूढ़ने की आदत नहीं हमारी,
हम अकेले पूरी महफ़िल के बराबर हैं।

थोड़ी खुद्दारी भी लाजिमी थी दोस्तो,
उसने हाथ छुड़ाया तो हमने छोड़ दिया।

तू वाकिफ़ नहीं मेरी दीवानगी से,
ज़िद पर आऊँ तो ख़ुदा भी ढूंढ़ लूँ।

शाम का सूरज हूँ पूछता कोई नहीं,
जब सुबह होगी मैं ही खुदा हो जाउंगा।

सुधर गया मैं तो फिर पछताओगे,
ये मेरा जूनून ही तो मेरी पहचान है।

इश्क़ की होली खेलनी छोड़ दी है हमने,
वरना हर चेहरे पे रंग हमारा ही होता।

Mohabbat Ho Ya Nafrat Ho

Ajeeb Si Aadat Aur Ghazab Ki Fitrat Hai Meri,
Mohabbat Ho Ke Nafrat Ho Bahut Shiddat Se Karta Hoon.

Tum Bahete Paani Se Ho Har Shakl Mein Dhal Jaate Ho,
Main Ret Sa Hoon Mujhse Kachche Ghar Bhi Nahi Bante.

Main Na Andar Se Samandar Hoon Na Baahar Se Aasmaan,
Bas Mujhe Utna Samajh Jitna Najar Aata Hoon Main.

Dikhawe Ki Mohabbat Toh Zamane Ko Hai Humse,
Yeh Dil Toh Wahan Bikega Jahan Jazbaton Ki Kadar Hogi.

Haath Mein Khanzar Hi Nahi Aankho Mein Paani Bhi Chahiye.
Humein Dushman Bhi Thoda Khandaani Chahiye.

अजीब सी आदत और गज़ब की फितरत है मेरी,
मोहब्बत हो कि नफरत हो बहुत शिद्दत से करता हूँ।

तुम बहते पानी से हो हर शक्ल में ढल जाते हो,
मैं रेत सा हूँ मुझसे कच्चे घर भी नहीं बनते।

मैं न अन्दर से समंदर हूँ न बाहर आसमान,
बस मुझे उतना समझ जितना नजर आता हूँ मैं।

दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को है हमसे पर,
ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ ज़ज्बातो की कदर होगी।

हाथ में खंजर ही नहीं आँखों में पानी भी चाहिए,
हमें दुश्मन भी थोड़ा खानदानी चाहिए।

Bandgi Toh Apni Fitrat Hai

Dil Hai Kadmon Pe Kisi Ke Sar Jhuka Ho Ya Na Ho,
Bandgi Toh Apni Fitrat Hai Khuda Ho Ya Na Ho.

Bas Deewangi Ki Khatir Teri Gali Mein Aate Hain,
Varna Aawargi Ke Liye Toh Saara Shahar Pada Hai.

Jara Sa Hat Ke Chalta Hoon Zamane Ki Riwayat Se,
Ke Jinpe Bojh Dala Ho Woh Kandhe Yaad Rakhta Hoon.

Farq Bahut Hai Tumhari Aur Humari Taleem Mein.
Tumne Ustaadon Se Seekha Hai Aur Humne Halaton Se.

HaraKar Koi Jaan Bhi Le Le Toh Manzoor Hai Mujhko,
Dhokha Dene Walon Ko Main Fir Mauka Nahi Deta.

Humein Shayar Samajh Ke Yoon Najar Andaz Mat Kariye,
Najar Hum Fer Le Toh Husn Ka Bazar Gir Jayega.

दिल है कदमों पे किसी के सर झुका हो या न हो,
बंदगी तो अपनी फ़ितरत है ख़ुदा हो या न हो।

बस दीवानगी की खातिर तेरी गली मे आते हैं,
वरना आवारगी के लिए तो सारा शहर पड़ा है।

जरा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रिवायत से,
कि जिन पे बोझ डाला हो, वो कंधे याद रखता हूँ।

फर्क बहुत है तुम्हारी और हमारी तालीम में,
तुमने उस्तादों से सीखा है और हमने हालातों से।

हराकर कोई जान भी ले ले तो मंज़ूर है मुझको,
धोखा देने वालों को मैं फिर मौका नहीं देता।

हमें शायर समझ के यूँ नजर अंदाज मत करिये,
नजर हम फेर ले तो हुस्न का बाजार गिर जायेगा।

Mulakaton Ke Lahje

Main Logon Se Mulakato Ke Lamhe Yaad Rakhta Hoon,
Baatein Bhool Bhi Jaaun Par Lahje Yaad Rakhta Hoon.

Na Main Gira Na Meri Umeedon Ke Meenar Gire,
Par Kuchh Log Mujhe Giraane Mein Kayi Baar Gire.

Zamin Par Aao Phir Dekho Humari Ahmiyat Kya Hai,
Bulandi Se Kabhi Zarron Ka Andaza Nahi Hota.

Kaafile Mein Peechhe Hoon Kuchh Baat Hai Varna,
Meri Khaak Bhi Na Paate Mere Saath Chalne Wale.

Sahi Waqt Par Karwa Denge Hadon Ka Ahsaas,
Kuchh Talaab Khud Ko Samandar Samajh Baithhe Hain.

मैं लोगों से मुलाकातों के लम्हें याद रखता हूँ,
बातें भूल भी जाऊं पर लहजे याद रखता हूँ।

न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे,
पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे।

ज़मीं पर आओ फिर देखो हमारी अहमियत क्या है,
बुलंदी से कभी ज़र्रों का अंदाज़ा नहीं होता।

क़ाफ़िले में पीछे हूँ कुछ बात है वरना,
मेरी ख़ाक भी ना पाते मेरे साथ चलने वाले।

सही वक्त पर करवा देंगे हदों का एहसास,
कुछ तालाब खुद को समंदर समझ बैठे हैं।

Mujhe MashHoor Kar Diya

Ehsaan Yeh Raha Tohmat Lagane Walon Ka Mujh Par,
UthhTi Ungliyon Ne Mujhe MashHoor Kar Diya.

Chhod Di Hai Ab Humne Wo Fankaari Varna,
Tujh Jaise Haseen Toh Hum Kalam Se Bana Dete The.

Gumaan Na Kar Apne Dimaag Par Ai Dost,
Jitna Tere Paas Hai Utna Mera Kharab Rehta Hai.

Shor Karte Raho Tum Surkhiyon Me Aane Ka,
Humari Toh Khamoshiyan Bhi Ek Akhbaar Hain.

Meri Yehi Andaaj Iss Zamane Ko Khalta Hai, Ke
Itna Peene Ke Baad Bhi Seedha Kaise Chalta Hai.

Naaz Kya Iss Pe Jo Badla Zamane Ne Tumhein,
Hum Hain Woh Jo Zamane Ko Badal Dete Hain.

एहसान ये रहा तोहमत लगाने वालों का मुझ पर,
उठती उँगलियों ने मुझे मशहूर कर दिया।

छोड़ दी है अब हमने वो फनकारी वरना,
तुझ जैसे हसीन तो हम कलम से बना देते थे।

गुमान ना कर अपने दिमाग पर ऐ दोस्त,
जितना तेरे पास है उतना तो मेरा खराब रहता है।

शोर करते रहो तुम सुर्ख़ियों में आने का,
हमारी तो खामोशियाँ भी एक अखबार हैं।

मेरा यही अंदाज इस जमाने को खलता है, कि
इतना पीने के बाद भी सीधा कैसे चलता है।

नाज़ क्या इस पे जो बदला ज़माने ने तुम्हें,
हम हैं वो जो ज़माने को बदल देते हैं।

Gumaan Itna Nahi Achha

Gumaan Itna Nahi Achha Tu Sunn Le Pehle Jaane Ke,
Paltne Par Mukar Sakta Hun Tujhko JanNe Se Bhi.

Mere Lafzon Se Na Kar Mere Kirdar Ka Faisla,
Tera Wajood Mit Jayega Meri Hakiqat Dhhoondte Dhhoondte.

Mahboob Ka Ghar Ho Ya Farishton Ki Ho Zamin,
Jo Chhod Diya Phir Use Mudkar Nahi Dekha.

Khwab Mein Toh Khwab Poore Ho Nahi Sakte Kabhi,
IsLiye Raahe-Hakiqat Par Chala Karta Hun Main.

Sabke Dilon Mein Dhadkana Jaruri Nahi Hota Saahab,
Logon Ki Aankhon Me Khatkne Ka Bhi Ek Mazaa Hai.

गुमां इतना नहीं अच्छा तू सुन ले पहले जाने के,
पलटने पर मुकर सकता हूँ तुझको जानने से भी।

मेरे लफ्जों से न कर मेरे किरदार का फ़ैसला,
तेरा वजूद मिट जायेगा मेरी हकीकत ढूंढ़ते ढूंढ़ते।

महबूब का घर हो या फरिश्तों की हो ज़मी,
जो छोड़ दिया फिर उसे मुड़ कर नहीं देखा।

ख्वाब में तो ख्वाब पूरे हो नहीं सकते कभी,
इसलिए राहे हकीकत पर चला करता हूँ मैं।

सबके दिलों में धड़कना जरूरी नहीं होता साहब,
लोगों की आँखों में खटकने का भी एक मजा है।

Samandar Baha Dene Ka Jigar

Samandar Baha Dene Ka Jigar Toh Rakhte Hain Lekin,
Humein Aashiqi Ki Numaish Ki Aadat Nahi Hai Dost.

Mere Baare Mein Apni Soch Ko Thhoda Badal Ke Dekh,
Mujhse Bhi Bure Hain Log Tu Ghar Se Nikal Ke Dekh.

Haadson Ki Jad Mein Hain Toh Kya Muskurana Chhod Dein,
Jaljalon Ke Khauf Se Kya Ghar Banana Chhod Dein.

Maar Hi Dale Jo Be-Maut Yeh Duniya Wale,
Hum Jo Zinda Hain Toh Jeene Ka Hunar Rakhte Hain.

Meri Himmat Ko Parakhne Ki Gustakhi Na Karna,
Pehle Bhi Kayi Toofano Ka Rukh Mor Chuka Hu.

समंदर बहा देने का जिगर तो रखते हैं लेकिन​,
​हमें आशिक़ी की नुमाइश की आदत नहीं है दोस्त​।

​मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदल के देख​,
​मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकल के देख​।

हादसों की ज़द में हैं तो क्या मुस्कुराना छोड़ दें,
जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें?

मार ही डाले जो बे मौत ये दुनिया वाले,
हम जो जिन्दा हैं तो जीने का हुनर रखते है।

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,
पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ।

Sar Jhukana Nahi Aata

Lakh Talwarein Badi Aati Hon Gardan Ki Taraf,
Sar Jhukana Nahi Aata Toh Jhukayein Kaise.

Humko Mita Sake Yeh Zamane Mein Dam Nahi,
Humse Zamana Khud Hai Zamane Se Hum Nahi.

Hum Na Badlenge Waqt Ki Raftar Ke Saath,
Jab Bhi Milenge Andaaz Purana Hoga.

ilaaj Yeh Hai Ke Majboor Kar Diya Jaaun,
Wagrana Yun Toh Kisi Ki Nahi Suni Maine.

Aag Lagana Meri Fitrat Mein Nahi Hai,
Meri Saadgi Se Log Jale Toh Mera Kya Kasoor.

Thhehar Sake Jo Labon Pe Humare,
Hansi Ke Siwa Hai Majaal Kiski.

Log Wakif Hain Meri Aadaton Se,
Rutba Kam Hi Sahi LaJawab Rakhta Hun.

लाख तलवारे बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ,
सर झुकाना नहीं आता तो झुकाए कैसे।

हमको मिटा सके यह ज़माने में दम नहीं,
हमसे ज़माना ख़ुद है ज़माने से हम नहीं।

हम ना बदलेंगे वक्त की रफ़्तार के साथ,
हम जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा।

इलाज ये है कि मजबूर कर दिया जाऊँ,
वगरना यूँ तो किसी की नहीं सुनी मैंने।

आग लगाना मेरी फितरत में नही है,
मेरी सादगी से लोग जलें तो मेरा क्या कसूर।

ठहर सके जो लबों पे हमारे,
हँसी के सिवा है मजाल किसकी।

लोग वाकिफ हैं मेरी आदतों से,
रूतबा कम ही सही पर लाजवाब रखता हूँ।

Mujhe Nakam Hone Do

Abhi Suraj Nahi Dooba Zara Si Shaam Hone Do,
Main Khud Hi Laut Jaunga Mujhe Nakam Hone Do,
Mujhe Badnaam Karne Ka Bahana Dhundhte Kyun Ho,
Main Khud Ho Jaunga Badnaam Pehle Naam Hone Do.

Kehte Hain Har Baat Jubaan Se Hum Ishara Nahi Karte,
Aasman Par Chalne Wale Zamin Se Gujara Nahi Karte,
Har Halat Ko Badlne Ki Himmat Hai Hum Mein,
Waqt Ka Har Faisla Hum Ganwara Nahi Karte.

Hum Achhe Sahi Par Log Kharab Kehte Hain,
Iss Desh Ka Bigda Hua Humein Nawab Kehte Hain,
Hum Aise Badnaam Huye Iss Shahar Mein,
Ke Paani Bhi Piyein Toh Log Use Sharab Kehte Hain.

अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो,
मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो,
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते क्यों हो,
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो।

कहते है हर बात जुबां से हम इशारा नहीं करते,
आसमान पर चलने वाले जमीं से गुज़ारा नहीं करते,
हर हालात को बदलने की हिम्मत है हम में,
वक़्त का हर फैसला हम गंवारा नहीं करते।

हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं,
इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं,
हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में,
कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं।

Jinhein Haasil Nahi Hum

Yeh Mat Samajh Tere Kabil Nahi Hain Hum,
Tadap Rahe Hain Woh Jinhein Haasil Nahi Hain Hum.

Hum Jaa Rahe Hai Waha Jahan Dil Ki Ho Kadar,
Baithe Raho Tum Apni Adaayein Liye Huye.

Teri Mohabbat Ko Kabhi Khel Nahi Samjha,
Varna Khel Toh Itne Khele Hain Ki Kabhi Haare Nahi.

Jo Shiddat Se Chahoge Toh Hogi Aarzoo Poori,
Hum Woh Nahi Jo Tumhein Khairaat Mein Mil Jayein.

Main Mohabbat Karta Hun Toh Toot Ke Karta Hun,
Ye Kaam Mujhe Jarurat Ke Mutabik Nahi Aata.

Ek Isee Usool Par Gujari Hai Zindagi Maine,
Jisko Apna Maana Use Kabhi Parkha Nahin.

Pyar Ke Do Meethhe Bol Se Khareed Lo MujhKo,
Daulat Dikhayi Toh Saare Jahaan Ki Kam Padegi.

ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम,
तड़प रहे हैं वो जिसे हासिल नहीं हैं हम।

हम जा रहे हैं वहां जहाँ दिल की हो क़दर,
बैठे रहो तुम अपनी अदायें लिये हुए।

तेरी मोहब्बत को कभी खेल नहीं समझा,
वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नहीं।

जो शिद्दत से चाहोगे तो होगी आरज़ू पूरी,
हम वो नहीं जो तुम्हें खैरात में मिल जायें।

मैं मोहब्बत करता हूँ तो टूट कर करता हूँ,
ये काम मुझे जरूरत के मुताबिक नहीं आता।

एक इसी उसूल पर गुजारी है जिंदगी मैंने,
जिसको अपना माना उसे कभी परखा नहीं।

प्यार के दो मीठे बोल से खरीद लो मुझे,
दौलत दिखाई तो सारे जहां की कम पड़ेगी।

Logon Ko Jalaya Jaye

Chalo Aaj Phir Thoda Muskuraya Jaye,
Bina Maachis Ke Logon Ko Jalaya Jaye.

Jise Nibha Na Sakun Aisa Vaada Nahi Karta,
Daava Koi Aukaat Se Jyada Nahin Karta.

Sambhal Kar Kiya Karo Logo Se Buraai Meri,
Tumhare Tamaam Apne Mere Hi Mureed Hain.

Aisa Nahi Ke Kad Apne Ghat Gaye,
Chadar Ko Apni Dekh Kar Hum Khud Simat Gaye.

Aksar Wohi Log Uthhate Hain Hum Par Ungliyan,
Jinki Humein Chhune Ki Aukaat Nahi Hoti.

Log Agar Yun Hi Kamiyan Nikalte Rahe Toh,
Ek Din Sirf Khubiyan Hi Reh Jayengi Mujh Mein.

Ruthha Hua Hai Mujhse Iss Baat Par Zamana,
Shamil Nahin Hai Meri Fitrat Mein Sar Jhukana.

चलो आज फिर थोडा मुस्कुराया जाये,
बिना माचिस के कुछ लोगो को जलाया जाये।

जिसे निभा न सकूँ ऐसा वादा नहीं करता,
दावा कोई औकात से ज्यादा नहीं करता।

संभल कर किया करो लोगो से बुराई मेरी,
तुम्हारे तमाम अपने मेरे ही मुरीद हैं।

ऐसा नहीं कि कद अपने घट गए,
चादर को अपनी देख कर हम खुद सिमट गए।

अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ,
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती।

अगर लोग यूँ ही कमियां निकालते रहे तो,
एक दिन सिर्फ खूबियाँ ही रह जायेगी मुझमें।

रूठा हुआ है मुझसे इस बात पर ज़माना,
शामिल नहीं है मेरी फ़ितरत में सर झुकाना।

Anjaam Ki Parwaah

Zamin Par Rah Kar Aasmaan
Chhune Ki Fitrat Hai Meri,
Par Gira Kar Kisi Ko
Upar Uthane Ka Shauk Nahi Mujhe.

Humari Haisiyat Ka Andaza,
Tum Yeh Jaan Ke Laga Lo,
Hum Kabhi Unke Nahi Hote,
Jo Har Kisi Ke Ho Gaye.

Anjaam Ki Parwaah Hoti Toh,
Hum Mohabbat Karna Chhod Dete,
Mohabbat Mein Toh Zid Hoti Hai,
Aur Zid Ke Bade Pakke Hain Hum.

Hum Woh Hain Jo Aankhon Mein
Jhaank Ke Sach Jaan Lete Hain,
Mohabbat Hai Isliye Tere
Jhoothh Ko Sach Maan Lete Hain.

ज़मीं पर रह कर आसमां
छूने की फितरत है मेरी,
पर गिरा कर किसी को,
ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे।

हमारी हैसियत का अंदाज़ा,
तुम ये जान के लगा लो,
हम कभी उनके नहीं होते,
जो हर किसी के हो गए।

अंजाम की परवाह होती तो,
हम मोहब्बत करना छोड़ देते,
मोहब्बत में तो जिद्द होती है,
और जिद्द के बड़े पक्के हैं हम।

हम वो हैं जो आँखों में
झाँक के सच जान लेते हैं,
मोहब्बत है इसलिये तेरे
झूठ को सच मान लेते हैं।

Bhulna Humein Bhi Aata Hai

Bhulkar Hamein Agar Tum Rehte Ho Salamat,
Toh BhulKe Tumko Sambhlna Humein Bhi Aata Hai,
Meri Fitrat Mein Yeh Aadat Nahi Hai Varna,
Teri Tarah Badal Jana Humein Bhi Aata Hai.

Meri Takdeer Mein Jalna Hai Toh Jal Jaunga,
Main Koi Tera Vada Toh Nahi Jo Badal Jaunga,
MujhKo Na Samjhao Meri Zindagi Ke Usool,
Main Khud Hi Thhokar Kha Ke Sambhal Jaunga.

भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत,
तो भूलके तुमको संभलना हमें भी आता है,
मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना,
तेरी तरह बदल जाना हमें भी आता है।

मेरी तकदीर में जलना है तो जल जाऊँगा,
मैं कोई तेरा वादा तो नहीं जो बदल जाऊँगा,
मुझको न समझाओ मेरी जिंदगी के उसूल,
मैं खुद ही ठोकर खा के संभल जाऊँगा।

Chamak Mere Kirdaar Ki

Chamak Suraj Ki Nahi Mere Kirdaar Ki Hai,
Khabar Ye Aasmaan Ke Akhbaar Ki Hai,
Main Chaloon To Mere Sang Kaarwan Chale,
Baat Guroor Ki Nahi Aitwaar Ki Hai.

Suraj, Chand Aur Sitare Mere Saath Mein Rahe,
Jab Tak Tumhara Haath Mere Haath Mein Rahe,
Shakhon Se Jo Toot Jaye Woh Patta Nahi Hain Hum,
Aandhi Se Koi Keh De Ke Aukaat Main Rahe.

Gujarte Lmahon Mein Sadiyan Talaash Karta Hu,
Pyaas Itni Hai Ke Nadiyan Talash Karta Hun,
Yeha Par Log Ginaate Hain Khoobiyan Apni,
Main Apne Aap Mein Kamiyan Talaash Karta Hun.

चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है,
खबर ये आसमाँ के अखबार की है,
मैं चलूँ… तो मेरे संग कारवाँ चले,
बात गुरूर की नहीं, ऐतबार की है।

सूरज, चाँद और सितारे मेरे साथ में रहे,
जब तक तुम्हारा हाथ मेरे हाथ में रहे,
शाखों से जो टूट जाये वो पत्ता नहीं हैं हम,
आंधी से कोई कह दे कि औकात में रहे।

गुजरते लम्हों में सदियाँ तलाश करता हूँ,
प्यास इतनी है कि नदियाँ तलाश करता हूँ,
यहाँ पर लोग गिनाते है खूबियां अपनी,
मैं अपने आप में कमियाँ तलाश करता हूँ।

Behisaab Muskura Deta Hun

Dushmano Ko Sazaa Dene Ki Ek Tehzeeb Hai Meri,
Main Haath Nahi Uthhata Bas Najron Se Gira Deta Hun.

Bewaqt, Bewahaj, Behisaab Muskura Deta Hun,
Aadhe Dushmano Ko Toh Yun Hi Haraa Deta Hun.

Khote Sikke Jo Abhi Abhi Chale Hain Baajar Mein,
Woh Kamiyan Nikaal Rahe Hain Mere Kirdaar Mein.

Abhi Sheesha Hun Sabki Aankho Mein Chubhta Hun,
Jab Aayina Banunga Saara Jahaan Dekhega.

Hum Basaa Lenge Ek Duniya Kisi Aur Ke Saath,
Tere Aage Royein Ab Itne Bhi Begairat Nahi Hain Hum.

Be-Matlab Ki Zindgi Ka SilSila Khatm,
Ab Jis Tarah Ki Duniya Uss Tarah Ke Hum.

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ।

बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ,
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ।

खोटे सिक्के जो अभी अभी चले हैं बाजार में,
वो कमियाँ निकाल रहे हैं मेरे किरदार में।

अभी शीशा हूँ सबकी आँखों में चुभता हूं,
जब आईना बनूँगा सारा जहाँ देखेगा।

हम बसा लेंगें एक दुनिया किसी और के साथ,
तेरे आगे रोयें अब इतने भी बेगैरत नहीं हैं हम।

बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म,
अब जिस तरह की दुनिया उस तरह के हम.

Koshish Yehi Rahti Hai

Koshish Yehi Rahti Hai Ki
Humse Kabhi Koyi Ruthe Na,
Magar Nazar Andaaz Karne Wale Ko
Palat Kar Hum Bhi Nahi Dekhte.

Woh Khud Par Garoor Karte Hai,
To Isme Hairat Ki Koi Baat Nahi.
Jinhe Hum Chahte Hai,
Woh Aam Ho Hi Nahi Sakte.

Kah Do Uss Se Gar Judai Ajeej Hai
Toh Roothh Jaye Humse,
Woh Humare Bin Jee Sakta Hai
Toh Hum Bhi Mar Nahi Jayenge.

Todenge Guroor Ishq Ka Aur
Iss Kadar Sudhar Jayenge,
Khadi Rahegi Mohabbat Aur
Hum Saamne Se Gujar Jayenge.

कोशिश यही रहती है कि
हमसे कभी कोई रूठे ना,
मगर नजर अंदाज करने वालो को
पलट कर हम भी नही देखते।

वो खुद पे इतना गुरूर करते हैं,
तो इसमें हैरत की बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते हैं,
वो आम हो ही नहीं सकते।

कह दो उसे गर जुदाई अजीज है
तो रूठ जाये हमसे,
वो हमारे बिन जी सकता है
तो हम भी मर नहीं जायेंगे।

तोड़ेंगे गुरुर इश्क का और
इस कदर सुधर जायेंगे,
खड़ी रहेगी मोहब्बत और
हम सामने से गुजर जायेंगे।

Shakhsiyat Ki Kya Misaal Doon

Apni Shakhsiyat Ki Kya Misaal Du Yaro
Na Jane Kitne MashHoor Ho Gaye
Mujhe Badnaam Karte Karte.

Itna Bhi Gumaan Na Kar
Apni Jeet Par Ai Bekhabar,
Shahar Me Teri Jeet Se Zyada Charche To
Meri Haar Ke Hain.

Aadten Buri Nahi Shauk Unche Hain,
Varna Kisi Khwab Ki Itni Aukat Nahi Ki
Hum Dekhen Aur Poora Na Ho.

Khud Se Jeetne Ki Zid Hai Meri,
Mujhe Khud Ko Hi Harana Hai,
Main Bheed Nahi Hoon Zamane Ki,
Mere Andar Hi Zamana Hai.

Aankh Uthha Kar Bhi Na Dekhun,
Jis Se Mera Dil Na Mile,
Jabran Sabse Haath Milana,
Mere Bas Ki Baat Nahin.

अपनी शख्शियत की क्या मिसाल दूँ यारों
ना जाने कितने मशहूर हो गये
मुझे बदनाम करते करते।

इतना भी गुमान न कर
अपनी जीत पर ऐ बेखबर,
शहर में तेरे जीत से ज्यादा
चर्चे तो मेरी हार के हैं।

आदते बुरी नहीं, शौक ऊँचे हैं,
वर्ना किसी ख्वाब की इतनी औकात नही कि,
हम देखे और पूरा ना हो।

खुद से जीतने की जिद है मेरी,
मुझे खुद को ही हराना है,
मैं भीड़ नहीं हूँ दुनिया की,
मेरे अन्दर ही ज़माना है।

आँख उठाकर भी न देखूँ,
जिससे मेरा दिल न मिले,
जबरन सबसे हाथ मिलाना,
मेरे बस की बात नहीं।

You may like to visit: Love Shayari