Home Uncategorized Love Shayari

Love Shayari

Hindi Love Shayari

Hindi Love Shayari: Love is the most wonderful blessing given by the creator in this world. When someone falls in love with someone, s/he is ready to do anything for that person. The person we love doesn’t need to always be with us or s/he should also give us love in return. The person receiving it, realize and feel it, considers it to be the most exceptional security in the world. True love is regarded as the meeting of the hearts of two human beings, which is far from physical and material desires.

When two hearts join together in truth, then no strength, no restriction can separate them. Many times due to situation lover have to go through a difficult time with a broken heart. But the truth is that where there is true love, even if you have to get away from your lover, you do not break your heart, because the name loves. It is to realize, not to experience, but always physically to connect with each other. If you also love someone, then that person must know about this love of yours, because many times it has been seen that people get away from their love also because they love their loved ones in time. If love is growing in your heart for someone, then express your love as soon as possible. When love is expressed with love Shayari and Love Shayari Hindi, then it helps your beloved one to understand the depths of your love. That is why if you want to tell someone about your love, later you try to express your feelings and thoughts of your heart with the poets.

To help you, expressing your love and feelings, we have collect heart touching Hindi Love Shayari for girlfriends or boyfriends. You can convince your wicked lover and also express your love with him. Here some love poets and best Hindi Shayari have been brought which will surely be able to drag the heart of your beloved. Through these Love Shayari, you will surely be able to create a special place in the heart of your beloved. You can share these Hindi Love Shayari About Love with your friends on Facebook and WhatsApp.

Ahmed Faraz Love Shayari Collection

Koyi Muntazir Hai Uska Kitni Shiddat Se Faraz,
Woh Janta Hai Par Anjaan Bana Rehta Hai.

Hum Apni Rooh Tere Jism Mein Hi Chhor Aaye Faraz,
Tujhe Gale Se Lagana Toh Bas Ek Bahana Tha.

Mere Jazbaat Se Waqif Hai Mera Qalam Faraz,
Main Pyaar Likhoon To Tera Naam Likh Jata Hai.

Yeh Wafa Toh Uss Waqt Ki Baat Hai Faraz,
Jab Makaan Kachche Aur Log Sachche Hua Karte The.

Woh Meri Pehli Mohabba Woh Meri Pehli Shikast,
Phir Toh Paimane-Wafa Sau Martaba Maine Piya.

Kyu Ulajhta Rahta Hai Tu Logon Se Faraz,
Yeh Jaruri Toh Nahi Woh Chehra Sabhi Ko Payara Lage.

कोई मुन्तजिर है उसका कितनी शिद्दत से फ़राज़,
वो जानता है पर अनजान बना रहता है।

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में ही छोड़ आये फ़राज़,
तुझसे गले लगाना तो बस एक बहाना था।

मेरे जज़्बात से वाकिफ है मेरा कलम फ़राज़,
मैं प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिख जाता है।

ये वफ़ा तो उस वक्त की बात है ऐ फ़राज़,
जब मकान कच्चे और लोग सच्चे हुआ करते थे।

वो मेरी पहली मोहब्बत वो मेरी पहली शिकस्त,
फिर तो पैमाने-वफ़ा सौ मर्तबा मैंने किया।

क्यों उलझता रहता है तू लोगों से फ़राज़,
ये जरूरी तो नहीं वो चेहरा सभी को प्यारा लगे।

Dr. Kumar Vishwas Love Shayari

Mohabbat Ek Ehsaaso Ki, Pawan Si Kahani Hai,
Kabhi Kabira Diwana Tha, Kabhi Mira Diwani Hai,
Yahan Sab Log Kahte Hain Meri Aankho Me Ansoon Hain,
Jo Tu Samjhe To Moti Hai, Jo Na Samjhe To Pani Hai.

Tumhin Pe Marta Hai Yeh Dil Adawat Kyun Nahi Karta,
Kayi Janmon Se Bandi Hai Bagawat Kyun Nahi Karta,
Kabhi Tumse Thi Jo Wo Hi Shikayat Hai Zamane Se,
Meri Tareef Karta Hai Mohabbat Kyun Nahin Karta.

Bhramar Koi Kumudani Par Machal Baithha Toh Hangama,
Humare Dil Mein Koi Khwab Pal Baithha Toh Hangama,
Abhi Tak Doob Kar Sunte The Sab Kissa Mohabbat Ka,
Main Kisse Ko Hakiqat Mein Badal Baithha Toh Hangama.

Tumhare Paas Hoon Lekin Jo Doorie Hai, Samjhta Hoon,
Tumhare Bin Meri Hasti Adhoori Hai, Samjhta Hoon,
Tumhein Main Bhool Jaunga Yeh Mumkin Hai Nahi Lekin,
Tumhi Ko Bhoolna Sabse Jaroori Hai Samjhta Hoon.

तुम्हीं पे मरता है ये दिल अदावत क्यों नहीं करता,
कई जन्मों से बंदी है बगावत क्यों नहीं करता,
कभी तुमसे थी जो वो ही शिकायत है ज़माने से,
मेरी तारीफ़ करता है मोहब्बत क्यों नहीं करता।

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा,
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा,
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का,
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा।

मोहब्बत एक अहसासों की, पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था, कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है।

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है, समझता हूँ,
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है, समझता हूँ,
तुम्हें मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन,
तुम्हीं को भूलना सबसे जरूरी है, समझता हूँ।

Mir Love Shayari Collection

Ibteda-e-Ishq Hai Rota Hai Kya,
Aage Aage Dekhiye Hota Hai Kya.

Ishq Ik Mir Bhari Patthar Hai,
Kab Yeh Tujh Na-Tawan Se UthhTa Hai. (ना-तवाँ – कमजोर)

Ishq Mein Jee Ko Sabr-Taab Kahan,
Uss Se Aankhein Ladi Toh Khwab Kahan.

Kaya Kahun Tumse Main Ke Kya Hai Ishq,
Jaan Ka Rog Hai Balaa Hai Ishq.

Yaad Uss Ki Itni Khoob Nahi Mir Baaz Aa,
Nadaan Phir Wo Jee Se Bhulaya Na Jayega.

Ab Kar Ke Faramosh Toh Nashaad Karoge,
Par Hum Jo Na Honge Toh Bahut Yaad Karoge.

Jin-Jin Ko Tha Yeh Ishq Ka Aazaar Mar Gaye,
Aksar Humare Saath Ke Beemar Mar Gaye.

Hoga Kisi Deewar Ke Saaye Mein Pada Mir,
Kya Kaam Mohabbat Se Uss Aaram-Talab Ko.

इब्तिदा-ए-इश्क़ है रोता है क्या,
आगे आगे देखिए होता है क्या।

इश्क़ इक मीर भारी पत्थर है,
कब ये तुझ ना-तवाँ से उठता है। (ना-तवाँ – कमजोर)

इश्क़ में जी को सब्र-ताब कहाँ,
उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ।

क्या कहूँ तुम से मैं कि क्या है इश्क़,
जान का रोग है बला है इश्क़।

याद उस की इतनी ख़ूब नहीं मीर बाज़ आ,
नादान फिर वो जी से भुलाया न जाएगा।

अब कर के फ़रामोश तो नाशाद करोगे
पर हम जो न होंगे तो बहुत याद करोगे।

जिन जिन को था ये इश्क़ का आज़ार मर गए,
अक्सर हमारे साथ के बीमार मर गए।

होगा किसी दीवार के साए में पड़ा मीर,
क्या काम मोहब्बत से उस आराम-तलब को।

Allama Iqbal Love Shayari Collection

Ishq Bhi Ho Hijaab Mein Husn Bhi Ho Hijaab Mein,
Yaa Toh Khud Aashkaar Ho Ya Mujhe Aashkaar Kar.

Ishq Teri Intehaan Ishq Meri Intehaan,
Tu Bhi Abhi Na-Tamaam Main Bhi Abhi Na-Tamaam.

Faqat Nigaah Se Hota Hai Faisla Dil Ka,
Na Ho Nigaah Mein Shokhi Toh Dilbari Kya Hai.

Anokhi Bazaa Hai Saare Zamaane Se Niraale Hain,
Ye Aashiq Kaun Si Basti Ke Ya Rab Rahne Wale Hain.

Mohabbat Ki Tamanna Hai Toh Phir Wo Vasf Paida Kar,
Jahan Se Ishq Chalta Hai Wahan Tak Naam Paida Kar.

Akal Ayyaar Hai Sau Bhesh Bana Leti Hai,
Ishq Bechara Na Mulla Hai Na Zahid Na Hakeem.

Abhi Kamsin Hain Zidein Bhi Hain Nirali Unki,
Iss Pe Machle Hain Hum Dard-e-Jigar Dekhenge.

Idhar Humse Bhi Baat Lakh Karte Hain Lagawat Ki,
Udhar Gairo Se Bhi Kuchh Vaade Hote Jate Hain.

Maar Daalegi Mujhe Yeh Khusbayani Aapki,
Maut Bhi Aayegi Mujhko Toh Jabani Aapki.

इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में,
या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर।

इश्क़ तेरी इन्तेहाँ इश्क़ मेरी इन्तेहाँ,
तू भी अभी ना-तमाम मैं भी अभी ना-तमाम।

फ़क़त निगाह से होता है फ़ैसला दिल का,
न हो निगाह में शोख़ी तो दिलबरी क्या है।

अनोखी वजाअ है सारे ज़माने से निराले हैं,
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या रब रहने वाले हैं।

मोहब्बत की तमन्ना है तो फिर वो वस्फ़ पैदा कर,
जहाँ से इश्क चलता है वहाँ तक नाम पैदा कर।

अक्ल अय्यार है सौ भेष बना लेती है,
इश्क बेचारा न मुल्ला है न जाहिद न हकीम।

अभी कमसिन हैं जिदें भी हैं निराली उनकी,
इस पे मचले हैं हम दर्द-ए-जिगर देखेंगे।

इधर हमसे भी बात लाख करते हैं लगावत की,
उधर गैरों से भी कुछ वादे होते जाते हैं।

मार डालेगी मुझे ये खुशबयानी आपकी,
मौत भी आएगी मुझको तो जबानी आपकी।

Faiz Love Shayari Collection

Agar Sharar Hai Toh Bhadke Jo Phool Hai Toh Khile,
Tarah Tarah Ki Talab Tere Rang-e-Lab Se Hai.

Laut Jaati Hai Udhar Ko Bhi Najar Kya Keeje,
Ab Bhi DilKash Hai Tera Husn Magar Kya Keeje.

Yeh Ajab Qayamatein Hain Teri Rahgujar Mein Gujaari,
Na Ho Ke Mar Mitein Hum, Na Ho Ke Jee Uthein Hum.

Gulon Mein Rang Bhare Baad-e-Nau-Bahaar Chale,
Chale Bhi Aao Ki Gulshan Ka Karobaar Chale.

Tu Jo Mil Jaye Toh Taqdeer Nigoon Ho Jaye,
Yun Na Tha Maine Faqat Chaha Tha Yun Ho Jaye.

Uthh Kar Toh Aa Gaye Hain Teri Bazm Se Magar,
Kuchh Dil Hi Jaanta Hai Ki Kis Dil Se Aaye Hain.

Ik Tarz-e-Tagaful Hai So Woh Unko Mubarak,
Ik Arz-e-Tamanna Hai So Hum Karte Rahenge.

Yeh Aarzoo Bhi Badi Cheez Hai Magar Humdum,
Visaal-e-Yaar Faqat Aarzoo Ki Baat Nahi.

Woh Aa Rahe Hain Woh Aate Hain Aa Rahe Honge,
Shab-e-Firaaq Yeh Keh Kar Gujaar Di Hamne.

Shaam-e-Firaaq Ab Na Puchh Aayi Aur Aa Ke Tal Gayi,
Dil Tha Ki Phir Bahal Gaya Jaan Thi Ki Phir Sambhal Gayi.


अगर शरर है तो भड़के जो फूल है तो खिले,
तरह तरह की तलब तेरे रंग-ए-लब से है।

लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे,
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न मगर क्या कीजे।

ये अजब क़यामतें हैं तेरी रहगुजर में गुजारी,
न हो कि मर मिटें हम न हो कि जी उठें हम।

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले,
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले।

तू जो मिल जाये तो तक़दीर निगूँ हो जाये,
यूँ न था मैने फ़क़त चाहा था यूँ हो जाये।

उठ कर तो आ गए हैं तिरी बज़्म से मगर,
कुछ दिल ही जानता है कि किस दिल से आए हैं।

इक तर्ज़-ए-तग़ाफ़ुल है सो वो उन को मुबारक,
इक अर्ज़-ए-तमन्ना है सो हम करते रहेंगे।

ये आरज़ू भी बड़ी चीज़ है मगर हमदम,
विसाल-ए-यार फ़क़त आरज़ू की बात नहीं।

वो आ रहे हैं वो आते हैं आ रहे होंगे,
शब-ए-फ़िराक़ ये कह कर गुज़ार दी हम ने।

शाम-ए-फ़िराक़ अब न पूछ आई और आ के टल गई,
दिल था कि फिर बहल गया जाँ थी कि फिर सँभल गई।

Ishq Ka Paimaana

Tere Sar Se Hizaab Ka Sarakna
Ek Shayar Ka Chand Pe Fida Ho Jaana,
Aur Donon Ka Ik Saath Hona
Kaash! Aisa Ho Mere Ishq Ka Paimaana.

Yun Hi To Nahin Dil Mera Tujhe Talashta Firta,
Kar Yakeen Manzil Ka Tu Hi Hai Kinara Mera,
Yun Hi To Nahin Aayi Sada Teri Hawaon Mein Bah Kar,
Haule Se Tune Hi Mera Naam Pukara Hoga. 

Upar Se Gussa Dil Se Pyar Karte Ho,
Nazaren Churate Ho Dil Beqaraar Karte Ho,
Laakh Chhupao Duniya Se Mujhe Khabar Hai,
Tum Mujhe Khud Se Bhi Jyada Pyar Karte Ho.

Ek Aadat Si Ban Gayi Hai Tu,
Aur Aadat Kabhi Nahin Jaati.

तेरे सर से हिज़ाब का सरकना
एक शायर का चाँद पे फ़िदा हो जाना,
और दोनों का इक साथ होना
काश! ऐसा हो मेरे इश्क का पैमाना।

यूँ ही तो नहीं दिल मेरा तुझे तलाशता फिरता,
कर यकीन मंज़िल का तू ही है किनारा मेरा,
यूँ ही तो नहीं आयी सदा तेरी हवाओं में बह कर,
हौले से तूने ही मेरा नाम  पुकारा होगा।

ऊपर से गुस्सा दिल से प्यार करते हो,
नज़रें चुराते हो दिल बेक़रार करते हो,
लाख़ छुपाओ दुनिया से मुझे ख़बर है,
तुम मुझे ख़ुद से भी ज्यादा प्यार करते हो।

एक आदत सी बन गई है तू,
और आदत कभी नहीं जाती।

Tujhe Chahte Hue

Ek Umar Beet Chali Hai Tujhe Chahte Hue,
Tu Aaj Bhi BeKhabar Hai Kal Ki Tarah.

Anaa Kehti Hai ilteza Kya Karni,
Woh Mohabbat Hi Kya Jo Minnaton Se Mile.

Muqammal Na Sahi Adhoora Hi Rahne Do,
Ye Ishq Hai Koi Maqsad Toh Nahi Hai.

Wajah Nafraton Ki Talaashi Jaati Hai,
Mohabbat Toh Bin Wajah Hi Ho Jaati Hai.

Guftgoo Band Na Ho Baat Se Baat Chale,
Bajron Mein Raho Qaid Dil Se Dil Mile.

Hai Ishq Ki Manzil Mein Haal Ke Jaise,
Lut Jaye Kahin Raah Mein Saman Kisi Ka.

एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए,
तू आज भी बेखबर है कल की तरह।

अना कहती है इल्तेजा क्या करनी,
वो मोहब्बत ही क्या जो मिन्नतों से मिले।

मुकम्मल ना सही अधूरा ही रहने दो,
ये इश्क़ है कोई मक़सद तो नहीं है।

वजह नफरतों की तलाशी जाती है,
मोहब्बत तो बिन वजह ही हो जाती है।

गुफ्तगू बंद न हो बात से बात चले,
नजरों में रहो कैद दिल से दिल मिले।

है इश्क़ की मंज़िल में हाल कि जैसे,
लुट जाए कहीं राह में सामान किसी का।

Pyar Ka Ehsaas

Zindag Mein Kisi Ka Saath Kaafi Hai,
Hathon Mein Kisi Ka Haath Kaafi Hai,
Door Ho Ya Paas Fark Nahin Padta,
Pyar Ka To Bas Ehsaas Hi Kaafi Hai.

Mohabbat Ki Hadd Hai Sitaron Se Aage,
Pyar Ka Jahan Hai Baharon Se Aage,
Wo Deewano Ki Kashti Jab Bahne Lagi,
To Bahte Bah Gayi Kinaron Se Aage.

Chhupa Lunga Tujhe Is Tarah Se Apni Baahon Mein,
Hawa Bhi Guzarne Ke Liye Izaazat Maange,
Ho Jaaun Tere Ishq Mein Madahosh Is Tarah,
Ki Hosh Bhi Bapas Aane Ke Izaazat Maange

ज़िन्दगी में किसी का साथ काफी है,
हाथों में किसी का हाथ काफी है,
दूर हो या पास फर्क नहीं पड़ता,
प्यार का तो बस अहसास ही काफी है।

मोहब्बत की हद्द है सितारों से आगे,
प्यार का जहाँ है बहारों से आगे,
वो दीवानों की कश्ती जब बहने लगी,
तो बहते बह गयी किनारों से आगे।

छुपा लूंगा तुझे इस तरह से अपनी बाहों में,
हवा भी गुज़रने के लिए इज़ाज़त मांगे,
हो जाऊं तेरे इश्क़ में मदहोश इस तरह,
कि होश भी वापस आने के इज़ाज़त मांगे।

Chahat Hui Kisi Se

Chahat Hui Kisi Se Toh Fir Be-Inteha Hui,
Chaha Toh Chahaton Ki Hadd Se Gujar Gaye,
HumNe Khuda Se Kuchh Bhi Na Manga Magar Usey,
Manga Toh Siskiyon Ki Bhi Hadd Se Gujar Gaye.

Kuchh Khaas JaanNa Hai To Pyar Kar Ke Dekho,
Apni Aankhon Mein Kisi Ko Utaar Kar Ke Dekho,
Chot Unko Lagegi Aansoo Tumhein Aa Jayenge,
Ye Ehsaas JaanNa Hai To Dil Haar Kar Ke Dekho.

चाहत हुई किसी से तो फिर बेइन्तेहाँ हुई,
चाहा तो चाहतों की हद से गुजर गए,
हमने खुदा से कुछ भी न माँगा मगर उसे,
माँगा तो सिसकियों की भी हद से गुजर गये।

कुछ ख़ास जानना है तो प्यार कर के देखो,
अपनी आँखों में किसी को उतार कर के देखो,
चोट उनको लगेगी आँसू तुम्हें आ जायेंगे,
ये एहसास जानना है तो दिल हार कर के देखो।

Uljhi Rahi Mohabbat

Na Jahir Hui Tumse Aur Na Hi Bayaan Hui Humse,
Bas Suljhi Hui Aankhon Mein Uljhi Rahi Mohabbat.

Logon Ne Roj Hi Naya Kuchh Manga Hai Khuda Se,
Ek Hum Hi Hain Jo Tere Khayal Se Aage Na Gaye.

Raah Mein Mile The Hum Raahein Naseeb Ban Gayin,
Na Tu Apne Ghar Gaya Na Hum Apne Ghar Gaye.

Tumhein Neend Nahin Aati To Koi Aur Wajah Hogi,
Ab Har Aib Ke Liye QasoorWar Ishq Toh Nahin.

Muddaton Jisko Talasha Aaj Wo Mere Kareeb Hai,
Apna Pyar Paana Bhi Kahan Sabko Naseeb Hai.

Adaa Hai Khwaab Hai Takseem Hai Tamaasha Hai,
Meri Inn Aankhon Mein Ek Shakhs BeHatasha Hai.

Mere Lafz Feeke Pad Gaye Teri Adaa Ke Saamne,
Main Tujhe Khuda Keh Gaya Apne Khuda Ke Samne.

न जाहिर हुई तुमसे और न ही बयान हुई हमसे,
बस सुलझी हुई आँखो में उलझी रही मोहब्बत

लोगों ने रोज ही नया कुछ माँगा खुदा से,
एक हम ही हैं जो तेरे ख्याल से आगे न गये।

राह में मिले थे हम, राहें नसीब बन गईं,
ना तू अपने घर गया, ना हम अपने घर गये।

तुम्हें नींद नहीं आती तो कोई और वजह होगी,
अब हर ऐब के लिए कसूरवार इश्क तो नहीं।

मुद्दतों जिसको तलाशा आज वो मेरे करीब है,
अपना प्यार पाना भी कहाँ सबको नसीब है।

अदा है ख्वाब है तकसीम है तमाशा है,
मेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है।

मेरे लफ्ज़ फ़ीके पड़ गए तेरी अदा के सामने,
मैं तुझे ख़ुदा कह गया अपने ख़ुदा के सामने।

Mohabbat Ke Ishaare

Raaz Khol Dete Hain Nazuk Se Ishaare Aksar,
Kitni Khamosh Mohabbat Ki Jubaan Hoti Hai.

Koi Rishta Jo Na Hota, To Wo Khafa Kyun Hota?
Ye BeRukhi, Uski Mohabbat Ka Pata Deti Hai.

Mujh Mein Lagta Hai Ke Mujh Se Zyada Hai Woh,
Khud Se Barh Kar Mujhe Rehti Hai Jarurat Uski.

Yahi Bahut Hai Ke Tumne Palat Ke Dekh Liya,
Yeh Lutf Bhi Meri Ummeed Se Kuchh Zyada Hai.

Usko Har Chand Andheron Ne Nigalna Chaha,
Bujh Na Paaya Wo Mohabbat Ka Diya Hai Shayad.

Lamhon Mein Qaid Kar De Jo Sadiyon Ki Chahatein,
Hasrat Rahi Ke Aisa Koi Apna Talabgar Ho.

Aankh Rakhte Ho Toh Uss Aankh Ki Tehreer Parho,
Munh Se Iqraar Na Karna Toh Hai Aadat Uski.

राज़ खोल देते हैं नाजुक से इशारे अक्सर,
कितनी खामोश मोहब्बत की जुबान होती है।

कोई रिश्ता जो न होता, तो वो खफा क्यों होता?
ये बेरुखी, उसकी मोहब्बत का पता देती है।

मुझ में लगता है कि मुझ से ज्यादा है वो,
खुद से बढ़ कर मुझे रहती है जरुरत उसकी।

यही बहुत है कि तुमने पलट के देख लिया,
ये लुत्फ़ भी मेरी उम्मीद से कुछ ज्यादा है।

उसको हर चंद अंधेरों ने निगलना चाहा,
बुझ न पाया वो मोहब्बत का दिया है शायद।

लम्हों में क़ैद कर दे जो सदियों की चाहतें,
हसरत रही कि ऐसा कोई अपना तलबगार हो।

आँख रखते हो तो उस आँख की तहरीर पढ़ो,
मुँह से इकरार न करना तो है आदत उसकी।

Mohabbat Ki Tapish

Sambhale Nahi Sambhalta Hai Dil,
Mohabbat Ki Tapish Se Na Jala,
Ishq TalabGaar Hai Tera Chala Aa,
Ab Zamane Ka Bahaana Na Bana.

Zindgi Se Yehi Gila Hai Mujhe,
Tu Bahut Der Se Mila Hai Mujhe,
Tu Mohabbat Se Koi Chaal Toh Chal,
Haar Jaane Ka Hausla Hai Mujhe.

Ye Lakeerein Ye Naseeb Ye Kismat,
Sab Fareb Ke Aayine Hain,
Haathon Mein Tera Haath Hone Se Hi,
Mukammal Zindagi Ke Mayne Hain.

Hasratein Machal Gayin Jab,
TumKo Socha Ek Pal Ke Liye,
Socho Tab Kya Hoga Jab,
Miloge Mujhe Umr Bhar Ke Liye.

संभाले नहीं संभलता है दिल,
मोहब्बत की तपिश से न जला,
इश्क तलबगार है तेरा चला आ,
अब ज़माने का बहाना न बना।

ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे,
तू बहुत देर से मिला है मुझे,
तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल,
हार जाने का हौसला है मुझे।

ये लकीरें ये नसीब ये किस्मत,
सब फ़रेब के आईनें हैं,
हाथों में तेरा हाथ होने से ही,
मुकम्मल ज़िंदगी के मायने हैं।

हसरतें मचल गई जब,
तुमको सोचा एक पल के लिए,
सोचो तब क्या होगा जब,
मिलोगे मुझे उम्र भर के लिए।

Mohabbat Ki Qaid

Mohabbat Naam Hai Jiska Wo Aisi Qaid Hai Yaaro,
Ki Umrein Beet Jaati Hain Sazaa Puri Nahin Hoti.

Woh Rakh Le Kahin Apne Paas Humein Qaid Karke,
Kaash Ke Humse Koi Aisa Gunaah Ho Jaaye.

Tapakti Hai Nigaahon Se Barasti Hai Adaaon Se,
Mohabbat Kaun Kehta Hai Ki Pehchaani Nahi Jati.

Apni Mohabbat Pe Faqat Itna Bharosa Hai Mujhe,
Meri Wafayein Tujhe Kisi Aur Ka Hone Nahi Dengi.

Kabhi Yeh Duaa Ki Usey Mile Jahaan Ki Khushiyan,
Kabhi Ye Khauf Ke Woh Khush Mere Bagair Toh Nahi.

Dawaa Na Kaam Aayi, Kaam Aayi Na Duaa Koi,
Mareej-e-Ishq The Aakhir Hakeemon Se Shikayat Kya.

मोहब्बत नाम है जिसका वो ऐसी क़ैद है यारों,
कि उम्रें बीत जाती हैं सजा पूरी नहीं होती।

वो रख ले कहीं अपने पास हमें कैद करके,
काश कि हमसे कोई ऐसा गुनाह हो जाये।

टपकती है निगाहों से बरसती है अदाओं से,
मोहब्बत कौन कहता है कि पहचानी नहीं जाती।

अपनी मोहब्बत पे फक़त इतना भरोसा है मुझे,
मेरी वफायें तुझे किसी और का होने न देंगी।

कभी ये दुआ कि उसे मिलें जहाँ की खुशियाँ,
कभी ये खौफ कि वो खुश मेरे बगैर तो नहीं।

दवा न काम आयी, काम आयी न दुआ कोई,
मरीजे-इश्क थे आखिर हकीमों से शिकायत क्या।

Lafzon Se Chhu Liya

RuBaRu Milne Ka Mauka Milta Nahin Hai Roj,
Isliye Lafzon Se Tum Ko Chhu Liya Maine.

Jannat-e-Ishq Mein Har Baat Ajeeb Hoti Hai,
KisiKo Aashiqi Toh KisiKo Shayari Naseeb Hoti Hai.

Bahut Nayab Hote Hain Jinhe Hum Apna Kahte Hain,
Chalo Tumko Izaajat Hai Ki Tum Anmol Ho Jao.

Agar Ishq Karo Toh Aadaab-e-Wafa Bhi Seekho,
Yeh Chand Din Ki Bekaraari Mohabbat Nahin Hoti.

Khamosh Labon Se Nibhana Tha Humko Ye Rishta,
Par Dil Ki Dhadkanon Ne Chahat Ka Shor Macha Diya.

Teri Aankho Mein Jab Se Maine Apna Aks Dekha Hai,
Mere Chehre Ko Koi Aayina Achha Nahi Lagta.

रूबरू मिलने का मौका मिलता नहीं है रोज,
इसलिए लफ्ज़ों से तुमको छू लिया मैंने।

जन्नत-ए-इश्क में हर बात अजीब होती है,
किसी को आशिकी तो किसी को शायरी नसीब होती है।

बहुत नायाब होते हैं जिन्हें हम अपना कहते हैं,
चलो तुमको इज़ाजत है कि तुम अनमोल हो जाओ।

अगर इश्क करो तो आदाब-ए-वफ़ा भी सीखो,
ये चंद दिन की बेकरारी मोहब्बत नहीं होती।

खामोश लबों से निभाना था हमको ये रिश्ता,
पर धड़कनों ने चाहत का शोर मचा दिया।

तेरी आँखों में जब से मैंने अपना अक्स देखा है,
मेरे चेहरे को कोई आइना अच्छा नहीं लगता।

Aayina Hoon Main Tera

Roj Saahil Se Samandar Ka Najara Na Karo,
Apni Soorat Ko Shabo-Roz Nihara Na Karo,
Aao Dekho Meri Najron Mein Utar Kar Khud Ko,
Aayina Hoon Main Tera Mujhse Kinara Na Karo.

Kab Tak Woh Mere Hone Se Inkaar Karega,
Khud Toot Kar Wo Ek Din MujhSe Pyaar Karega,
Pyar Ki Aag Mien Hum Usko itna Jala Denge.
Ke Ijhaar Woh Mujhse Sare-Baajar Karega.

Yakeen Apni Chahat Ka Itna Toh Hai Mujhe,
Meri Aankhon Mein Dekhoge Aur Laut Aaoge,
Meri Yaadon Ke Samandar Mein Jo Doob Gaye Tum,
Kahin Jana Bhi Chahoge Toh Ja Nahi Paaoge.

Iss Lafze-Mohabbat Ka Itna Sa Fasaana Hai,
Simte To Dile-Aashiq Faile Toh Zamana Hai,
Yeh Ishq Nahi Aasaan Itna Toh Samajh Leeje,
Ek Aag Ka Dariya Hai Aur Doob Ke Jaana Hai.

रोज साहिल से समंदर का नजारा न करो,
अपनी सूरत को शबो-रोज निहारा न करो,
आओ देखो मेरी नजरों में उतर कर खुद को,
आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा न करो।

कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,
खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,
प्यार की आग में उसको इतना जला देंगे,
कि इजहार वो मुझसे सरे-बाजार करेगा।

यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे,
मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे,
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम,
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।

इस लफ़्ज़े-मोहब्बत का इतना सा फसाना है,
सिमटे तो दिले-आशिक़ फैले तो ज़माना है,
ये इश्क़ नहीं आसाँ इतना तो समझ लीजे,
एक आग का दरिया है और डूब के जाना है।

Ijhaar-e-Mohabbat

Ijhaar-e-Mohabbat Pe Ajab Haal Hai Unka,
Aankhein Toh Raza-mand Hain Lab Soch Rahein Hain.

Dil Mein Na Ho Jurrat Toh Mohabbat Nahi Milti,
Khairaat Mein Itni Badi Daulat Nahi Milti.

Dil Mein Aahat Si Hui Rooh Mein Dastak Goonji,
Kis Ki Khushboo Yeh Mujhe Mere SirHane Aayi.

GalatFehmi Ki Gunjaish Nahi Sachchi Mohabbat Mein,
Jahan Kirdaar Halka Ho Kahani Doob Jati Hai.

Tumhari Ek Muskaan Se Sudhar Gayi Tabiyat Meri,
Batao Yaar Ishq Karte Ho Ya ilaaj Karte Ho.

Na Poore Mil Rahe Ho Na Hi Kho Rahe Ho Tum,
Din-Ba-Din Aur Bhi DilChasp Ho Rahe Ho Tum.

इजहार-ए-मोहब्बत पे अजब हाल है उनका,
आँखें तो रज़ामंद हैं लब सोच रहे हैं।


दिल में ना हो जुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती
खैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती।

दिल में आहट सी हुई रूह में दस्तक गूँजी,
किस की खुशबू ये मुझे मेरे सिरहाने आई।

गलतफहमी की गुंजाईश नहीं सच्ची मोहब्बत में,
जहाँ किरदार हल्का हो कहानी डूब जाती है।

तुम्हारी एक मुस्कान से सुधर गई तबियत मेरी,
बताओ यार इश्क करते हो या इलाज करते हो।

ना तो पूरे मिल रहे हो ना ही खो रहे हो तुम,
दिन-ब-दिन और भी दिलचस्प हो रहे हो तुम।

Pyar Ka Tajurba

Kisi Se Pyar Karo Aur Tajurba Kar Lo,
Ye Aisa Rog Hai Jismein Dawa Nahi Lagti.

Inkaar Jaisi Lazzat Ikraar Mein Kahan,
Barhta Raha Ishq Ghalib Uski Nahi-Nahi Se.

Kitaab Meri Panne Mere Aur Soch Bhi Meri,
Phir Maine Jo Likhe Woh Khayal Kyun Tere.

Mujh Sa Koi Jahaan Mein Naadan Bhi Na Ho,
Kar Ke Jo Ishq Kehta Hai Nuksaan Bhi Na Ho.

Akele Hum Hi Shamil Nahi Iss Jurm Mein,
Najar Jab Mili Thi Muskuraye Tum Bhi The.

Tumko Hajaar Sharm Sahi MujhKo Lakh Zabt,
Ulfat Wo Raaz Hai Jo Chhupaya Na Jayega.

Fir Se Ho Rahi Thi Mujhe Mohabbat Uss Se,
Na Khulti Aankh Toh Wo Mera Ho Chuka Hota.

किसी से प्यार करो और तजुर्बा कर लो,
ये रोग ऐसा है जिसमें दवा नहीं लगती।

इन्कार जैसी लज्जत इक़रार में कहाँ,
बढ़ता रहा इश्क ग़ालिब उसकी नहीं-नहीं से।

किताब मेरी, पन्ने मेरे और सोच भी मेरी,
फिर मैंने जो लिखे वो ख्याल क्यों तेरे।

मुझ सा कोई जहान में नादान भी न हो,
कर के जो इश्क कहता है नुकसान भी न हो।

अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में,
नजर जब मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।

तुमको हजार शर्म सही मुझको लाख ज़ब्त,
उल्फ़त वो राज़ है जो छुपाया ना जायेगा।

फिर से हो रही थी मुझे मोहब्बत उससे,
न खुलती आँख तो वो मेरा हो चुका होता।

Mohabbat Ek Khushboo Hai

Mohabbat Meri Bhi Bahut Asar Karti Hai,
Yaad Aayenge Bahut Jara Bhool Ke Dekho.

Sadiyon Ka RatJaga Meri Aankhon Mein Aa Gaya,
Main Ek Haseen Shakhs Ki Baaton Mein Aa Gaya.

Tere Khayal Mein Jab BeKhayal Hota Hoon,
Jara Si Der Ko Hi Sahi BeMisaal Hota Hoon.

Log Dekhenge Toh Afsana Bana Dalenge,
Yun Mere Dil Mein Chale Aao Ke Aahat Bhi Na Ho.

Tera Zikr Teri Fikr Tera Ehsaas Tera Khayal,
Tu Khuda To Nahi Phir Har Jagah Kyun Hai.

Mushkil Nahi Tha Ishq Ki Baazi Ko Jeetna,
Bas Jeetne Ke Khauf Se Haare Chale Gaye.

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इंसान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता।

मोहब्बत क्या है चलो दो लफ़्ज़ों में बताते हैं,
तेरा मजबूर करना और मेरा मजबूर हो जाना।

अनजान सी राहों पर चलने का तजुर्बा नहीं था,
इश्क़ की राह ने मुझे एक हुनरमंद राही बना दिया।

तेरे खामोश होंठों पर मोहब्बत गुनगुनाती है,
तू मेरा है मैं तेरा हूँ बस यही आवाज़ आती है।

मुझे मालूम है मेरे मुकद्दर में तुम नहीं लेकिन,
मेरी तक़दीर से छुप कर एक बार मेरे हो जाओ।

सिर्फ एक बार आओ दिल में देखने मोहब्बत अपनी,
फिर लौटने का इरादा हम तुम पर छोड़ देंगे।

Mohabbat Ka Asar

Mohabbat Meri Bhi Bahut Asar Karti Hai,
Yaad Aayenge Bahut Jara Bhool Ke Dekho.

Sadiyon Ka RatJaga Meri Aankhon Mein Aa Gaya,
Main Ek Haseen Shakhs Ki Baaton Mein Aa Gaya.

Tere Khayal Mein Jab BeKhayal Hota Hoon,
Jara Si Der Ko Hi Sahi BeMisaal Hota Hoon.

Log Dekhenge Toh Afsana Bana Dalenge,
Yun Mere Dil Mein Chale Aao Ke Aahat Bhi Na Ho.

Tera Zikr Teri Fikr Tera Ehsaas Tera Khayal,
Tu Khuda To Nahi Phir Har Jagah Kyun Hai.

Mushkil Nahi Tha Ishq Ki Baazi Ko Jeetna,
Bas Jeetne Ke Khauf Se Haare Chale Gaye.

मुहब्बत मेरी भी बहुत असर करती है,
याद आएंगे बहुत जरा भूल के देखो।

सदियों का रतजगा मेरी रातों में आ गया,
मैं एक हसीन शख्स की बातों में आ गया।

तेरे ख्याल में जब बेख्याल होता हूँ,
जरा सी देर को ही सही बेमिसाल होता हूँ।

लोग देखेंगे तो अफ़साना बना डालेंगे,
यूँ मेरे दिल में आओ कि आहट भी ना हो।

तेरा ज़िक्र तेरी फ़िक्र तेरा एहसास तेरा ख्याल,
तू खुदा तो नहीं फिर हर जगह क्यों है।

मुश्किल नहीं था इश्क़ की बाज़ी को जीतना,
बस जीतने के खौफ से खुद को हारे चले गए।

Tu Paas Bhi Hai

Palkon Pe Larajte Ashqon Mein,
Tasveer Jhalakti Hai Teri,
Deedar Ki Pyaasi Aankhon Ko,
Ab Pyaas Nahi Aur Pyaas Bhi Hai.

Mayoos Toh Hun Tere Vaade Se,
Kuchh Aas Nahi Kuchh Aas Bhi,
Main Apne Khayalon Ke Sadke,
Tu Paas Nahi Aur Paas Bhi Hai.

पलकों पे लरजते अश्कों में,
तस्वीर झलकती है तेरी,
दीदार की प्यासी आँखों को,
अब प्यास नहीं और प्यास भी है।

मायूस तो हूँ तेरे वादे से,
कुछ आस नहीं कुछ आस भी है,
मैं अपने ख्यालों के सदके,
तू पास नहीं और पास भी है।

Dilbar Kahe Bagair

Khulta Nahi Hai Haal Kisi Par Kahe Bagair,
Par Dil Ki Jaan Lete Hain Dilbar Kahe Bagair.

Aankhon Ke Raste Se Mere Dil Mein Utar Gaye,
Banda-Nawaz Aap Toh Hadd Se Gujar Gaye.

Baithhe Hain Tere Dar Pe Kuchh Kar Ke Uthhenge,
Ya Vasl Hi Ho Jayega Ya Mar Ke Uthhenge.

Hans Ke Chal Dun Main Kaanch Ke Tukdon Par,
Agr Woh Keh De Uske Bichhaye Phool Hain.

Mohabbat Karna Koi Humse Seekhe,
Jise Toot Kar Chaha Woh Abtak Bekhabar Hai.

Main Khud Pahel Karun Ya Udhar Se Ho Ibteda,
Barson Gujar Gaye Hain Yahi Sochte Huye.

~ Ahsaan Danish

Tu Mile Ya Na Mile Ye Mere Muqaddar Ki Baat Hai,
Sukoon Bahut Milta Hai Tujhe Apna Soch Kar.

खुलता नहीं है हाल किसी पर कहे बग़ैर,
पर दिल की जान लेते हैं दिलबर कहे बग़ैर।

आँखों के रास्ते मेरे दिल में उतर गये,
बंदा-नवाज़ आप तो हद से गुज़र गये।

बैठे हैं तेरे दर पे कुछ कर के उठेंगे,
या वस्ल ही हो जायेगा या मर के उठेंगे।

हँस‬ के चल दूँ मैं काँच के टुकड़ो पर,
अगर ‪‎वो‬ कह दे उसके ‪‎बिछाए‬ फूल‬ हैं।

मोहब्बत करना कोई हमसे सीखे,
जिसे टूटकर चाहा वो अबतक बेखबर है।

मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा,
बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए।

~ Ahsaan Danish

तू मिले या न मिले ये मेरे मुकद्दर की बात है,
सुकून बहुत मिलता है तुझे अपना सोचकर।

Chuppi Mein Teri Mohabbat

Haal Apna Tumhein Batana Kya,
Cheer Ke Dil Tumhein Dikhana Kya,
Wahi Rona Hai Sadaa Ka Ab Bhi,
Daastaan Phir Wohi Dohrana Kya.

Bekarari Hi Hai Judaai Mein,
Gham Ki Baatein Tumhein Sunana Kya,
Meri Chuppi Mein Teri Mohabbat Hai,
Bewajaha Honthon Ko Hilana Kya.

हाल अपना तुम्हें बताना क्या,
चीर के दिल तुम्हें दिखाना क्या,
वही रोना है सदा का अब भी,
दास्ताँ फिर वो ही दोहराना क्या.

बेकरारी ही है जुदाई में,
ग़म की बातें तुम्हें सुनना क्या,
मेरी चुप्पी में तेरी मोहब्बत है,
बेवजह होंठों को हिलाना क्या।

Jisko Wafa Par Shak Hai

Ungliyan Meri Wafa Par Na Uthana Logo,
Jisko Shak Ho Wo Mujhse Nibaah Kar Dekhe.

Ek Teri Tamanna Ne Kuchh Aisa Nawaaza Hai,
Maangi Hi Nahi JAti Ab Koi Aur Dua Humse.

Sau Jaan Se Ho Jaunga Raazi Main Saza Par,
Pahle Woh Mujhe Apna GunahGar Toh Kar Le.

Ik Naam Kya Likha Tera Saahil Ki Ret Par,
Phir Umr Bhar Hawa Se Meri Dushmani Rahi.

Uss Shakhs Mein Baat Hi Kuchh Aisi Thi,
Hum Agar Dil Na Dete Toh Jaan Chali Jati.

उँगलियाँ मेरी वफ़ा पर न उठाना लोगों,
जिसको शक हो वो मुझसे निबाह कर देखे।

इक तेरी तमन्ना ने कुछ ऐसा नवाज़ा है,
माँगी ही नहीं जाती अब कोई और दुआ हमसे।

सौ जान से हो जाऊँगा राज़ी मैं सज़ा पर,
पहले वो मुझे अपना गुनहगार तो कर ले।

इक नाम क्या लिखा तेरा साहिल की रेत पर,
फिर उम्र भर हवा से मेरी दुश्मनी रही।

उस शख्स में बात ही कुछ ऐसी थी,
हम अगर दिल न देते तो जान चली जाती।

Wafa Ki Sachchai

Yeh Na Samajh Ke Main Bhul Gaya Hun Tujhe,
Teri Khushbu Meri Saanson Mein Aaj Bhi Hai,
Majburion Ne Nibhane Na Di Mohabbat,
Sachchai Meri Wafa Mein Aaj Bhi Hai.

Main Alfaz Hun Teri Har Baat Samjhta Hun,
Main Ehsaas Hun Tere Jazbat Samjhta Hun,
Kab Puchha Maine Ke Kyun Dur Ho Mujhse,
Main Dil Rakhta Hun Tere Halaat Samjhta Hun.

Main Deewana Hun Tera Mujhe Inkaar Nahi,
Kaise Kah Dun Ke Mujhe Tumse Pyar Nahi,
Kuchh Shararat Toh Teri Najron Mein Bhi Thi,
Main Akela Hi Toh Iska GunagGar Nahi.

ये न समझ कि मैं भूल गया हूँ तुझे,
तेरी खुशबू मेरे सांसो में आज भी है,
मजबूरियों ने निभाने न दी मोहब्बत,
सच्चाई मेरी वफाओं में आज भी है।

मैं अल्फाज़ हूँ तेरी हर बात समझता हूँ​,
मैं एहसास हूँ तेरे जज़्बात समझता हूँ​,
कब पूछा मैंने ​कि ​क्यूँ दूर हो मुझसे​,
मैं दिल रखता हूँ तेरे हालात समझता हूँ​।

​मैं ​दीवाना हूँ तेरा मुझे इंकार नहीं​,
कैसे कह दूं कि मुझे तुमसे प्यार नहीं,
कुछ शरारत तो तेरी नज़रों में भी थी,
मैं अकेला ही तो इसका गुनहगार नहीं।

Khayalon Mein Uske

Khayalon Mein Uske Maine Bita Di Zindgi Saari,
Ibaadat Kar Nahi Paya Khuda Naraaj Mat Hona.

Aap Daulat Ke Taraju Mein Dilon Ko Taulein,
Hum Mohabbat Se Mohabbat Ka Sila Dete Hain.

Tumko Chaha Toh Khata Kya Hai Bata Do Mujhko,
Dusra Koi Toh Apna Sa Dikha Do Mujhko.

Dekhna Hashr Main Jab Tum Pe Machal Jaunga,
Main Bhi Kya Vaada Tumhara Hun Ke Tal Jaunga.

Woh Toh Khushbu Hai Hawaon Mein Bikhar Jayega,
Masla Phool Ka Hai Phool Kidhar Jayega.

Humare Ishq Ko Yoon Na Aazmaao Sanam,
Pattharon Ko Bhi Dhadkana Sikha Dete Hain Hum.

​खयालों में ​उसके मैंने बिता दी ज़िंदगी सारी,
​​इबादत कर नहीं पाया खुदा नाराज़ मत होना​।

आप दौलत के तराज़ू में दिलों को तौलें,
हम मोहब्बत से मोहब्बत का सिला देते हैं।

तुमको चाहा तो ख़ता क्या है बता दो मुझको,
दूसरा कोई तो अपना सा दिखा दो मुझको।

देखना हश्र मैं जब तुम पे मचल जाऊँगा,
मैं भी क्या वादा तुम्हारा हूँ कि टल जाऊँगा।

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसला फूल का है फूल किधर जाएगा।

हमारे इश्क़ को यूं न आज़माओ सनम,
पत्थरों को धड़कना सिखा देते हैं हम।

Chhu Jaate Ho Mujhe

Chhu Jaate Ho Mujhe Har Roj Ek Naya Khwaab Bankar,
Yeh Duniya Toh Khamkha Kahti Hai Ke Tum Mere Kareeb Nahi.

Kabhi Tum Aa Jaao Khayalon Mein Aur Muskura Doon Main,
Ise Gar Ishq Kahte Hain Toh Haan Mujhe Ishq Hai Tumse.

Shayad Woh Apna Wajood Chhod Gaya Hai Meri Hasti Mein,
Yun Sote-Sote Jaag Jana Meri Aadat Pehle Kabhi Na Thi.

Chhupane Laga Hoon AajKal Kuchh Raaz Apne Aap Se,
Suna Hai Kuchh Log Mujhko Mujhse Jyada JaanNe Lage Hain.

Woh Achhe Hain Toh Behtar Hain Bure Hain Toh Bhi Qabool,
Mijaz-e-Ishq Mein Aib-o-Hunar Dekhe Nahi Jate.

Parwane Ko Shamma Par Jal Kar Kuchh To Milta Hoga,
Sirf Marne Ki Khatir To Koyi Kisi Se Pyaar Nahi Karta.

छू जाते हो तुम मुझे हर रोज एक नया ख्वाब बनकर,
ये दुनिया तो खामखां कहती है कि तुम मेरे करीब नहीं।

भी तुम आ जाओ ख्यालों में और मुस्कुरा दूँ मैं,
इसे गर इश्क़ कहते हैं तो हाँ मुझे इश्क़ है तुमसे।

शायद वो अपना वजूद छोड़ गया है मेरी हस्ती में,
यूँ सोते-सोते जाग जाना मेरी आदत पहले कभी न थी।

छुपाने लगा हूँ आजकल कुछ राज अपने आप से,
सुना है कुछ लोग मुझको मुझसे ज्यादा जानने लगे हैं।

वो अच्छे हैं तो बेहतर, बुरे हैं तो भी कबूल,
मिजाज़-ए-इश्क में ऐब-ओ-हुनर देखे नहीं जाते।

परवाने को शमा पर जल कर कुछ तो मिलता होगा,
सिर्फ मरने की खातिर तो कोई प्यार नहीं करता।

Pyar Chhupate Kyun Ho

Apne Haathon Se Yun Chehre Ko Chhupate Kyun Ho,
Mujh Se Sharmaate Ho Toh Saamne Aate Kyun Ho,
Tum Bhi Meri Tarah Kar Lo Iqraar-e-Wafaa Ab,
Pyar Karte Ho Toh Phir Pyar Chhupate Kyun Ho?

Socha Yaad Na Karke Thoda Tadpaun Tumhein,
Kisi Aur Ka Naam Lekar Jalaun Tumhein,
Par Chot Lagegi Tumhein Toh Dard Mujhe Hi Hoga.
Ab Yeh Bataon Kis Tarah Sataun Tumhein.

Pyaar Dariya Hai Jiska Sahil Nahi Hota,
Har Shakhs Mohabbat Ke Qabil Nahi Hota,
Rota Hai Woh Jo Dooba Hai Kisi Ki Pyaar Mein,
Aur Rota Wo Bhi Hai Jise Pyaar Hasil Nahi Hota.

Wo Dil Hi Kya Jo Kabhi Wafa Na Kare,
Tujhe Bhul Kar Jiye Kabhi Khuda Na Kare,
Rahegi Teri Mohabbat Meri Zindagi Bankar,
Wo Baat Aur Hai Agar Zindagi Wafa Na Kare.

अपने हाथों से यूँ चेहरे को छुपाते क्यूँ हो,
मुझसे शर्माते हो तो सामने आते क्यूँ हो,
तुम भी मेरी तरह कर लो इकरार-ए-वफ़ा अब,
प्यार करते हो तो फिर प्यार छुपाते क्यूँ हो?

सोचा याद न करके थोड़ा तड़पाऊं तुम्हें,
किसी और का नाम लेकर जलाऊं तुम्हें,
पर चोट लगेगी तुम्हें तो दर्द मुझे ही होगा,
अब ये बताओ किस तरह सताऊं तुम्हें।

प्यार दरिया है जिसका साहिल नहीं होता,
हर शख्स मोहब्बत के काबिल नहीं होता,
रोता है वो जो डूबा है किसी के प्यार में,
और रोता वो भी है जिसे प्यार हासिल नहीं होता।

वो दिल ही क्या जो कभी वफ़ा ना करे,
तुझे भूल कर जिएं कभी खुदा ना करे,
रहेगी तेरी मुहब्बत मेरी जिंदगी बन कर,
वो बात और है अगर जिंदगी वफ़ा ना करे।

Tera Aks Chhupa Na Saka

Uski Mohabbat Laakh Chhupayi Zamaane Se Maine,
Magar Aankhon Mein Tere Aks Ko Chhupa Na Saka.

Aarzoo Yeh Hai Ke Izhaar-e-Mohabbat Kar Dein,
Alfaaz Chunte Hain Toh Lahmhaat Badal Jaate Hain.

Maine Jaan Bacha Ke Rakhi Hai Apni Jaan Ke Liye,
Itna Pyar Kaise Ho Gaya Ek Anjaan Ke Liye.

Gila-Shiqwa Hi Kar Dalo Ke Kuchh Waqt Kat Jaye,
Labon Pe Aapke Yeh Khamoshi Achhi Nahi Lagti.

Ab Hum Ishq Ke Uss Maqam Par Aa Chuke Hain,
Jahan Dil Kisi Aur Ko Soche Toh Gunaah Hota Hai.

Pyar Ka Koyi Rang Nahi Fir Bhi Woh Rangeen Hai,
Iska Koyi Chehra Nahi Fir Bhi Woh Haseen Hai.

उसकी मोहब्बत लाख छुपाई ज़माने से मैंने,
मगर आँखों में तेरे अक्स को छुपा न सका।

आरजू ये है कि इज़हार-ए-मोहब्बत कर दें,
अल्फाज़ चुनते है तो लम्हात बदल जाते हैं।

मैंने जान बचा के रखी है अपनी जान के लिए,
इतना प्यार कैसे हो गया एक अनजान के लिए।

गिला शिकवा ही कर डालो कि कुछ वक्त कट जाए,
लबों पे आपके ये खामोशी अच्छी नहीं लगती।

अब हम इश्क़ के उस मुक़ाम पर आ चुके हैं,
जहाँ दिल किसी और को सोचे भी तो गुनाह होता है।

प्यार का कोई रंग नही फिर भी वो रंगीन है,
इसका कोई चेहरा नही फिर भी वो हसीन हैं।

Ek Shab Gujri Thi

Ek Shab Gujri Thi Tere Gesuon Ki Chhav Mein,
Umr Bhar BeKhwaabiyan Mera Muqaddar Ho Gayin.

Yeh Kya Ke Woh Jab Chahe Mujhe Chheen Le MujhSe,
Apne Liye Woh Shakhs Tadapta Bhi Toh Dekhun.

Shareek-e-Bazm Hokar Yun Uchatkar Baithhna Tera,
Khatkti Hai Teri Maujoodgi Mein Bhi Kami Apni.

Meri Takmeel Mein Hain Shamil Kuchh Tere Hisse,
Hum Agar Tujhse Na Milte Toh Adhoore Rah Jate.

Jab Kabhi Toot Kar Bikhro Toh Batana Humko,
Hum Tuhein Ret Ke Zarron Se Bhi Chun Sakte Hain.

Mohabbat Mein Yehi Khauf Kyun Hardam Rehta Hai,
Kahin Kisi Aur Se Toh Mohabbat Nahi Use?

एक शब गुजरी थी तेरे गेसुओं के छाँव में,
उम्र भर बेख्वाबियाँ मेरा मुकद्दर हो गयीं।

ये क्या कि वो जब चाहे मुझे छीन ले मुझसे,
अपने लिए वो शख़्स तड़पता भी तो देखूँ।

शरीक-ए-बज्म होकर यूँ उचटकर बैठना तेरा,
खटकती है तेरी मौजूदगी में भी कमी अपनी।

मेरी तकमील में है शामिल कुछ तेरे हिस्से,
हम अगर तुझसे न मिलते तो अधूरे रह जाते।

जब कभी टूट कर बिखरो तो बताना हमको,
हम तुम्हें रेत के जर्रों से भी चुन सकते हैं।

मोहब्बत में यही खौफ क्यों हरदम रहता है
कहीं किसी और से तो मोहब्बत नहीं उसे?

Kya Haseen Ittefaq Tha

Kya Haseen Ittefaq Tha Teri Gali Mein Aane Ka,
Kisi Kaam Se Aaye The Aur Kisi Kaam Ke Na Rahe.

Aaye Ho Aankhon Mein Toh Kuchh Der Toh Thehar Jao,
Ek Umr Lag Jaati Hai Ek Khwaab Sajaane Mein.

Subhah UthTe Hi Tere Jism Ki Khushboo Aayi,
Shayad Raat Bhar Tu Ne Mujhe Khwaab Mein Dekha Hai.

Use Hum Chhod De Lekin Bas Ik Chhoti Si Uljhan Hai,
Suna Hai Dil Se Dharkan Ki Judai Maut Hoti Hai.

Munasib Samjho Toh Sirf Itna Hi Bata Do,
Dil Bechain Hai Bahut, Kahin Tum Udaas Toh Nahi.

Mila Wo Lutf HumKo DoobKar Tere Khayalon Mein,
Kahan Ab Farq Baaki Hai Andhere Aur Ujaalon Mein.

क्या हसीन इत्तेफाक़ था तेरी गली में आने का,
किसी काम से आये थे और किसी काम के ना रहे।

आये हो आँखों में तो कुछ देर तो ठहर जाओ,
एक उम्र लग जाती है एक ख्वाब सजाने में।

सुबह उठते ही तेरे जिस्म की खुशबू आई,
शायद रात भर तूने मुझे ख्वाब में देखा है।

उसे हम छोड़ दें लेकिन बस इक छोटी सी उलझन हैं,
सुना है दिल से धड़कन की जुदाई मौत होती है।

मुनासिब समझो तो सिर्फ इतना ही बता दो,
दिल बैचैन है बहुत, कहीं तुम उदास तो नहीं।

मिला वो लुत्फ हमको डूब कर तेरे ख्यालों में
कहाँ अब फर्क बाकी है अंधेरे और उजालों में।

Ek Shab Gujri Thi

Nahi Jo Dil Mein Jagah Toh Najar Mein Rehne Do,
Meri Hayaat Ko Tum Apne Asar Mein Rehne Do,
Main Apni Soch Ko Teri Gali Mein Chhod Aaya Hun,
Mere Wajood Ko Khwabon Ke Ghar Mein Rehne Do.

Bas Tere Hone Se Mili Meri Dhadkano Ko Zindgi,
Tere Bina Ab Saans Loon Mere Liye Mumkin Nahi,
Mehsoos Yeh Hota Hai Tu Mere Liye Hai Laazmi,
Tere Bina Lamhe Chalein Ab Toh Yeh Mumkin Nahi.

Usne Mohabbat, Mohabbat Se Jyada Ki Thi,
Humne Mohabbat Uss Se Bhi Jyada Ki Thi,
Ab Wo Kise Kahenge Mohabbat Ki Intehaan,
Humne Shuruat Hi Intehaan Se Jyada Ki Thi.

नहीं जो दिल में जगह तो नजर में रहने दो,
मेरी हयात को तुम अपने असर में रहने दो,
मैं अपनी सोच को तेरी गली में छोड़ आया हूँ,
मेरे वजूद को ख़्वाबों के घर में रहने दो।

बस तेरे होने से मिली मेरी धडकनों को जिंदगी,
तेरे बिना अब सांस लूँ मेरे लिए मुमकिन नहीं,
महसूस ये होता है तू मेरे लिए है लाजिमी,
तेरे बिना लम्हें चलें अब तो ये मुमकिन नहीं।

उसने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी,
हम ने मोहब्बत उस से भी ज्यादा की थी,
अब वो किसे कहेंगे मोहब्बत की इन्तेहाँ,
हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।

Tumhari Chahton Ke Phool

Yeh Mat Kehna Ke Teri Yaad Se Rishta Nahi Rakha,
Main Khud Tanha Raha Magar Dil Ko Tanha Nahi Rakha,
Tumhari Chahton Ke Phool Toh Mehfooz Rakhe Hain,
Tumhari Nafraton Ki Peer Ko Zinda Nahi Rakha.

Sab Kuchh Mila Sukoon Ki Daulat Nahi Mili,
Ek Tujhko Bhool Jaane Ki Mohlat Nahi Mili,
Karne Ko Bahut Kaam The Apne Liye Magar,
Humko Tere Khayal Se Kabhi Fursat Nahi Mili.

Khuli Jo Aankh Toh Na Wo Tha Na Wo Zamana Tha,
Bas Dehakati Aag Thi Tanhayi Thi Fasaana Tha,
Kya Hua Jo Chand Hi Kadmon Pe Thak Ke Baith Gaye,
Tumhein Toh Saath Mera Dur Tak Nibhana Tha.

ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा,
मैं खुद तन्हा रहा मगर दिल को तन्हा नहीं रखा,
तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज़ रखे हैं,
तुम्हारी नफरतों की पीर को ज़िंदा नहीं रखा।

सब कुछ मिला सुकून की दौलत नहीं मिली,
एक तुझको भूल जाने की मोहलत नहीं मिली,
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर,
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत नहीं मिली।

खुली जो आँख तो न वो था न वो ज़माना था,
बस दहकती आग थी तन्हाई थी फ़साना था,
क्या हुआ जो चंद ही क़दमों पे थक के बैठ गए,
तुम्हें तो साथ मेरा दूर तक निभाना था।

Maasum Kharidaar Se Kya Lena

Jee Karta Hai Use Muft Mein Jaan De Du,
Itne Maasum Kharidaar Se Kya Lena.

Khuda Se Maangte To Muddatain Guzar Gayin,
Kyun Na Main Usko Aaj Ussi Se Maang Loon.

Tum Saamne Aaye Toh Ajab Tamasha Hua,
Har Shikayat Ne Jaise Khudkushi Kar Li.

Yeh Kasmein Yeh Rasmein Yeh Zamane Ka Darr,
Rulayegi Mujhe Bahut Teri Uljhan Umar Bhar,

Jaane Kitni Raato Ki Neendein Le Gaya Woh,
Jo Pal Bhar Mohabbar Jataane Aaya Tha.

Aa Jaate Hai Woh Roj Khwaabon Mein,
Jo Kahete Hain Hum Toh Kahin Jaate Hi Nahi.

Tu Haqeekat-e-Ishq Hai Ya Koi Fareb,
Zindgi Mein Aati Nahi Khwabon Se Jati Nahi.

Us Shakhs Ko Bichhadne Ka Tareeka Nahi Aata,
Jaate Jaate Khud Mere Paas Chhod Gaya.

जी करता है उसे मुफ्त में जान दे दूँ,
इतने मासूम खरीदार से क्या लेना।

खुदा से मांगते तो मुद्दतें गुजर गयीं,
क्यूँ न मैं आज उसको उसी से माँग लूँ।

तुम सामने आये तो अजब तमाशा हुआ,
हर शिकायत ने जैसे खुदकुशी कर ली।

ये कसमें ये रस्में ये ज़माने का डर,
रुलाएगी मुझे बहुत तेरी उलझन उम्र भर।

जाने कितनी रातों की नींदें ले गया वो,
जो पल भर मोहब्बत जताने आया था।

आ जाते हैं वो भी रोज ख्वाबों में,
जो कहते हैं हम तो कहीं जाते ही नहीं।

तू हकीकत-ए-इश्क है या कोई फरेब,
ज़िन्दगी में आती नहीं ख़्वाबों से जाती नहीं।

उस शख्स को बिछड़ने का सलीका नहीं आता,
जाते जाते खुद को मेरे पास छोड़ गया।

Mohabbat Ki Inteha

Woh Mujh Tak Aane Ki Raah Chahta Hai,
Lekin Meri Mohabbat Ka Gawaah Chahta Hai,
Khud Aate Jaate Mausamo Ki Tarah Hai,
Aur MujhSe Mohabbat Ki Inteha Chahta Hai.

Chalo Apni Chahatein Nilaam Karte Hain,
Mohabbat Ka Sauda Sare Aam Karte Hain,
Tum Kebal Apna Saath Hamare Naam Kardo,
Hum Apni Zindgi Tumhare Naam Karte Hain.

Utar Ke Dekh Meri Chahat Ki Gehrai Mein,
Sochna Mere Bare Mein Raat Ki Tanhai Mein,
Agar Ho Jaye Meri Chahat Ka Ehsaas Tumhein,
Milega Mera Aks Tumhein Apni Hi Parchhai Mein.

वो मुझ तक आने की राह चाहता है,
लेकिन मेरी मोहब्बत का गवाह चाहता है,
खुद आते जाते मौसमों की तरह है,
और मुझसे मोहब्बत की इन्तहा चाहता है।

चलो अपनी चाहतें नीलाम करते हैं,
मोहब्बत का सौदा सरे आम करते है,
तुम केबल अपना साथ हमारे नाम कर दो,
हम अपनी ज़िन्दगी तुम्हारे नाम करते हैं।

उतर के देख मेरी चाहत की गहराई में,
सोचना मेरे बारे में रात की तन्हाई में,
अगर हो जाए मेरी चाहत का एहसास तुम्हें,
मिलेगा मेरा अक्स तुम्हें अपनी ही परछाई में।

Mere Bas Ki Baat Nahi

Pyar Ki Had Ko Samajhna
Mere Bas Ki Baat Nahi,
Dil Ki Baaton Ko Chhupana
Mere Bas Ki Baat Nahi,
Kuchh To Baat Hai Tujhme
Jo Yeh Dil Tumpe Marta Hai,
Warna Yun Hi Jaan Ganwana
Mere Bas Ki Baat Nahi.

प्यार की हद को समझना,
मेरे बस की बात नहीं,
दिल की बातों को छुपाना,
मेरे बस की बात नहीं,
कुछ तो बात है तुझमें
जो यह दिल तुमपे मरता है,
वरना यूँ ही जान गँवाना,
मेरे बस की बात नहीं।

Hum Jise Chaahe

Dil Ki Baat Zamaane Ko Bata Dete Hain,
Apne Har Raaz Par Se Parda Uthha Dete Hain,
Aap Humein Chaahe Na Chaahe Iska Gila Nahi,
Hum Jise Chaahe Us Par Jaan Luta Dete Hain.

Chehre Par Marne Wale Hajaar Mil Jayenge,
Kuchh Log Har Jarurat Puri Kar Jayenge,
Khwahish Hai Uski Jo Dil Se Samjhe Humein,
Hum Toh Zindagi Bhi Uske Naam Kar Jayenge.

दिल की हर बात जमाने को बता देते हैं,
अपने हर राज पर से परदा उठा देते हैं,
आप हमें चाहें न चाहें इसका गिला नहीं,
हम जिसे चाहें उस पर जान लुटा देते हैं।

चेहरे पर मरने वाले हज़ार मिल जायेंगे,
कुछ लोग हर जरुरत पूरी कर जायेंगे,
ख्वाहिश है उसकी जो दिल से समझे हमें,
हम तो जिंदगी भी उसके नाम कर जायेंगे।

Itni Khamosh Mohabbat

Kyun Karte Ho Mujhse Itni Khamosh Mohabbat,
Log Samjhte Hain Iss BadNaseeb Ka Koi Nahi.

Unse Keh Do Kisi Aur Se Mohabbat Ki Na Soche,
Ek Hum Hi Kafi Hain Umr Bhar Chahne Ke Liye.

Utar Jaate Hain Kuchh Log Dil Mein Iss Qadar,
JinKo Dil Se Nikaalo Toh Jaan Nikal Jaati Hai.

Uske Husn Se Mili Hai Mere Ishq Ko Ye Shohrat,
Mujhe Janta Hi Kaun Tha Teri Deewangi Se Pahle.

Duniya Ke Sitam Yaad Na Apni Hi Wafa Yaad,
Ab Mujhko Nahi Kuchh Bhi Mohabbat Ke Siwa Yaad.

Badi Ajeeb Si Bandish Hai Uski Mohabbat Mein,
Na Woh Khud Qaid Kar Sake Na Hum Azaad Ho Sake.

क्यूँ करते हो मुझसे इतनी ख़ामोश मोहब्बत,
लोग समझते हैं इस बदनसीब का कोई नहीं।

उनसे कह दो किसी और से मोहब्बत की ना सोचें,
एक हम ही काफी हैं उन्हें उम्र भर चाहने के लिए।

उतर जाते है कुछ लोग दिल में इस कदर,
जिनको दिल से निकालो तो जान निकल जाती है।

उसके हुस्न से मिली है मेरे इश्क को ये शौहरत,
मुझे जानता ही कौन था तेरी दीवानगी से पहले।

दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद,
अब मुझको नहीं कुछ भी मोहब्बत के सिवा याद।

बड़ी अजीब सी बंदिश है उसकी मोहब्बत में,
न वो खुद क़ैद कर सके न हम आज़ाद हो सके।

Faasle Se Mila Karo

Koyi Haath Bhi Na Milayega,
Jo Gale Miloge Tapaak Se,
Ye Naye Mizaaz Ka Shahar Hai,
Zara Faasle Se Mila Karo.

Sheeshe Sa Badan Lekar Yun
Nikla Na Karo Raahon Mein,
Patthar Se Chhupe Hote Hain,
Yahan Logo Ki Nigaaho Mein.

Yeh Wafa Ki Sakht Raahein
Yeh Tumhare Paaon Naazuk,
Na Lo Intekaam Mujhse
Mere Saath Saath Chal Ke.

कोई हाथ भी न मिलाएगा,
जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिजाज का शहर है,
जरा फ़ासले से मिला करो।

शीशे सा बदन लेकर यूँ
निकला ना करो राहों में,
पत्थर से छुपे होते हैं
यहाँ लोगों की निगाहों में।

ये वफ़ा की सख़्त राहें
ये तुम्हारे पाँव नाज़ुक,
न लो इंतिक़ाम मुझसे
मेरे साथ साथ चल के।

Dhoop Mein Chhaaon Jaisa

Ruke Toh Chaand Chale Toh Hawaaon Jaisa Hai,
Woh Shakhs Dhoop Mein Bhi Chhaaon Jaisa Hai.

Nahi Pasand Mohabbat Mein Milawat Mujhko,
Agar Wo Mera Hai To Khwab Bhi Bas Mere Dekhe.

Ruka Hua Hai Azab Dhoop-Chhanv Ka Mausam,
Gujar Raha Hai Koi Dil Se Baadalon Ki Tarah.

Intezar, Ijhaar, Ibadat Sab Toh Kiya Maine,
Aur Kaise Bataaun Ke Pyar Ki Gehrayi Kya Hai.

Poochhte The Na Kitna Pyaar Hai Humein Tumse,
Lo Ab Ginn Lo Yeh Boobdein Barish Ki.

MujhKo Chahte Honge Aur Bhi Bahut Log,
Magar Mujhe Mohabbat Sirf Apni Mohabbat Se Hai.

Kee Hai Koi Haseen Khata Har Khata Ke Saath,
Thhoda Sa Pyar Bhi Mujhe De Do Saza Ke Saath.

रुके तो चाँद चले तो हवाओं जैसा है,
वो शख्स धूप में भी छाँव जैसा है।

नहीं पसंद मोहब्बत में मिलावट मुझको,
अगर वो मेरा है तो ख्वाब भी बस मेरे देखे।

रुका हुआ है अज़ब धूप-छाँव का मौसम,
गुजर रहा है कोई दिल से बादलों की तरह।

इंतजार, इज़हार, इबादत सब तो किया मैंने,
और कैसे बताऊँ कि प्यार की गहराई क्या है।

पूछते थे ना कितना प्यार है हमें तुम से,
लो अब गिन लो ये बूँदें बारिश की।

मुझको चाहते होंगे और भी बहुत लोग,
मगर मुझे मोहब्बत सिर्फ अपनी मोहब्बत से है।

की है कोई हसीन खता हर खता के साथ,
थोड़ा सा प्यार भी मुझे दे दो सज़ा के साथ।

Hasratein Aapke Bina Adhuri

Hasratein Rah Jayengi Aapke Bina Adhuri,
Zindagi Na Hogi Aapke Bina Puri,
Ab Aur Sahi Jaaye Na Yeh Doori,
Jeene Ke Liye Aapka Saath Hai Bahut Jaruri.

Humare Aansu Ponchh Kar Woh Muskurate Hain,
Isi Adaa Se Woh Dil Ko Churate Hain,
Haath Unka Chhu Jaye Humare Chehre Ko,
Isi Ummid Mein Hum Khud Ko Rulate Hain.

Jab Koi Khayal Dil Se Takrata Hai,
Dil Na Chah Bhi Khamosh Rah Jata Hai,
Koi Sab Kuchh Kahkar Pyar Jatata Hai,
Koi Kuchh Na Kahkar Bhi Sab Bol Jata Hai.

हसरतें रह जाएँगी आपके बिना अधूरी,
ज़िन्दगी न होगी आपके बिना पूरी,
अब और सही जाये न यह दूरी,
जीने के लिये आपका साथ है बहुत ज़रूरी।

हमारे आंसू पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं,
इसी अदा से वो दिल को चुराते हैं,
हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को,
इसी उम्मीद में हम खुद को रुलाते हैं।

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है,
दिल न चाह कर भी खामोश रह जाता है,
कोई सब कुछ कहकर प्यार जताता है,
कोई कुछ न कहकर भी सब बोल जाता है।

Jab Pyar Kisi Se Hota Hai

Jab Pyar Kisi Se Hota Hai,
Har Dard Dawa Ban Jata Hai.

Kya Cheej Mohabbat Hoti Hai,
Ek Shakhs Khuda Ban Jata Hai.

Yeh Lab Chahe Khamosh Rahein,
Aankhon Se Pata Chal Jata Hai.

Koi Lakh Chhupa Le Ishq Magar,
Duniya Ko Pata Chal Jata Hai.

Jab Ishq Ka Jaadu Chalta Hai,
Sehra Mein Kamal Khil Jata Hai.

Jab Koi Diwana Machalta Hai,
Tab Taaj Mahel Ban Jata Hai.


जब प्यार किसी से होता है,
हर दर्द दवा बन जाता है।

क्या चीज मुहब्बत होती है,
एक शख्स खुदा बन जाता है।

ये लब चाहे खामोश रहें,
आँखों से पता चल जाता है।

कोई लाख छुपा ले इश्क मगर,
दुनिया को पता चल जाता है।

जब इश्क का जादू चलता है,
सेहरा में कमल खिल जाता है।

जब कोई दिवाना मचलता है,
तब ताजमहल बन जाता है।

Tum Mere The Mere Ho

Koi Ghazal Suna Kar Kya Karna,
Yun Baat Badakar Kya Karna.
Tum Mere The Tum Mere Ho,
Duniya Ko Batakar Kya Karna.
Tum Saath Nibhao Chahat Se,
Koi Rasm Nibhakar Kya Karna.
Tum Khafa Hi Achhe Lagte Ho,
Phir Tumko Manakar Kya Karna.

कोई ग़ज़ल सुना कर क्या करना,
यूँ बात बढ़ा कर क्या करना।
तुम मेरे थे, तुम मेरे हो,
दुनिया को बता कर क्या करना।
तुम साथ निभाओ चाहत से,
कोई रस्म निभा कर क्या करना।
तुम खफ़ा भी अच्छे लगते हो,
फिर तुमको मना कर क्या करना।

Yeh Aashiqon Ki Bastiyan

Mat Kiya Kijiye Din Ke
Ujalon Ki Khwahishen,
Yeh Aashiqon Ki Bastiyan Hain
Yeha Chaand Se Din Nikalta Hai.

Meri Daastan Ka Uroj Tha,
Teri Narm Palkon Ke Chhaon Mein,
Mere Saath Tha Tujhe Jaagna,
Teri Aankh Kaise Jhapak Gayi.

Door Rahkar Bhi Jo Samaya Hai,
Meri Rooh Ke Gehrayi Mein,
Paas Walon Par Woh Shakhs,
Kitna Asar Rakhta Hoga.

Nafarato Ke Jahaan Mein Humko
Pyar Ki Bastiyan Basaani Hain,
Door Rehna Koyi Kamaal Nahi,
Paas Aao Toh Koyi Baat Bane.

मत किया कीजिये दिन के
उजालों की ख्वाहिशें,
ये जो आशिक़ों की बस्तियाँ हैं
यहाँ चाँद से दिन निकलता है।

मेरी दास्ताँ का उरोज था
तेरी नर्म पलकों की छाँव में,
मेरे साथ था तुझे जागना
तेरी आँख कैसे झपक गयी।

दूर रहकर भी जो समाया है,
मेरी रूह की गहराई में,
पास वालों पर वो शख्स,
कितना असर रखता होगा।

नफरतों के जहान में हमको
प्यार की बस्तियां बसानी हैं,
दूर रहना कोई कमाल नहीं,
पास आओ तो कोई बात बने।

Uss Ko Bhi Mera Khayal

Laazim Nahin Ke Usko Bhi Mera Khayal Ho,
Mera Jo Haal Hai Wohi Uss Ka Bhi Haal Ho,
Koyi Khabar Khushi Ki Kahin Se Mile Munir,
Iss Roz-O-Shab Mein Aisa Bhi Ik Din Kamaal Ho.

Meri Mohabbat Hai Woh Koi Majboori Toh Nahi,
Woh Mujhe Chahe Ya Mil Jaaye Jaruri Toh Nahi,
Yeh Kuchh Kam Hai Ki Basaa Hai Meri Saanso Mein Woh,
Saamane Ho Meri Aankho Ke Jaruri To Nahi.

Kuchh Likh Nahi Paate Kuchh Suna Nahi Paate,
Haal-e-Dil Jubaan Par La Nahi Paate,
Woh Utar Gaye Hain Dil Ki Gehraion Mein,
Woh Samajh Nahi Paate Aur Hum Samjha Nahi Paate.

लाजिम नहीं कि उस को भी मेरा ख्याल हो,
मेरा जो हाल है वही उसका भी हाल हो,
कोई खबर ख़ुशी की कहीं से मिले मुनीर,
इस रोज-ओ-शब में ऐसा भी इक दिन कमाल हो।

मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही,
वो मुझे चाहे या मिल जाये जरूरी तो नही,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो,
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नही।

कुछ लिख नहीं पाते कुछ सुना नहीं पाते,
हाल-ऐ-दिल जुबान पर ला नहीं पाते,
वो उतर गए हैं दिल की गहराइयों में,
वो समझ नहीं पाते और हम समझा नहीं पाते।

Rag Rag Mein Bikhri

Rag Rag Mein Hai Jo Bikhri
Woh Khushbu Tumhari Hai,
Maidan-e-Ishq Ki Baazi
Iss Dil Ne Bhi Haari Hai,
Mujhe Yun Chhod Ja Beshak Bhale
Par Bhool Na Paogi,
Tere Har Shikwe Par Bhaari
Yeh Mohabbat Humari Hai.

Haal Apne Dil Ka
Main Tumhein Suna Nahi Paate Hain,
Jo Sochte Rahte Hain HarPal
Honthhon Tak La Nahi Pate Hain.
Beshak Bahut Mohabbat Hai
Tumhare Liye Mere Dil Mein,
Par Pata Nahi Kyun Tumko
Phir Bhi Bata Nahi Paate Hain.

रग रग में है जो बिखरी
वो खुशबु तुम्हारी है,
मैदान-ए-इश्क़ की बाज़ी
इस दिल ने भी हारी है,
मुझे यूँ छोड़ जा बेशक भले
पर भूल ना पाओगी,
तेरे हर शिकवे पर भारी
ये मोहब्ब्त हमारी है।

हाल अपने दिल का
मैं तुम्हें सुना नहीं पाते हैं,
जो सोचते रहते हैं हरपल
होंठो तक ला नहीं पाते हैं।
बेशक बहुत मोहब्बत है
तुम्हारे लिए मेरे दिल में,
पर पता नहीं क्यों तुमको
फिर भी मैं बता नहीं पाते हैं।

Wo Samjhe Mera Mizaj

Kaash Koyi Mile Iss Tarah Ke Phir Judaa Naa Ho,
Wo Samjhe Mera Mizaj Aur Kabhi Khafa Na Ho,
Apne Ehsaas Se Baant Le Saari Tanhayi Meri,
Itna Pyar De Jo Pahle KisiNe KisiKo Diya Na Ho.

Tumhara Zarf Hai Tum Ko Mohabbat Bhool Jati Hai,
Humein Toh Jisne Hans Kar Bhi Pukara Yaad Rehta Hai,
Mohabbat Mein Jo Dooba Ho Use Sahil Se Kya Lena,
Kise Iss Behar Mein Jakar Kinara Yaad Rehta Hai.

काश कोई मिले इस तरह कि फिर जुदा न हो,
वो समझे मेरा मिजाज और कभी खफा न हो,
अपने एहसास से बाँट ले सारी तन्हाई मेरी,
इतना प्यार दे जो किसी ने किसी को दिया न हो।

तुम्हारा ज़र्फ़ है तुम को मोहब्बत भूल जाती है,
हमें तो जिस ने हँस कर भी पुकारा याद रहता है,
मोहब्बत में जो डूबा हो उसे साहिल से क्या लेना,
किसे इस बहर में जा कर किनारा याद रहता है।

Chaaha Toh Kya Khataa Ki

Tujhko Chaaha Toh Kya Khataa Ki Humne,
Ek Tere Liye Duniya Bhula Di Humne.

Tu Phir Bhi Rakhti Hai Shikayat Humse,
Sajdon Mein Tujhe Paane Ki Duaa Ki Humne.

Jab Se Mila Tera Sath Hamein Aye Sanam,
Tab Se Apni Har Tamanna Mita Di Humne.

Ek Aadat Si Ho Gayi Tujhe Yaad Karne Ki,
Tere Liye Apni Hasti Tak Ganwa Di Humne.

तुझको चाहा तो क्या खता की हमने,
एक तेरे लिए दुनिया भुला दी हमने.

तू फिर भी रखती है शिकायत हमसे,
सजदों में तुझे पाने की दुआ की हमने.

जब से मिला तेरा साथ हमें ऐ सनम,
तब से अपनी हर तमन्ना मिटा दी हमने.

एक आदत सी हो गयी तुझे याद करने की,
तेरे लिए अपनी हस्ती तक मिटा दी हमने।

Aapko Paane Ke Liye

Mana Ke Tum Jeete Ho Zamane Ke Liye,
Ek Baar Jee Ke Toh Dekho Humare Liye,
Dil Ki Kya Aukaat Aapke Saamne,
Hum Jaan De Denge Aapko Paane Ke Liye.

Zakhm Kya Kya Na Zindgi Se Mile,
Khwab Bhi Palkon Se Be-Rukhi Se Mile,
Aap Ko Mil Gaye Hain Kismat Se,
Hum Zamaane Mein Kab Kisi Ko Mile?

Wo Pyar Jo Haqiqat Mein Pyar Hota Hai,
Zindgi Mein Sirf Ek Bar Hota Hai,
Nigaho Ke Milte Milte Dil Mil Jaye,
Aisa Ittefaq Sirf Ek Baar Hota Hai.

Bhatakte Rahe Hain Baadal Ki Tarah,
Seene Se Laga Lo Aanchal Ki Tarah,
Gham Ke Raste Par Na Chhodna Akele,
Varna Toot Jayenge Payal Ki Tarah.

माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम जान दे देंगे आपको पाने के लिये।

ज़ख्म क्या क्या न ज़िन्दगी से मिले,
ख्वाब पलकों से बे-रुखी से मिले,
आप को मिल गए हैं किस्मत से,
हम ज़माने में कब किसी को मिले?

वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है,
जिन्दगी में सिर्फ एक बार होता है,
निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये,
ऐसा इतेफाक सिर्फ एक बार होता है।

भटकते रहे हैं बादल की तरह,
सीने से लगालो आँचल की तरह,
गम के रास्ते पर ना छोड़ना अकेले,
वरना टूट जाएँगे पायल की तरह।

Teri Ek Khwahish Ke Liye

Main Nasamajh Hi Sahi Magar Woh Tara Hun Jo,
Teri Ek Khwahish Ke Liye Sau Baar Toot Jaun.

Jab Tak Tumhein Na Dekhu Dil Ko Karaar Nahi Aata,
Kisi Gair Ke Saath Dekhun Toh Phir Sahaa Nahi Jata.

Tum Mujhe Ek Mauka Toh Do Aitbaar Banaane Ka,
Thak Jaoge Meri Wafaon Ke Saath Chalte Chalte.

Kheench Leti Hai Har Baar Mujhe Teri Mohabbat,
Varna Main Bahut Baar Mila Hun Akhiri Baar Tujhse.

Itna Na Muskurana Ki Najar Lag Jaye Zamaane Ki,
Yehan Har Najar Meri Tarah Mohabbat Ki Nahi Hoti.

 

मैं नासमझ ही सही मगर वो तारा हूँ जो,
तेरी एक ख्वाहिश के लिए सौ बार टूट जाऊं।

जब तक तुम्हें न देखूं दिल को करार नहीं आता,
किसी गैर के साथ देखूं तो फिर सहा नहीं जाता।

तुम मुझे एक मौका तो दो ऐतबार बनाने का,
थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते।

खींच लेती है हर बार मुझे तेरी मोहब्बत,
वरना मै बहुत बार मिला हूँ आखिरी बार तुझसे।

इतना न मुस्कुराना कि नजर लग जाए जमाने की,
यहाँ हर नजर मेरी तरह मोहब्बत की नही होती।

 

Dil Mein Mohabbat

Andaaz Badalne Lagte Hai Aankhon Mein Shararat Rahti Hai,
Chehre Se Pata Chal Jata Hai Jab Dil Mein Mohabbat Hoti Hai.

Ishq Mein Humne Wohi Kiya Jo Phool Karte Hai Baharon Mein,
Khamoshi Se Khile… Mehke… Aur Phir Bikhar Gaye.

Nahi Hai Hausla Mujhme Tumhein Khone Ka Par Sun Lo,
Yeh Duniya Mujhko Kho Degi Agar Tum Kho Gaye Mujhse.

Tujhe Sochoon Toh Pehlu Se Sarak Jata Hai Dil Mera,
Main Dil Pe Haath Rakhkar Dhadhkano Ko Thaam Leta Hoon.

Jo Tum Bolo Bikhar Jayein Jo Tum Chaho Sanwar Jayein,
Magar Yun Tutna Judna Bahut Takleef Deta Hai.

Dil Mein Teri Yaadein Hain Jubaan Pe Tera Hi Zikr Hai,
Main Kahta Hun Yeh Ishq Hai Tu Kahti Hai Bas Fikr Hai.

अंदाज़ बदलने लगते हैं आँखों में शरारत रहती है,
चेहरे से पता चल जाता है जब दिल में मोहब्बत होती है।

इश्क़ में हमने वही किया जो फूल करते हैं बहारों में,
खामोशी से खिले… महके… और फिर बिखर गए।

नहीं है हौसला मुझमें तुम्हें खोने का पर सुन ले,
यह दुनिया मुझको खो देगी अगर तुम खो गए मुझसे।

तुझे सोचूं तो पहलू से सरक जाता है दिल मेरा,
मैं दिल पे हाथ रखकर धड़कनों को थाम लेता हूँ।

जो तुम बोलो बिखर जाएँ जो तुम चाहो संवर जायें,
मगर यूँ टूटना जुड़ना बहुत तकलीफ देता है।

दिल में तेरी ही यादें हैं जुबां पे तेरा ही ज़िक्र है,
मैं कहता हूँ ये इश्क़ है तू कहती है बस फ़िक्र है।

Kitni Shiddat Se Mohabbat

Tumko Paane Ki Tamanna Nahi
Phir Bhi Khone Ka Darr Hai.
Kitni Shiddat Se Dekho
Maine Tumse Mohabbat Kee Hai.

Riwaaj Toh Yahi Hai Duniya Ka
Mil Jana Bichhad Jana,
Tum Se Yeh Kaisa Rishta Hai
Na Milte Ho Na Bichadte Ho.

Aukat Nahi Thi Jamaane Ki
Jo Meri Keemat Laga Sake,
Kambakht Ishq Mein Kya Gire
Muft Mein Neelam Ho Gaye.

Mohabbat Haath Mein Pahni Huyi
Choodi Ke Jaisi Hai,
Sanwarti Hai, Khankti Hai
Aur Akhir Toot Jati Jati.

तुमको पाने की तमन्ना नहीं
फिर भी खोने का डर है,
कितनी शिद्दत से देखो
मैनें तुमसे मोहब्बत की है।

रिवाज तो यही है दुनिया का
मिल जाना बिछड़ जाना,
तुम से ये कैसा रिश्ता है
न मिलते हो न बिछड़ते हो।

औक़ात नहीं थी जमाने की
जो मेरी कीमत लगा सके,
कबख़्त इश्क में क्या गिरे
मुफ़्त में नीलाम हो गए।

मोहब्बत हाथ में पहनी हुई
चूड़ी के जैसी है,
संवरती है, खनकती है
और आखिर टूट जाती है।

Kitni Shiddat Se Mohabbat

Tumko Paane Ki Tamanna Nahi
Phir Bhi Khone Ka Darr Hai.
Kitni Shiddat Se Dekho
Maine Tumse Mohabbat Kee Hai.

Riwaaj Toh Yahi Hai Duniya Ka
Mil Jana Bichhad Jana,
Tum Se Yeh Kaisa Rishta Hai
Na Milte Ho Na Bichadte Ho.

Aukat Nahi Thi Jamaane Ki
Jo Meri Keemat Laga Sake,
Kambakht Ishq Mein Kya Gire
Muft Mein Neelam Ho Gaye.

Mohabbat Haath Mein Pahni Huyi
Choodi Ke Jaisi Hai,
Sanwarti Hai, Khankti Hai
Aur Akhir Toot Jati Jati.

तुमको पाने की तमन्ना नहीं
फिर भी खोने का डर है,
कितनी शिद्दत से देखो
मैनें तुमसे मोहब्बत की है।

रिवाज तो यही है दुनिया का
मिल जाना बिछड़ जाना,
तुम से ये कैसा रिश्ता है
न मिलते हो न बिछड़ते हो।

औक़ात नहीं थी जमाने की
जो मेरी कीमत लगा सके,
कबख़्त इश्क में क्या गिरे
मुफ़्त में नीलाम हो गए।

मोहब्बत हाथ में पहनी हुई
चूड़ी के जैसी है,
संवरती है, खनकती है
और आखिर टूट जाती है।

Lutf-e-Tasawwur

Josh-e-Junoon Mein Lutf-e-Tasawwur Na Puchhiye,
Phirte Hain Saath Saath Unhein Hum Liye Huye.

Uss Shakhs Se Faqat Itna Sa Talluq Hai Mera,
Woh Pareshan Hota Hai Toh Mujhe Neend Nahi Aati.

Mat Chaho Kisi Ko Itna Tootkar Zindgi Mein,
Agar Bichhad Gaye Toh Har Adaa Tang Karegi.

Waha Tak Chale Chalo Jahan Tak Saath Mumkin Hai,
Jaha Halaat Badlenge Waha Tum Bhi Badal Jana.

Ek Pal Ke Liye Meri Najron Ke Saamne Aaja,
Ek Muddat Se Maine Khud Ko Ayine Mein Nahi Dekha.

जोश-ए-जुनूँ में लुत्फ़-ए-तसव्वुर न पूछिए,
फिरते हैं साथ साथ उन्हें हम लिए हुए।

उस शख्स से फ़क़त इतना सा ताल्लुक है मेरा,
वो परेशान होता है तो मुझे नींद नहीं आती है।

मत चाहो किसी को इतना टूटकर ज़िन्दगी में,
अगर बिछड़ गये तो हर एक अदा तंग करेगी।

वहां तक चले चलो जहाँ तक साथ मुमकिन है,
जहाँ हालात बदलेंगे वहां तुम भी बदल जाना।

एक पल के लिए मेरी नज़रो के सामने आजा,
एक मुद्दत से मैंने खुद को आईने में नहीं देखा।

Mohabbat Jo Dil Mein Hai

Jo Mohabbat Tumhare Dil Mein Hai,
Use Zubaan Par Laao Aur Bayaan Kar Do,
Aaj Bas Tum Kaho Aur Kehte Hi Jao,
Hum Bas Sunein Aise Bejuban Kar Do.

Khak Udti Hai Raat Bhar Mujh Mein,
Kaun Phirta Hai Dar-Ba-Dar Mujh Me,
Mujh Ko Mujh Mein Jagah Nahi Milti,
Koyi Maujood Hai Iss Kadar Mujh Mein.

Vaade Pe Woh Mere Aitbaar Nahi Karte,
Hum Zikre Mohabbat Sare Bajar Nahi Karte,
Darta Hai Dil Unki Ruswai Na Ho Jaye,
Woh Samajhte Hai Hum Unse Pyaar Nahi.

जो मोहब्बत तुम्हारे दिल में है,
उसे जुबां पर लाओ और बयां कर दो,
आज बस तुम कहो और कहते ही जाओ,
हम बस सुनें ऐसे बेज़ुबान कर दो।

ख़ाक उड़ती है रात भर मुझमें,
कौन फिरता है दर-ब-दर मुझमें,
मुझ को मुझमें जगह नहीं मिलती,
कोई मौजूद है इस क़दर मुझमें।

वादे पे वो मेरे ऐतबार नहीं करते,
हम ज़िक्रे मौहब्बत सरे बाजार नहीं करते,
डरता है दिल उनकी रुसवाई न हो जाए,
वो समझते हैं हम उनसे प्यार नहीं करते।

Mohabbat Mein Intzaar

Mohabbat Mein Kisi Ka Intzaar Na Karna,
Gar Ho Sake Toh Kisi Se Pyar Na Karna,
Kuchh Nahi Milta Kisi Se Mohabbat Kar Ke,
Khud Ki Zindgi Iss Par Bekaar Na Karna.

Aankhon Mein Basi Hai Soorat Aapki,
Dil Mein Chhupi Hai Moorat Aapki,
Mahsoos Hota Hai Jeene Ke Liye,
Humein Toh Bas Jaroorat Hai Aapki.

मोहब्बत में किसी का इंतजार न करना,
हो सके तो किसी से प्यार न करना,
कुछ नहीं मिलता किसी से मोहब्बत करके,
खुद की ज़िन्दगी इस पर बेकार न करना।

आँखों में बस बसी है सूरत आपकी,
दिल में छुपी है मूरत आपकी,
महसूस होता है जीने के लिए,
हमें तो बस है जरूरत आपकी।

Thaam Lo Uska Haath

Phir Na Simtegi Mohabbat Jo Bikhar Jayegi,
Zindgi Zulf Nahi Jo Phir Sanwar Jayegi,
Thaam Lo Uska Haath Jo Pyar Kare Tumse,
Yeh Zindgi Na Milegi Jo Gujar Jayegi.

Alfaz Ki Shakl Mein Ehsaas Likha Jata Hai,
Yahah Par Paani Ko Pyaas Likha Jata Hai,
Mere Jazbat Se Wakif Hai Meri Kalam Bhi
Pyar Likhu Toh Tera Naam Likha Jata Hai.

Kabhi Kabhar Sahi Milne Ke Bahaane Chahiye,
Iss Dil Ko Yaadon Ke Aashiyane Chahiye,
Jinse Ho Jaati Hai Zindagi Jannat Meri,
Nigaahon Ko Bas Woh Hi Thhikaane Chahiye.

फिर न सिमटेगी मोहब्बत जो बिखर जायेगी,
ज़िंदगी ज़ुल्फ़ नहीं जो फिर संवर जायेगी,
थाम लो हाथ उसका जो प्यार करे तुमसे,
ये ज़िंदगी न मिलेगी जो गुज़र जायेगी।

अल्फाज़ की शक्ल में एहसास लिखा जाता है,
यहाँ पर पानी को प्यास लिखा जाता है,
मेरे जज़्बात वाकिफ से है मेरी कलम भी,
प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिखा जाता है।

कभी कभार सही मिलने के बहाने चाहिए,
इस दिल को यादों के आशियाने चाहिए,
जिनसे हो जाती है ज़िन्दगी ज़न्नत मेरी,
निगाहों को बस वो ही ठिकाने चाहिए।

Pyar Tab Tak Haseen Hai

Dil-E-Gumrah Ko Kash Yeh Malum Hota,
Pyar Tab Tak Haseen Hai Jab Tak Nahi Hota.

Lena Padega Ishq Mein Tark-e-Wafaa Se Kaam,
Parhej Iss Marz Mein Hai Behtar ilaaj Se.

Waqt Mile Toh Pyar Ki Kitaab Parh Lena,
Har Pyar Karne Wale Ki Kahani Adhuri Hoti Hai.

Hosh Aaye To Kyu Kar Tere Deewaane Ko,
Ek Jata Hai To Do Aate Hain Samjhaane Ko.

Mere Haathon Ki Lakeeron Mein Samaane Wale,
Kaise Chhinenge Tujhe Mujhse Zamane Wale.

Kya Haseen Ittefaq Hai Unki Gali Mein Hum,
Ek Kaam Se Gaye The Aur Har Kam Se Gaye.

दिल-ए-गुमराह को काश ये मालूम होता,
प्यार तब तक हसीन है, जब तक नहीं होता।

लेना पड़ेगा इश्क में तर्क-ए-वफ़ा से काम,
परहेज इस मर्ज़ में है बेहतर इलाज से।

वक़्त मिले तो प्यार की किताब पढ़ लेना,
हर प्यार करने वाले की कहानी अधूरी होती है।

होश आये तो क्यों कर तेरे दीवाने को,
एक जाता है तो दो आते हैं समझाने को।

मेरे हाथों की लकीरों में समाने वाले,
कैसे छीनेंगे तुझे मुझसे ज़माने वाले।

क्या हसीन इत्तेफाक है उनकी गली में हम,
एक काम से गए थे और हर काम से गए।

Sachcha Pyar Kismat Se

Pyar Ki Kali Sabke Liye Khilti Nahi,
Chahne Par Har Ek Cheej Milti Nahi,
Sachcha Pyar Kismat Se Hi Milta Hai,
Aur Har Kisi Ko Aisi Kismat Milti Nahi.

Rasmon Ribaajo Ki Parwaah Karte Hain,
Pyar Mein Woh Log Gunaah Karte Hain,
Ishq Wo Junoon Hai Jismein Deewane,
Apni Khushi Se Khud Ko Tabaah Karte Hain.

Dil Ki Aawaj Ko Ijhaar Kahte Hain,
Jhuki Huyi Nigaah Ko Ikraar Kahte Hain,
Sirf Paane Ka Naam Hi Ishq Nahi,
Kuchh Khone Ko Hi Sachcha Pyar Kehte Hain.

प्यार की कली सब के लिए खिलती नहीं,
चाहने पर हर एक चीज मिलती नहीं,
सच्चा प्यार किस्मत से मिलता है,
और हर किसी को ऐसी किस्मत मिलती नहीं।

रस्मों रिवाज की जो परवाह करते हैं,
प्यार में वो लोग गुनाह करते हैं,
इश्क़ वो जुनून है जिसमें दीवाने,
अपनी ख़ुशी से खुद को तबाह करते हैं।

दिल की आवाज़ को इज़हार कहते हैं,
झुकी हुयी निगाह को इकरार कहते हैं,
सिर्फ पाने का नाम ही इश्क नहीं,
कुछ खोने को ही सच्चा प्यार कहते हैं।

Pyaar Ki Ek Boond

Kaun Kahta Hai Hum Uske Bina Mar Jayenge,
Hum Toh Dariya Hain Samandar Mein Utar Jayenge,
Woh Taras Jayenge Pyaar Ki Ek Boond Ke Liye,
Hum Toh Badal Hain Pyaar Ke Kahin Aur Baras Jayenge.

Na Main Khayal Mein Tere Na Main Gumaan Mein Hoon,
Yakeen Dil Ko Nahi Hai Ke Iss Jahaan Mein Hoon,
Khudaya Rakhiyega Duniya Mein Sarfaraz Mujhe,
Mein Pehle Ishq Ke Pehle Imtehaan Mein Hoon.

Roj Aa Jate Ho Tum Neend Ki Munderon Par,
Baadalon Mein Chhupe Ek Khwaab Ka Mukhda Ban Kar,
Khud Ko Failaao Kabhi Aasmaan Ki Baahon Sa,
Tum Mein Ghul Jaaye Koi Chaand Ka Tukda Ban Kar.

कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे,
हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे,
वो तरस जायेंगे प्यार की एक बूँद के लिए,
हम तो बादल है प्यार के कहीं और बरस जायेंगे।

ना मैं ख्याल में तेरे ना मैं गुमान में हूँ,
यकीन दिल को नहीं है कि इस जहान में हूँ,
खुदाया रखियेगा दुनिया में सरफ़राज़ मुझे,
मैं पहले इश्क़ के पहले इम्तिहान में हूँ।

रोज़ आ जाते हो तुम नींद की मुंडेरों पर,
बादलों में छुपे एक ख़्वाब का मुखड़ा बन कर,
खुद को फैलाओ कभी आसमाँ की बाँहों सा,
तुम में घुल जाए कोई चाँद का टुकड़ा बन कर।

Pyaar Ki Shuruaat

Ittefak Se Hi Sahi Magar Mulakat Ho Gayi,
Dhoondh Rahe The Hum Jinhein Unn Se Baat Ho Gayi,
Dekhte Hi Unko Jaane Kahan Kho Gaye,
Wahin Se Humaare Pyaar Ki Shuruaat Ho Gayi.

Pahli Mohabbat Thi Hum Yeh Jaan Na Sake,
Yeh Pyaar Kya Hota Hai Hum Pehchan Na Sake,
Woh Dil Mein Humare Bas Gaye Hain Iss Kadar,
Jab Bhi Chaha Unhein Dil Se Nikal Na Sake.

Dil Ki Kitaab Mein Gulab Unka Tha,
Raat Ki Neendo Mein Khwab Unka Tha,
Kitna Pyar Karte Ho Jab Humne Pucha,
Mar Jayenge Tumhre Bina Yeh Jawab Unka.

इत्तेफ़ाक़ से ही सही मगर मुलाकात हो गयी,
ढूंढ रहे थे हम जिन्हें उन से बात हो गयी,
देखते ही उन को जाने कहाँ खो गए हम,
वहीं से हमारे प्यार की शुरुआत हो गयी।

पहली मोहब्बत थी हम ये जान न सके,
ये प्यार क्या होता है हम पहचान न सके,
वो दिल में हमारे बस गए हैं इस कदर,
जब भी चाहा उन्हें दिल से निकाल न सके।

दिल की किताब में गुलाब उनका था,
रात की नींद में ख्वाब उनका था,
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा,
मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था।

Humari Tarah Kaun Chahega

Agar Talaash Karoge Toh Koyi Mil Hi Jayega,
Magar Humari Tarah Kaun Tumhein Chahega.

Tumhein Zaroor Koyi Chahaton Se Dekhega,
Magar Wo Aankhein Hamaari Kahan Se Layega.

Na Jane Kab Teer-e-Dil Par Nayi Si Dastak Ho,
Makaan Khali Hua Hai Toh Koyi Ayega.

Main Apni Raah Mein Deewar Ban Ke Baitha Hun,
Agar Woh Aaya Toh Kis Raaste Se Aayega.

Tumhare Saath Yeh Mausam Farishton Jaisa Hai,
Tumhare Baad Yeh Mausam Bahut Sataayega.

अगर तलाश करोगे तो मिल ही जायेगा,
मगर हमारी तरह कौन तुम्हें चाहेगा।

तुम्हें जरूर कोई चाहतों से देखेगा,
मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लायेगा।

न जाने कब तीर-ए-दिल पर नई सी दस्तक हो,
मकान खाली हुआ है तो कोई आएगा।

मैं अपनी राह में दीवार बन के बैठा हूँ,
अगर वो आया तो किस रास्ते से आएगा।

तुम्हारे साथ ये मौसम फरिश्तों जैसा है,
तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सताएगा।

Tum Se Mohabbat Hai

Zaroori Kaam Hai Lekin Rojana Bhul Jata Hu,
Mujhe Tum Se Mohabbat Hai Batana Bhul Jata Hu,
Teri Galion Mein Phirna Itna Achha Lagta Hai,
Mein Rasta Yaad Rakhta Hun Thikana Bhul Jata Hu,
Bas Itni Baat Par Main Logon Ko Achha Nahi Lagta,
Main Neki Kar Toh Deta Hun Jatana Bhul Jata Hu.

Na Jane Mohabbat Mein Kitne Afsaane Ban Jate Hain,
Shama Jisko Bhi Jalati Hai Wo Parwane Ban Jate Hain,
Kuchh Hasil Karna Hi Pyar Ki Manzil Nahi Hoti,
Kisi Ko Khokar Bhi Kuchh Log Diwane Ban Jate Hain.

Najar Se Najar Ko Milaao Nazar Ka Aitbar Karo,
Hum Tum Se Sanam Aur Tum Hum Se Pyar Karo,
Tum Jo Ruthho Toh Kuchh Bhi Karke Manayein Tumko,
Hum Jo Pal Bhar Ko Jaayein Toh Tum Intezar Karo.

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ,
तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है,
मैं रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ,
बस इतनी बात पर मैं लोगों को अच्छा नहीं लगता,
मैं नेकी कर तो देता हूँ जताना भूल जाता हूँ।

ना जाने मोहब्बत में कितने अफसाने बन जाते हैं,
शमां जिसको भी जलाती है वो परवाने बन जाते हैं,
कुछ हासिल करना ही प्यार की मंजिल नहीं होती,
किसी को खोकर भी कुछ लोग दीवाने बन जाते हैं।

नजर से नजर को मिलाओ नजर का ऐतबार करो,
हम तुम से सनम और तुम हम से प्यार करो,
तुम जो रूठो तो कुछ भी करके मनाएं तुमको,
हम जो पल भर को जायें तो तुम इंतज़ार करो।

Pyaar Chhupaya Na Karo

Ret Par Likh Ke Mera Naam Mitaya Na Karo,
Aankh Sach Bolti Hai Pyaar Chhupaya Na Karo

Log Har Baat Ka Afsaana Bana Lete Hain,
Sabko Haalat Ki Rudaad Sunaya Na Karo.

Yeh Jaruri Nahi Har Shakhs Maseeha Hi Ho,
Pyaar Ke Zakhm Amaanat Hain Dikhaya Na Karo.

Shahar-e-Ehsaas Mein Pathrav Bahut Hain Mohsin,
Dil Ko Sheeshe Ke Jharokhon Mein Sajaya Na Karo.

रेत पर लिख के मेरा नाम मिटाया न करो,
आँख सच बोलती है प्यार छुपाया न करो।

Log Har Baat Ka Afsaana Bana Lete Hain,
Sabko Haalat Ki Rudaad Sunaya Na Karo.

Yeh Jaruri Nahi Har Shakhs Maseeha Hi Ho,
Pyaar Ke Zakhm Amaanat Hain Dikhaya Na Karo.

Shahar-e-Ehsaas Mein Pathrav Bahut Hain Mohsin,
Dil Ko Sheeshe Ke Jharokhon Mein Sajaya Na Karo.

Tera Saath Chahta Hu

Main Kuchh Lamha Aur Tera Saath Chahta Hu,
Aankho Mein Jo Jam Gayi Woh Barsaat Chahta Hu,
Suna Hai Mujhe Bahut Chahati Hai Woh Magar,
Main Uski Zubaan Se Ek Baar Izhaar Chahta Hu.

Aapki Yaad Humein Bechain Banaa Jaati Hai,
Har Jagah Humein Aapki Surat Najar Aati Hai,
Kaisa Haal Kiya Hai Mera Aapke Pyar Ne,
Neend Aati Hai Toh Aankhein Bura Maan Jati Hain.

Reh Na Paaoge Humein Bhula Kar Dekh Lo,
Yakeen Na Aaye Toh Aazma Kar Dekh Lo,
Har Jagah Mehsoos Hogi Humaari Kami,
Apni Mehfil Ko Kitna Bhi Saja Kar Dekh Lo.

मैं कुछ लम्हा और तेरा साथ चाहता हूँ,
आँखों में जो जम गयी वो बरसात चाहता हूँ,
सुना हैं मुझे बहुत चाहती है वो मगर,
मैं उसकी जुबां से एक बार इज़हार चाहता हूँ।

आपकी याद हमें बेचैन बना जाती हैं,
हर जगह हमें आपकी सूरत नज़र आती हैं,
कैसा हाल किया है मेरा आपके प्यार ने,
नींद आती हैं तो आँखे बुरा मान जाती हैं।

रह न पाओगे हमें भुला कर देख लो,
यकीन न आये तो आजमा कर देख लो,
हर जगह महसूस होगी हमारी कमी,
अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो।

Ishq Pehchan Na Deta

Sirf Isharon Mein Hoti Mohabbat Agar,
In Alafazon Ko Khoobsurati Kaun Deta?
Bas Pathar Ban Ke Reh Jaata Taj Mahal,
Agar Ishq Ise Apni Pehchan Na Deta.

Teri Aarzoo Mein Humne Baharo Ko Dekha,
Tere Khayalo Mein Humne Sitaro Ko Dekha,
Humein Pasand Tha Bas Aapka Hi Saath,
Varna In Aankho Ne Toh Hajaro Ko Dekha.

सिर्फ इशारों में होती महोब्बत अगर,
इन अलफाजों को खुबसूरती कौन देता?
बस पत्थर बन के रह जाता ताज महल
अगर इश्क इसे अपनी पहचान ना देता।

तेरी आरज़ू में हमने बहारों को देखा,
तेरे ख्यालों में हमने सितारों को देखा,
हमें पसंद था बस आपका ही साथ,
वर्ना इन आँखों ने तो हजारों को देखा।

Hamein Ishq Ho Gaya

Do Baatein Unse Ki To Dil Ka Dard Kho Gaya,
Logon Ne Humse Puchha Ki Tumhe Kya Ho Gaya,
BeChain Aankho Se Sirf Hans Ke Hum Rah Gaye,
Ye Bhi Na Kah Sake Ki Hamein Ishq Ho Gaya.

Aag Se Seekh Liya Hum Ne Yeh Kareena Bhi,
Bujhh Bhi Jana Par Der Badi Tak Sulagte Rahna,
Jaane Kis Umr Mein Jayegi Yeh Aadat Apni,
Roothhna Uss Se Aur Auron Se Ulajhte Rahna.

Tere Pyar Ka Sila Har Haal Mein Denge,
Khuda Bhi Maange Yeh Dil Toh Taal Denge,
Agar Dil Ne Kaha Ke Tum Bewafa Ho,
Toh Iss Dil Ko Bhi Seene Se Nikaal Denge.

Sapno Ki Duniya Mein Khote Chate Gaye,
MadHosh Na The Par MadHosh Hote Chale Gaye,
Na Jaane Kya Baat Thi Uss Chehre Mein,
Na Chahte Hue Bhi Uske Hote Chale Gaye.

दो बातें उनसे की तो दिल का दर्द खो गया,
लोगों ने हमसे पूछा कि तुम्हें क्या हो गया,
बेचैन आँखों से सिर्फ हँस के हम रह गए,
ये भी ना कह सके कि हमें इश्क़ हो गया।

आग से सीख लिया हम ने यह करीना भी,
बुझ भी जाना पर बड़ी देर तक सुलगते रहना,
जाने किस उम्र में जाएगी यह आदत अपनी,
रूठना उससे और औरों से उलझते रहना।

तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे,
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे,
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो,
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।

सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए,
मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए,
ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में,
ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए।

Chahat Ka Samander

Bhigi Huyi Aankhon Ka Yeh Manjar Na Milega,
Ghar Chhod Kar Mat Jaao Kahin Ghar Na Milega.

Phir Yaad Bahut Aayegi Zulfon Ki Ghani Shaam,
Jab Dhoop Mein Saya Koyi Sar Par Na Milega.

Aansu Hain Yeh Inhein Os Ka Katra Na Samjhana,
Kahin Aisa Tumhein Chahat Ka Samander Na Milega.

भीगी हुयी आँखों का ये मंजर न मिलेगा,
घर छोड़ कर मत जाओ कहीं घर न मिलेगा।

फिर याद बहुत आएगी जुल्फों की घनी शाम,
जब धूप में साया कोई सर पर न मिलेगा।

आंसू हैं ये इन्हें ओस का कतरा न समझना,
कहीं ऐसा तुम्हें चाहत का समन्दर न मिलेगा।

Mera Khuda Badal Gaya

Najar Namaaz Najariya Sab Kuchh Badal Gaya,
Ek Roj Ishq Hua Aur Mera Khuda Badal Gaya.

Shaam Hote Hi Tere Pyar Ki Pagal Khushboo,
Neend Ankhon Se Sukoon Dil Se Chura Leti Hai.

Kuchh Wo Bhi Chahta Tha Yahan Mustqil Qayam,
Toh Maine Bhi Usko Dil Se Nikalne Nahi Diya.

Lag Jaaye Zamaane Ki Hawa Jaane Kab Usko,
Wo Shakhs Bhi Insaan Hai Kuchh Kah Nahi Sakte.

Ishq Ke Sab ilzaam Humin Pe Hi Aate Jate Hain
Koi Uss Se Kaho Wo Bhi To Koi Gunaah Kare.

Uski Aadat Hai Mere Baal Bigaade Rakhna.
Uski Koshish Hai Kisi Aur Ko Achha Na Lagun.

नजर नमाज नजरिया सब कुछ बदल गया,
एक रोज इश्क़ हुआ और मेरा खुदा बदल गया।

शाम होते ही तेरे प्यार की पागल खुशबू,
नींद आँखों से सुकून दिल से चुरा लेती है।

कुछ वो भी चाहता था यहाँ मुस्तक़िल क़ायम,
तो मैंने भी उसको दिल से निकलने नहीं दिया।

लग जाए जमाने की हवा जाने कब उसको,
वो शख्स भी इंसान है कुछ कह नहीं सकते।

इश्क़ के सब इल्ज़ाम हमीं पे ही आते जाते हैं,
कोई उससे कहो वो भी तो कोई गुनाह करे।

उस की आदत है मेरे बाल बिगाड़े रखना,
उसकी कोशिश है किसी और को अच्छा न लगूँ।

Parh Lenge Aankho Mein Mohabbat

Sukoon Mil Gaya Mujhko Badnaam Hokar,
Aapke Har Ek ilzaam Pe Yun Be-Zubaan Hokar,
Log Parh Hi Lenge Aapki Aankho Mein Mohabbat,
Chaahe Kar Do Inkaar Yun Hi Anjaan Ho Kar.

Humein Toh Apni Mohabbat Ko Aazmana Tha,
Teri Gali Se Gujarna Toh Ek Bahana Tha,
Kareeb Pahunche Samandar Ke Toh Khyaal Aaya,
Humein Kisi Ki Nigaahon Mein Doob Jana Tha.

सुकून मिल गया मुझको बदनाम होकर,
आपके हर एक इल्ज़ाम पे यूँ बेजुबान होकर,
लोग पढ़ ही लेंगें आपकी आँखों में मोहब्बत,
चाहे कर दो इनकार यूँ ही अनजान होकर।

हमें तो अपनी मोहब्बत को आजमाना था,
तेरी गली से गुजरना तो एक बहाना था,
करीब पहुंचे समंदर के तो ख्याल आया,
हमें किसी की निगाहों में डूब जाना था।

Aap Jo Khafa Ho Gaye

Jamana Agar Hum Se Ruth Bhi Jaye Toh,
Iss Baat Ka Hamein Gam Na Koyi Hoga,
Magar Aap Jo Humse Khafa Ho Gaye Toh,
Hum Par Iss Se Bada Sitam Na Koyi Hoga.

Chah Kar Bhi Juda Na Reh Sakoge,
Khafa Ho Ke Bhi Khafa Na Reh Sakoge,
Hum Rishta Hi Kuch Aise Nibhayege,
Ki Aap Humare Bina Na Reh Sakoge.

Jo Rehte Hai Dil Me Wo Juda Nahi Hote,
Kuch Ehsaas Lafzon Me Bayan Nahi Hote,
Ek Hasrat Hai Unhe Manane Ki,
Wo Itne Achhe Hai Ki Kabhi Khafa Nahi Hote.

जमाना अगर हम से रूठ भी जाये तो,
इस बात का हमें गम न कोई होगा,
मगर आप जो हमसे खफा हो गए तो,
हम पर इस से बड़ा सितम न कोई होगा।

चाह कर भी जुदा न रह सकोगे,
खफा हो के भी खफा न रह सकोगे,
हम रिश्ता ही कुछ ऐसे निभाएंगे,
कि आप हमारे बिना न रह सकोगे।

जो रहते हैं दिल में वो जुदा नहीं होते,
कुछ एहसास लफ़्ज़ों से बयां नहीं होते,
एक हसरत है कि उनको मनाये कभी,
एक वो हैं कि कभी खफा नहीं होते।

Ishq Ki Raah Mein

Khuda Ki Rehmat Mein Arziyan Nahi Chalti,
Dilon Ke Khel Mein Khud-Garziyan Nahi Chalti,
Chal Hi Pade Hain To Yeh Jaan Lijiye Huzoor,
Ishq Ki Raah Mein Man-Marjiyan Nahi Chalti.

Armaan Koi Seene Mein Aag Laga Deta Hai,
Ek Khwab Aakar Raaton Ko Neend Uda Deta Hai,
Puchhta Hoon Jis Se Bhi Manzil Ka Pata Main,
Har Koi Rasta Tere Ghar Ka Bata Deta Hai.

Lipta Hai Mere Dil Se Kisi Raaz Ki Manind,
Woh Shakhs Ke Jis Ko Mera Hona Bhi Nahin Hai,
Yeh Ishq Mohabbat Ki Riwayat Bhi Azab Hai,
Paana Bhi Nahin Hai Use Khona Bhi Nahin Hai.

खुदा की रहमत में अर्जियाँ नहीं चलतीं,
दिलों के खेल में खुद-गर्जियाँ नहीं चलतीं।
चल ही पड़े हैं तो ये जान लीजिए हुजुर,
इश्क़ की राह में मन-मर्जियाँ नहीं चलतीं।

अरमान कोई सीने में आग लगा देता है,
एक ख्वाब आकर रातों को नींद उड़ा देता है,
पूछता हूँ जिस से भी मंजिल का पता मैं,
हर कोई रस्ता तेरे घर का बता देता है।

लिपटा है मेरे दिल से किसी राज़ की मानिंद,
वो शख्स कि जिसको मेरा होना भी नहीं है,
ये इश्क़ मोहब्बत की रिवायत भी अजब है,
पाना भी नहीं है उसे खोना भी नहीं है।

Pyar Ke Lafz

Kabhi Sambhle Toh Kabhi Bikhar Gaye,
Ab Toh Khud Mein Hi Simat Gaye Hum,
Yun Toh Jamana Khareed Nahi Sakta Hamein,
Magar Pyaar Ke Do Lafzon Se Bik Gaye.

Badega Asar Pyar Ka Tere Dil Par,
Toh Tu Bhi Akele Mein Muskurayega,
Aayegi Jab Bhi Meri Yaad Tanhai Mein,
Tu Mujhe Soch-Soch Kar Sharmayega.

Woh Kabhi Mil Jayein Toh Kya Kijiye,
Raat Din Soorat Ko Dekha Kijiye,
Chandni Raaton Mein Ek Ek Phool Ko,
BeKhudi Kehti Hai Sajda Kijiye.

कभी संभले तो कभी बिखर गए हम,
अब तो खुद में ही सिमट गए हम,
यूँ तो जमाना खरीद नहीं सकता हमें,
मगर प्यार के दो लफ़्ज़ों से बिक गए हम।

बढ़ेगा असर प्यार का तेरे दिल पर
तो तू भी अकेले में मुस्कुराएगा,
आएगी जब भी मेरी याद तन्हाई में
तू मुझे सोच-सोच कर शरमायेगा।

वो कभी मिल जाएं तो क्या कीजिये,
रात दिन सूरत को देखा कीजिये,
चाँदनी रातों में एक एक फूल को,
बेखुदी कहती है सज़दा कीजिये।

Dil Mein Basana Mujhe

Kachchi Deewar Hoon Thokar Na Lagana Mujhe,
Apni Najron Mein Basaa Kar Na Girana Mujhe,
Tumko Aankhon Mein Tasawwur Ki Tarah Rakhta Hoon,
Dil Mein Dhadkan Ki Tarah Tum Bhi Basana Mujhe.

Jisko Chaaho Usey Chahat Bata Bhi Dena,
Kitna Pyar Hai Uss Se Yeh Jataa Bhi Dena,
Yun Na Ho Ki Uska Dil Kahin Aur Lag Jaye,
Karke Izhaar Uske Dil Ko Chura Bhi Lena.

कच्ची दीवार हूँ ठोकर ना लगाना मुझे,
अपनी नज़रों में बसा कर ना गिराना मुझे,
तुमको आँखों में तसव्वुर की तरह रखता हूँ,
दिल में धड़कन की तरह तुम भी बसाना मुझे।

जिसको चाहो उसे चाहत बता भी देना,
कितना प्यार है उससे ये जता भी देना,
यूँ न हो कि उसका दिल कहीं और लग जाए,
करके इजहार उसके दिल को चुरा भी लेना।

Tanhayion Mein Muskarana

Tanhayion Mein Muskarana Ishq Hai,
Ek Baat Ko Sab Se Chhupana Ishq Hai,
Yun Toh Neend Nahi Aati Hamein Raat Bhar,
Magar Sote-Sote Jagna Aur,
Jaagte Jaagte Sona Hi Ishq Hai.

Log Kehte Hain Piye Baitha Hun Main,
Khud Ko Madhosh Kiye Baitha Hun Main,
Jaan Baki Hai Toh Bhi Le Lijiye,
Dil Toh Pehle Hi Diye Baitha Hun Main.

Itni Mohabbat Na Sikha Aye Khuda,
Ke Tujhse Jyada Uspe Aitbar Ho Jaye,
Dil Tod Ke Jaye Woh Mera,
Aur Tu Mera GunaahGar Ho Jaye.

तन्हाइयों में मुस्कुराना इश्क़ है,
एक बात को सब से छुपाना इश्क़ है,
यूँ तो नींद नहीं आती हमें रात भर,
मगर सोते-सोते जागना और,
जागते-जागते सोना ही इश्क़ है।

लोग कहते हैं पिये बैठा हूँ मैं,
खुद को मदहोश किये बैठा हूँ मैं,
जान बाकी है वो भी ले लीजिये,
दिल तो पहले ही दिये बैठा हूँ मैं।

इतनी मोहब्बत ना सिखा ए खुदा,
कि तुझसे ज्यादा उसपे ऐतबार हो जाए,
दिल तोड़ के जाए वो मेरा,
और तू मेरा गुनाहगार हो जाए।

Mohabbat Ke Silsile

Chalte Rehne Do Ye Silsile,
Yeh Mohabbaton Ke Kafile,
Bahut Door Hum Nikal Jayen,
Ki Laut Ke Fir Na Aa Sakein.

Yeh Kaisa Silsila Hai
Tere Aur Mere Darmiyaan,
Faasle To Bahot Hain Magar
Mohabbat Kam Nahi Hoti.

Uski Mohabbat Ka Silsila Bhi,
Kya Ajeeb Silsila Tha,
Apna Banaya Bhi Nahi Aur
Kisi Ka Hone Bhi Na Diya.

चलते रहने दो ये सिलसिले,
ये मोहब्बतों के काफिले,
बहुत दूर हम निकल जाएँ,
कि लौट के फिर न आ सकें।

ये कैसा सिलसिला है
तेरे और मेरे दरमियाँ,
फासले तो बहुत हैं
मोहब्बत कम नहीं होती।

उसकी मौहब्बत का सिलसिला भी,
क्या अजीब सिलसिला था,
अपना भी नहीं बनाया और,
किसी का होने भी नहीं दिया।

Shakhs Ko Kaise Ye Hunar

Jane Us Shakhs Ko Kaisa Ye Hunar Aata Hai,
Raat Hoti Hai To Aakho Me Utar Aata Hai,
Main Us Ke Khayalo Se Bach Ke Kahan Jaaun,
Wo Meri Soch Ke Har Raste Pe Najar Aata Hai.

Jis Tarah Ragon Mein Khoon Rehta Hai,
Iss Tarah Teri Chahat Ka Junoon Rehta Hai,
Zindgi Ki Har Khushi Mansoob Hai Tumse,
Baat Ho Tumse Toh Dil Ko Sukoon Rehta Hai.

Honthon Par Mohabbat Ke Fasaane Nahi Aate,
Sahil Par Samandar Ke Khazane Nahi Aate,
Palkein Chamak UthhTi Hain Sote Huye Humari,
Aankhon Ko Bhi Khwaab Chhupane Nahi Aate.

जाने उस शख्स को कैसा ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है,
मैं उस के ख्यालों से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है।

जिस तरह रगों में खून रहता है,
इस तरह तेरी चाहत का जुनून रहता है,
ज़िंदगी की हर ख़ुशी मंसूब है तुमसे,
बात हो तुमसे तो दिल को सुकून रहता है।

होठों पर मोहब्बत के फ़साने नहीं आते,
साहिल पर समंदर के खजाने नहीं आते,
पलकें भी चमक उठती हैं सोते हुए हमारी,
आँखों को अभी ख्वाब छुपाने नहीं आते।

Kinara Kaun Karta Hai

Abhi Toh Saath Chalna Hai, Samandar Ki Musafat Mein,
Kinare Par Hi Dekhenge, Kinara Kaun Karta Hai.

Mohabbat Naapne Ka Koyi Paimana Nahi Hota,
Kahin Tu Bad Bhi Sakta Hai, Kanhi Tu Mujhse Kam Hoga.

Chalo Uska Nahi Toh Khuda Ka Ehsaan Lete Hain,
Wo Minnat Se Na Maana Toh Mannat Se Maang Lete Hain.

Iss Se Zyada Tumhein Aur Kitna Qareeb Laaun Main,
Ki Tumhen Dil Mein Rakh Kar Bhi Mera Dil Nahi Bharta.

Teri Duniya Ka Yeh Dastur Bhi Ajeeb Hai Aye Khuda,
Mohabbat Unko Milti Hai Jinhein Karni Nahi Aati.

अभी तो साथ चलना है, समंदर की मुसाफत में,
किनारे पर ही देखेंगे, किनारा कौन करता है।

मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता,
कहीं तू बढ़ भी सकता है, कहीं तू मुझ से कम होगा।

चलो उसका नही तो खुदा का एहसान लेते हैं,
वो मिन्नत से ना माना तो मन्नत से मांग लेते हैं।

इस से ज़्यादा तुम्हे और कितना करीब लाऊँ मैं,
कि तुम्हे दिल में रख कर भी मेरा दिल नहीं भरता।

तेरी दुनिया का यह दस्तूर भी अजीब है ऐ खुदा,
मोहब्बत उनको मिलती है जिन्हें करनी नहीं आती।

Kinara Kaun Karta Hai

Abhi Toh Saath Chalna Hai, Samandar Ki Musafat Mein,
Kinare Par Hi Dekhenge, Kinara Kaun Karta Hai.

Mohabbat Naapne Ka Koyi Paimana Nahi Hota,
Kahin Tu Bad Bhi Sakta Hai, Kanhi Tu Mujhse Kam Hoga.

Chalo Uska Nahi Toh Khuda Ka Ehsaan Lete Hain,
Wo Minnat Se Na Maana Toh Mannat Se Maang Lete Hain.

Iss Se Zyada Tumhein Aur Kitna Qareeb Laaun Main,
Ki Tumhen Dil Mein Rakh Kar Bhi Mera Dil Nahi Bharta.

Teri Duniya Ka Yeh Dastur Bhi Ajeeb Hai Aye Khuda,
Mohabbat Unko Milti Hai Jinhein Karni Nahi Aati.

अभी तो साथ चलना है, समंदर की मुसाफत में,
किनारे पर ही देखेंगे, किनारा कौन करता है।

मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता,
कहीं तू बढ़ भी सकता है, कहीं तू मुझ से कम होगा।

चलो उसका नही तो खुदा का एहसान लेते हैं,
वो मिन्नत से ना माना तो मन्नत से मांग लेते हैं।

इस से ज़्यादा तुम्हे और कितना करीब लाऊँ मैं,
कि तुम्हे दिल में रख कर भी मेरा दिल नहीं भरता।

तेरी दुनिया का यह दस्तूर भी अजीब है ऐ खुदा,
मोहब्बत उनको मिलती है जिन्हें करनी नहीं आती।

Zamaane Ki Nigahon Mein

Zamaane Bhar Ki Nigahon Mein
Jo Khuda Sa Lage,
Woh Ajnabi Hai Magar
Mujhko Aashna Sa Lage,
Na Jaane Kab Meri
Duniya Mein Muskarayega,
Wo Shakhs Jo Khwabon
Mein Bhi Khafa Sa Lage!

ज़माने भर की निगाहों में
जो खुदा सा लगे,
वो अजनबी है मगर
मुझ को आशना सा लगे,
न जाने कब मेरी
दुनिया में मुस्कुराएगा,
वो शख्स जो ख्वाबों
में भी खफा सा लगे।

Mohabbat Ke Taraane

Naya Yeh Daur Hai Lekin,
Wohi Kisse Puraane Hain,
Mohabbat Ke Zamane The,
Mohabbat Ke Zamane Hain,
Mere Geeto Mein Jo Tumne,
Sune Yaado Ke Kisse Hain,
Mohabbat Ke Taraane Toh,
Abhi Tumko Sunaane Hain.

नया ये दौर है लेकिन,
वही किस्से पुरानें हैं,
मोहब्बत के जमाने थे,
मोहब्बत के जमानें हैं,
मेरे गीतों में जो तुमने,
सुने यादों के किस्से है,
मोहब्बत के तरानें तो,
अभी तुमको सुनाने हैं।

Ishq Se Zeher Achchha

Kal Kya Khoob Ishq Se Intekaam Liya Maine,
Kagaz Par Likha Ishq Aur Use Jala Diya.

Mohabbat Nahi Thi To Ek Baar Samjahaya To Hota,
Naadan Dil Teri Khamoshi Ko Ishq Samajh Baitha.

Ishq Tujh Se Toh Zehar Hajaar Guna Achha Hai,
Kambhkat Peene Ke Baad Maut To Gale Laga Leti Hai.

Yeh Ishq Jiske Qahar Se Darta Hai Jamana,
Kambakht Mere Sabr Ke Tukdon Pe Pala Hai.

Ishq Sunte The Jise Hum Woh Yehi Hai Shayad,
Khud-Ba-Khud Dil Mein Hai Ik Shakhs Samaya Jata.

कल क्या खूब इश्क़ से इन्तेकाम लिया मैंने,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया।

मोहब्बत नहीं थी तो एक बार समझाया तो होता,
नादान दिल तेरी खामोशी को इश्क़ समझ बैठा।

इश्क तुझ से तो ज़हर हजार गुना अच्छा है,
कमबख्त पीने के बाद मौत तो आ जाती है।

ये इश्क़ जिसके कहर से डरता है ज़माना,
कमबख्त मेरे सब्र के टुकड़ों पे पला है।

इश्क़ सुनते थे जिसे हम वो यही है शायद,
ख़ुद-ब-ख़ुद दिल में है इक शख़्स समाया जाता।

Na Haara Hai Ishq

Har Baat Pe Ranjishein, Har Baat Pe Hisab,
Goyaa Maine Ishq Nahi, Naukari Kar Li.

Na Haara Hai Ishq Aur Na Duniya Thaki Hai,
Diya Bhi Jal Raha Hai Hawa Bhi Chal Rahi Hai.

Raat Bhar Sisakte Rehna Bas Ek Shaks Ki Khatir,
Ise Gar Ishq Kehte Hain Toh Wallah Meri Tauba.

Ishq Ne Jis Dil Pe Kabja Kar Liya,
Phir Kahan Uss Mein Khushi-o-Gam Rahe.

Agar Ishq Gunaah Hai Toh Gunahgar Hai Khuda,
Jisne Banaya Dil Kisi Par Aane Ke Liye.

Bach Jaye Jawani Mein Jo Ishq Ki Hawa Se,
Hota Hai Farishta Koi Insaan Nahi Hota.

Mohabbat Sar-e-Aam Nahi Ki Jati Hujoor,
Ishq Ki Taaseer Hi Chori-Chhupe Ki Hai.

हर बात पे रंजिशें हर बात पे हिसाब,
गोया मैंने इश्क नहीं, नौकरी कर ली।

ना हारा है इश्क और न दुनिया थकी है,
दिया भी जल रहा है हवा भी चल रही है।

रात भर सिसकते रहना बस इक शख्स की खातिर,
इसे गर इश्क कहते हैं तो वल्लाह मेरी तौबा।

इश्क़ ने जिस दिल पे क़ब्ज़ा कर लिया,
फिर कहाँ उस में ख़ुशी ओ ग़म रहे।

अगर इश्क़ गुनाह है तो गुनाहगार है खुदा,
जिसने बनाया दिल किसी पर आने के लिए।

बच जाए जवानी में जो इश्क की हवा से,
होता है फ़रिश्ता कोई इंसान नहीं होता।

मोहब्बत सरे आम नहीं की जाती हजूर,
इश्क़ की तासीर ही चोरी-छिपे की है।

Tere Pyar Ka Moti

Humari Aankh Se Girta, Jo Tere Pyar Ka Moti,
Use Hothon Se Chun Leti, Agar Tum Saamne Hoti.

Chhup-Chhup Ke Dekha Hai Unhein Unke Saamne Aksar,
Ijhaar-e-Ishq Bhi Hoga Jara Baat Toh Hone Do.

MujhKo Samjhaya Na Karo Ab Toh Ho Hi Chuki Hai,
Mohabbat Mashwara Hoti Toh Tumse Poochh Ke Karte.

Tere Liye Toh Maine Yehan Tak Duaayein Ki Hain,
Ke Koi Tujhe Chaahe Bhi Toh Bas Meri Tarah Chaahe.

Tujhe Khwabon Me Pakar Dil Ka Karaar Kho Jata Hai,
Jitna Rokun Khud Ko Tujhse Pyar Ho Hi Jata Hai.

Ya Khuda Tu Ishq Na Karna Varna Bahut Pachhtayga,
Hum Toh Mar Ke Tere Paas Aayenge Tu Kahan Jayega.

हमारी आँख से गिरता जो तेरे प्यार का मोती,
उसे होठों से चुन लेती अगर तुम सामने होती।

छुप-छुप के देखा है उन्हें उनके सामने अक्सर,
इजहार-ए-इश्क़ भी होगा जरा बात तो होने दो।

मुझको समझाया न करो अब तो हो ही चुकी है,
मोहब्बत मशवरा होती तो तुमसे पूछ के करते।

तेरे लिये तो मैंने यहाँ तक दुआएं की है,
कि कोई तुझे चाहे भी तो बस मेरी तरह चाहे।

तुझे ख़्वाबों में पाकर दिल का क़रार खो ही जाता है,
मैं जितना रोकूँ ख़ुद को तुझसे प्यार हो ही जाता है।

या खुदा तू इश्क न करना वर्ना बहुत पछतायेगा,
हम तो मर के तेरे पास आयेंगे तू कहाँ जायेगा।

Sukun Milta Hai

Sukun Milta Hai Jab Unse Baat Hoti Hai,
Hajaar Raaton Mein Woh Ek Raat Hoti Hai,
Nigah Uthakar Jab Dekhte Hain Woh Meri Taraf,
Mere Liye Wohi Pal Poori Kaaynat Hoti Hai.

Aag Ke Paas Kabhi Mom Ko La Kar Dekhun,
Ho Izazat Toh Tujhe Haath Lagakar Dekhun,
Dil Ka Mandir Bada Veeran Najar Aata Hai,
Sochta Hun Teri Tasvir Laga Kar Dekhun.

Jab Khamosh Aankho Se Baat Hoti Hai.
Aise Hi Mohabbat Ki Shuruaat Hoti Hai.
Tumhare Hi Khyalo Mein Khoye Rehte Hai.
Pata Nahi Kab Din Kab Raat Hoti Hai.

सुकून मिलता है जब उनसे बात होती है,
हजार रातों में वो एक रात होती है,
निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ,
मेरे लिए वही पल पूरी कायनात होती है।

आग के पास कभी मोम को ला कर देखूँ,​
​हो इजाजत तो तुझे हाथ लगा कर देखूँ,​
दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है,​
​सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगाकर देखूँ।

जब खामोश आँखों से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख्यालों में खोये रहते हैं
पता नहीं कब दिन और कब रात होती है।

Teri Mehfil Me Dil Rah Jayega

Ye Na Jaane The Ki
Uss Mehfil Mein Dil Reh Jayega,
Hum Ye Samjhe The Ki
Chale Ayenge Dum Bhar Dekh Kar.

Teri Mahfil Se Uthe To
Kisi Ko Khabar Tak Na Thi,
Tera Mud Mud Kar Dekhna
Hamein Badnaam Kar Gaya.

Dil Ki Mehfil Mein Bulaya Hai Kisi Ne,
Khud Bula Kar Fir Sataya Hai Kisi Ne,
Jab Tak Jali Shamma Machalta Raha Parwana,
Kya Is Tarah Saath Nibhaya Hai Kisi Ne?

ये न जाने थे कि
उस महफ़िल में दिल रह जाएगा,
हम ये समझे थे कि
चले आएँगे दम भर देख कर।

तेरी महफ़िल से उठे तो
किसी को खबर तक ना थी,
तेरा मुड़-मुड़कर देखना
हमें बदनाम कर गया।

दिल की महफ़िल में बुलाया है किसी ने,
खुद बुला कर फिर सताया है किसी ने,
जब तक जली शम्मा मचलता रहा परवाना,
क्या इस तरह साथ निभाया है किसी ने?

Teri Mehfil Me Dil Rah Jayega

Ye Na Jaane The Ki
Uss Mehfil Mein Dil Reh Jayega,
Hum Ye Samjhe The Ki
Chale Ayenge Dum Bhar Dekh Kar.

Teri Mahfil Se Uthe To
Kisi Ko Khabar Tak Na Thi,
Tera Mud Mud Kar Dekhna
Hamein Badnaam Kar Gaya.

Dil Ki Mehfil Mein Bulaya Hai Kisi Ne,
Khud Bula Kar Fir Sataya Hai Kisi Ne,
Jab Tak Jali Shamma Machalta Raha Parwana,
Kya Is Tarah Saath Nibhaya Hai Kisi Ne?

ये न जाने थे कि
उस महफ़िल में दिल रह जाएगा,
हम ये समझे थे कि
चले आएँगे दम भर देख कर।

तेरी महफ़िल से उठे तो
किसी को खबर तक ना थी,
तेरा मुड़-मुड़कर देखना
हमें बदनाम कर गया।

दिल की महफ़िल में बुलाया है किसी ने,
खुद बुला कर फिर सताया है किसी ने,
जब तक जली शम्मा मचलता रहा परवाना,
क्या इस तरह साथ निभाया है किसी ने?

Lab Par Mohabbat Ka Fasana Hai

Nazar Mein Shokhiyan Lab Par
Mohabbat Ka Fasana Hai,
Meri Ummeed Ki Zad Mein
Abhi Sara Zamana Hai,
Kayi Jeete Hain Dil Ke Desh Par
Maloom Hai Mujhko,
Sikandar Hoon Mujhe Ek Roz
Khaali Haath Jaana Hai.

नजर में शोखियाँ लव पर
मोहब्बत का फ़साना है,
मेरी उम्मीद की ज़द में
अभी सारा ज़माना है,
कई जीते हैं दिल के देश पर
मालूम है मुझको,
सिकंदर हूँ मुझे एक रोज
खाली हाथ जाना है।

Mohabbat Ke Siwa

Karunga Kya Jo Ho Gaya Naakam Mohabbat Mein,
Mujhe To Koyi Aur Kaam Bhi Nahi Aata Iske Siwa.

Kyun Mere Chain-o-Sukoon Ke Dushman Ban Gaye,
Duniya Badi Haseen Hai Kisi Aur Se Dil Laga Lete.

Tabiyat Bhi Theek Thi, Dil Bhi Bekaraar Na Tha,
Ye Unn Dinon Ki Baat Hai, Jab Kisi Se Pyar Na Tha.

Bahut Zalim Ho Tum Bhi Mohabbat Aise Karte Ho,
Jaise Ghar Ke Pinjre Mein Parinda Paal Rakkha Ho.

Ab Toh Hai Ishq-e-Butaan Mein Zindgaani Ka Mazaa,
Jab Khuda Ka Saamna Hoga Toh Dekha Jayega.
~ Akbar Allahabadi

Mohabbat Karne Walo Mashgala Achha Toh Hai Lekin,
Na Itna Bhi Ke Jis Se Zindagi Dushwar Ho Jaye.

Yeh Dariya-e-Ishq Hai Kadam Jara Soch Ke Rakhna,
Iss Mein Utar Kar Kisi Ko Kinaara Nahi Milaa.

करूँगा क्या जो हो गया नाकाम मोहब्बत में,
मुझे तो कोई और काम भी नहीं आता इसके सिवा।

क्यों मेरे चैन ओ सुकून के दुश्मन बन गए,
दुनिया बड़ी हसीं है किसी और से दिल लगा लेते।

तबियत भी ठीक थी, दिल भी बेक़रार न था,
ये उन दिनों बात है, जब किसी से प्यार न था।

बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो,
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो।

अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में ज़िंदगानी का मज़ा,
जब ख़ुदा का सामना होगा तो देखा जाएगा।
                                             ~ Akbar Allahabadi

मोहब्बत करने वालों मशगला अच्छा तो है लेकिन,
न इतना भी कि जिस से ज़िन्दगी दुश्वार हो जाये।

ये दरिया-ए-इश्क है कदम जरा सोच के रखना,
इस में उतर कर किसी को किनारा नहीं मिला।

Zamane Ki Khushi Maangi

Maine Kab Tujhse Zamane Ki Khushi Maangi Hai,
Ek Halki Si Mere Lab Pe Hansi Maangi Hai,
Saamne Tujhko Bithhakar Tera Deedar Karoon,
Apni Aankho Mein Basaa Kar Koyi Ikraar Karoon,
Jee Mein Aata Hai Ki Jee Bhar Ke Tujhe Pyaar Karoon.

Bhavein Tani Hain Khanjar Haath Mein Hai Tan Ke Baithe Hain,
Kisi Se Aaj Bigdi Hai Ke Woh Yun Ban Ke Baithe Hain.
Yeh Gustakhi Yeh Chhed Achchi Nahi Hai Aye Dil-e-Naadan,
Abhi Phir Ruthh Jayenge Abhi Ton Man Ke Baithe Hain.

मैने कब तुझसे ज़माने की खुशी माँगी है,
एक हल्की सी मेरे लब ने हँसी माँगी है,
सामने तुझको बिठाकर तेरा दीदार करूँ,
अपनी आँखों में बसा कर कोई इक़रार करूँ,
जी में आता हैं कि जी भर के तुझे प्यार करूँ।

भवें तनी हैं ख़ंजर हाथ में है तन के बैठे हैं,
किसी से आज बिगड़ी है कि वो यूँ बन के बैठे हैं।
ये गुस्ताख़ी ये छेड़ अच्छी नहीं है ऐ दिल-ए-नादाँ,
अभी फिर रूठ जाएँगे अभी तो मन के बैठे हैं।

Main Uski Neend Me Jaagu

Koyi Kab Tak Mahaj Soche,
Koyi Kab Tak Mahaj Gaaye,
Ilahi Kya Yeh Mumkin Hai Ke,
Kuch Aisa Bhi Ho Jaaye,
Mera Mehtaab Uski Raat Ke,
Aagosh Mein Pighale,
Main Uski Neend Mein Jaagu
Wo Mujhme Ghul Ke So Jaye.

कोई कब तक महज सोचे,
कोई कब तक महज गाये,
इलाही क्या ये मुमकिन है,
कि कुछ ऐसा भी हो जाये,
मेरा महताब उसकी रात के,
आगोश में पिघले,
मैं उसकी नींद में जागूं,
वो मुझमें घुल के सो जाये।

Itni Mulaqat Bahut Hai

Woh Kah Ke Chale Itni Mulaqat Bahut Hai,
Maine Kaha Ruk Jao Abhi Raat Bahut Hai.

Aansoo Mere Thum Jaye To Fir Shauq Se Jana,
Aise Mein Kahan Jaoge Barsaat Bahut Hai.

Wo Kehne Lagi Jana Mera Bahut Zaroori Hai,
Nahi Chahti Dil Todun Tera Par Majboori Hai.

Gar Huyi Ho Koyi Khata To Maaf Ker Dena,
Maine Kaha Ho Jao Chup Itni Kahi Baat Bahut Hai.

Samajh Gaya Hoon Sab Aur Kuch Kahna Zaroori Nahi,
Bas Aaj Ruk Jao, Jana Itna Bhi Zaroori Nahi Hai.

Fir Kabhi Na Aaunga Tumhari Zindagi Me Laut Ke,
Zindagi Bhar Tanhayi Ke Liye Ye Raat Bahut Hai.

वो कह के चले इतनी मुलाकात बहुत है,
मैंने कहा रुक जाओ अभी रात बहुत है।

आंसू मेरे थम जाएँ तो फिर शौक़ से जाना,
ऐसे में कहा जाओगे बरसात बहुत है।

वो कहने लगी जाना मेरा बहुत जरूरी है,
नहीं चाहती दिल तोडूं तेरा पर मजबूरी है।

गर हुयी हो कोई खता तो माफ़ कर देना,
मैंने कहा हो जाओ चुप इतनी कही बात बहुत है।

समझ गया हूँ सब और कुछ कहना ज़रूरी नहीं,
बस आज रुक जाओ जाना इतना भी जरूरी नहीं है।

फिर कभी आना आऊंगा तुम्हारी जिंदगी में लौट के,
जिंदगी भर तन्हाई के लिए ये रात बहुत है।

Pyaar Nahi Asaan Bahut

Kuchh Umr Ki Pehli Manzil Thi,
Kuchh Raste The Anjan Bahut,
Kuchh Hum Bhi Pagal The Lekin,
Kuchh Woh Bhi The Nadaan Bahut,
Kuchh Usne Bhi Na Samjhaya,
Yeh Pyaar Nahi Asaan Bahut,
Aakhir Humne Bhi Khel Liya,
Jis Khel Mein Tha Nuksaan Bahut.

कुछ उम्र की पहली मंजिल थी,
कुछ रस्ते थे अनजान बहुत,
कुछ हम भी पागल थे लेकिन,
कुछ वो भी था नादान बहुत,
कुछ उसने भी न समझाया,
ये प्यार नहीं आसान बहुत,
आखिर हमने भी खेल लिया,
जिस खेल में था नुकसान बहुत।

Chaandni Ka Badan

Woh Chandni Ka Badan Khushbuon Ka Saya Hai,
Bahut Azeez Humein Hai Magar Paraya Hai.

Utar Bhi Aao Kabhi Aasman Ke Jheene Se,
Tumhein Khuda Ne Humare Liye Banaya Hai.

Kahan Se Aayi Yeh Khushbu Yeh Ghar Ki Khushbu Hai,
Iss Ajnabi Ke Andhere Mein Kaun Aaya Hai.

Mehak Rahi Hai Zamin Chaandni Ke Phoolo Se,
Khuda Kisi Ki Muhabbat Pe Muskuraya Hai.

वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है,
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है।

उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से,
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिये बनाया है।

कहाँ से आई ये खुशबू ये घर की खुशबू है,
इस अजनबी के अँधेरे में कौन आया है।

महक रही है ज़मीं चांदनी के फूलों से,
ख़ुदा किसी की मुहब्बत पे मुस्कुराया है।

Mohabbaton Ke Mausam

Kabhi Qareeb To Kabhi Door Ho Ke Rote Hain,
Mohabbaton Ke Mausam Bhi Ajeeb Hote Hain.

Mohabbat Ke Baad Mohabbat Mumkin Toh Hai,
Par Toot Ke Chahna Sirf Ek Baar Hota Hai.

Isi Kashmkash Ka Naam Mohabbat Hai,
Aankho Mein Samandar Ho Fir Bhi Pyaas Rahti Hai.

Daawe Mohabbat Ke Mujhe Nahi Aate Yaaro,
Ek Jaan Hai Jab Dil Chaahe Maang Lena

Duniya Tere Wajood Ko Karti Rahi Talaash,
HumNe Tere Khayal Ko Duniya Bana Liya.

Jaadu Woh Lafz-Lafz Se Karte Chale Gaye,
Aur Humne Baat-Baat Mein Har Baat Maan Li

Apne Jaisi Koi Tasveer Banani Thi Mujhe,
Mere Andar Se Sabhi Rang Tumhare Nikle.

कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,
मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं।

​मोहब्बत के बाद मोहब्बत मुमकिन तो है,
पर टूट कर चाहना सिर्फ एक बार होता है​।

इसी कश्मकश का नाम मोहब्बत हैं,
आंखों में समंदर हो फिर भी प्यास रहती हैं।

दावे मोहब्बत के मुझे नहीं आते यारो,
एक जान है जब दिल चाहे माँग लेना।

दुनिया तेरे वजूद को करती रही तलाश,
हमने तेरे ख्याल को दुनिया बना लिया।

जादू वो लफ़्ज़ लफ़्ज़ से करते चले गए,
और हमने बात बात में हर बात मान ली।

अपने जैसी कोई तस्वीर बनानी थी मुझे,
मेरे अन्दर से सभी रंग तुम्हारे निकले।

Kabhi Tum Bhi Najar Aao

Kabhi Tum Bhi Najar Aao,
Subah Se Shaam Tak Humko,
Bahut Se Log Milte Hain,
Nigahon Se Gujarate Hai,
Koyi Andaaz Tum Jaisa,
Koyi HumNaam Tum Jaisa,
Magar Tum Hi Nahi Milte.

Bahut Bechain Firte Hain,
Bade Betab Rahte Hain,
Dua Ko Haath UthTe Hain,
Dua Me Ye Hi Kahte Hain,
Lagi Hai Bheed Logon Ki,
Magar Is Bheed Me Saqi,
Kabhi Tum Bhi Najar Aao,
Kabhi Tum Bhi Najar Aao.

कभी तुम भी नज़र आओ,
सुबह से शाम तक हम को,
बहुत से लोग मिलते हैं,
निगाहों से गुज़रते हैं,
कोई अंदाज़ तुम जैसा,
कोई हमनाम तुम जैसा,
मगर तुम ही नहीं मिलते.

बहुत बेचैन फिरते हैं,
बड़े बेताब रहते हैं,
दुआ को हाथ उठते हैं,
दुआ में यह ही कहते हैं,
लगी है भीड़ लोगों की,
मगर इस भीड़ में “साक़ी”
कभी तुम भी नज़र आओ,
कभी तुम भी नज़र आओ।

Deewangi Ki Inteha

Yeh Mera Ishq Tha
Ya Fir Deewangi Ki Inteha,
Ke Tere Qareeb Se Guzar Gaye
Tere Hi Khyal Se.

Kisi Ka Ishq Kisi Ka
Khyaal The Hum Bhi,
Gaye Dino Me Bahut
Ba-Kamaal The Hum Bhi!

Kuchh Ajab Haal Hai
In Dino Tabiyat Ka Sahab,
Khushi, Khushi Na Lage
Aur Gham Bura Na Lage!

Mazaa Toh Tab Tha Dillagi Ka,
Aag Barabar Lagti,
Na Tumhein Qaraar Hota
Aur Na Humein Qaraar Hota.

यह मेरा इश्क़ था
या फिर दीवानगी की इन्तहा,
कि तेरे ही करीब से गुज़र गए
तेरे ही ख्याल से।

किसी का इश्क़ किसी का
ख्याल थे हम भी,
गए दिनों में बहुत
बा-कमाल थे हम भी।

कुछ अजब हाल है
इन दिनों तबियत का साहब,
ख़ुशी ख़ुशी न लगे
और ग़म बुरा न लगे।

मजा तो तब था दिल्लगी का,
आग बराबर लगती,
न तुम्हें क़रार होता
और न हमें क़रार होता।

Ek Ishq Hi Kafi Hai

Ishq Mein Jisne Bhi
Bura Haal Bana Rakha Hai,
Wahi Kahta Hai
Ajii Ishq Me Kya Rakha Hai.

Ishq Ki Chot Ka Kuchh
Dil Pe Asar Ho To Sahi,
Dard Kam Ho Ki Jyada Ho
Magar Ho To Sahi.

Ishq Karne Se Pahle
Jaat Nahi Puchhi Jati Mahboob Ki,
Kuchh To Hai Duniya Me
Jo Aaj Tak Mazhabi Nahi Hua.

Dil Ek Ho To Kayi Baar
Kyu Lagaya Jaye,
Bas Ek Ishq Hi Kafi Hai
Agar Nibhaya Jaye.

Naqaab Kya Chhupayega
Shabab-e-Husn Ko,
Nigaah-e-Ishq To
Patthar Bhi Cheer Deti Hai.

इश्क में जिस ने भी
बुरा हाल बना रखा है।
वही कहता है
अजी इश्क में क्या रखा है।

इश्क की चोट का कुछ
दिल पे असर हो तो सही,
दर्द कम हो कि ज्यादा हो,
मगर हो तो सही।

इश्क़ करने से पहले
जात नहीं पूछी जाती महबूब की,
कुछ तो है दुनिया में
जो आज तक मज़हबी नही हुआ।

दिल एक हो तो कई बार
क्यों लगाया जाये,
बस एक इश्क़ ही काफी है
अगर निभाया जाये।

नक़ाब क्या छुपाएगा
शबाब-ए-हुस्न को,
निगाह-ए-इश्क तो
पत्थर भी चीर देती है।

Tere Ishq Mein Shayad

Meri Rooh Gulaam Ho Gayi Hai, Tere Ishq Mein Shayad,
Varna Yun ChhatPatana, Meri Aadat Toh Na Thi.

Meri Aankhon Mein Yahi Hadd Se Jyada BeShumaar Hai,
Tera Hi Ishq, Tera Hi Dard, Tera Hi Intezaar Hai.

Humein Toh Pyar Ke Do Lafz Bhi Naseeb Nahi, Aur
Badnaam Aise Hain Jaise Ishq Ke Baadshah The Hum.

Kitna Lutf Le Rahein Hain Log Mere Dard-o-Gham Ka,
Aye Ishq Dekh Tu Ne Toh Mera Tamasha Hi Bana Diya.

Thheharta Ek Bhi Manzar Nahi Veeran Aankhon Mein,
Humare Shahar Se Badal Bhi Bin Barse Nikalta Hai.

Jashn-e-Shab Mein Meri Kabhi Jal Na Saka Ishq Ka Diya,
Woh Apni Anaa Mein Rehi Aur Maine Apne Gamon Ko Jiya.

Tune Hasin Se Hasin Chehron Ko Udaas Kiya Hai, Ai Ishq,
Agar Tu Insaan Hota Toh Main Tera Qatil Main Hota.

मेरी रूह गुलाम हो गई है, तेरे इश्क़ में शायद,
वरना यूँ छटपटाना, मेरी आदत तो ना थी।

मेरी आँखों में यही हद से ज्यादा बेशुमार है,
तेरा ही इश्क़, तेरा ही दर्द, तेरा ही इंतज़ार है।

हमें तो प्यार के दो लफ्ज भी नसीब नहीं, और
बदनाम ऐसे हैं जैसे इश्क के बादशाह थे हम।

कितना लुत्फ ले रहे हैं लोग मेरे दर्द-ओ-ग़म का,
ऐ इश्क देख तूने तो मेरा तमाशा ही बना दिया।

ठहरता एक भी मंजर नहीं वीरान आँखों में,
हमारे शहर से बादल भी बिन बरसे निकलता है।

जश्न-ए-शब में मेरी कभी जल न सका इश्क़ का दिया,
वो अपनी अना में रही और मैंने अपने ग़मो को ज़िया।

तूने हसीन से हसीन चेहरों को उदास किया है, ऐ इश्क़,
अगर तू इंसान होता तो तेरा कातिल मैं होता।

Ishq Naam Hai Mera

Ai Ashiq Tu Soch Tera Kya Hoga,
Kyunki Hasr Ki Parwaah Main Nahi Karta,
Fannah Hona To Riwayat Hai Teri,
Ishq Naam Hai Mera Main Nahi Marta.

Ishq Ko Bhi Ishq Ho Toh
Fir Main Dekhu Ishq Ko Bhi,
Kaise Tarpe Kaise Roye,
Ishq Apne Ishq Mein.

Uss Se Keh Do Ki
Meri Saza Kuchh Kam Kar De,
Hum Peshe Se Muzarim Nahi Hain,
Bas Galati Se Ishk Hua Hai.

ऐ आशिक तू सोच तेरा क्या होगा,
क्योंकि हस्र की परवाह मैं नहीं करता,
फनाह होना तो रिवायत है तेरी,
इश्क़ नाम है मेरा मैं नहीं मरता।

इश्क़ को भी इश्क़ हो तो
फिर देखूं मैं इश्क़ को भी,
कैसे तड़पे, कैसे रोये,
इश्क़ अपने इश्क़ में।

उससे कह दो कि
मेरी सज़ा कुछ कम कर दे,
हम पेशे से मुज़रिम नहीं हैं
बस गलती से इश्क हुआ था।

Ishq Ki Raah Ne

Ishq Toh Bas Mukaddar Hai Koyi Khwab Nahi,
Yeh Woh Manzil Hai Jis Mein Sab Kamyab Nahi,
Jinhen Saath Mila Unhen Ungliyo Par Gin Lo,
Jinhen Mili Judai Unka Koyi Hisab Nahi.

Ishq Hai Wohi Jo Ho Ek Tarafa,
Izhaar-e-Ishq Toh Khwahish Ban Jati Hai,
Hai Agar Ishq Toh Aankhon Mein Dikhao,
Jubaan Kholne Se Ye Numaish Ban Jati Hai.

Jab Bhi Aata Hai Tera Naam Mere Naam Ke Saath,
Log Jal Jal Kar Khaak Huye Jaate Hain,
Udta Hai Dil Se Jaise Dhuaan,
Bas Woh Chhune Se Hi Rakh Huye Jaate Hai.

इश्क़ तो बस मुक़द्दर है कोई ख्वाब नहीं,
ये वो मंज़िल है जिस में सब कामयाब नहीं,
जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पर गिन लो,
जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।

इश्क है वही जो हो एक तरफा,
इजहार-ए-इश्क तो ख्वाहिश बन जाती है,
है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ,
जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।

जब भी आता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ,
लोग जल जल कर ख़ाक हुए जाते हैं,
उड़ता है दिल से जैसे धुआँ,
बस वो छूने से ही राख हुए जाते है।

Ajeeb Si Betaabi Tere Bin

Ek Ajeeb Si Betaabi Rahti Hai Tere Bina,
Reh Bhi Lete Hain Aur Raha Bhi Nahi Jata.

Wo Ek Pal Jise Tum Sapna Kahte Ho,
Tumhein Pakar Mujhe Zindagi Sa Lagta Hai.

Ishq Ne Kab Izaazat Li Hai Aashiqon Se,
Woh Hota Hai Aur Hokar Hi Rehta Hai.

Badla Wafaon Ka Denge Bahut Saadgi Se Hum,
Tum Humse Ruthh Jaao Aur Zindgi Se Hum.

Raat Ho Din Ho Gaflat Ho Bedaari Ho,
Usko Dekha Toh Nahi Usey Socha Bahut Hai.

Tum Nahi Hote Ho Toh Bahut Khalta Hai,
Ishq Kitna Hai Tumse Pata Chalta Hai.

एक अजीब सी बेताबी है तेरे बिना,
रह भी लेते है और रहा भी नहीं जाता।

वो एक पल जिसे तुम सपना कहते हो,
तुम्हें पाकर मुझे ज़िंदगी सा लगता है।

इश्क ने कब इजाजत ली है आशिक़ों से,
वो होता है और होकर ही रहता है।

बदला वफाओं का देंगे बहुत सादगी से हम,
तुम हमसे रूठ जाओ और ज़िंदगी से हम।

रात हो दिन हो गफलत हो बेदारी हो,
उसको देखा तो नहीं है उसे सोचा बहुत है।

तुम नहीं होते हो तो बहुत खलता है,
इश्क़ कितना है तुमसे पता चलता है।

Paas Rahne Ka Tareeka

Najar Se Door Rahkar Bhi
Kisi Ki Soch Me Rahna,
Kisi Ke Paas Rahne Ka
Tareeka Ho To Aisa Ho.

Kiski Majaal Thi Jo
Humko Khareed Sakta Tha,
Hum Khud Hi Bik Gaye Hain
Khareedar Dekh Kar.

Mohabbat Khud Batati Hai
Kahan Kiska Thhikana Hai,
Kise Aankhon Mein Rakhna Hai
Kise Dil Mein Basana Hai.

Sab Mita Dein Dil Se,
Hain Jitni Usmein Khwahishein,
Gar Humein Maloom Ho Kuchh
Uski Khwahish Aur Hai.

नजर से दूर रहकर भी
किसी की सोच में रहना,
किसी के पास रहने का
तरीका हो तो ऐसा हो।

किसकी मजाल थी जो
हमको खरीद सकता था,
हम तो खुद ही बिक गए हैं
खरीदार देख कर।

मोहब्बत खुद बताती हैं
कहाँ किसका ठिकाना है,
किसे ऑखों में रखना है
किसे दिल में बसाना है।

सब मिटा दें दिल से,
हैं जितनी कि उसमें ख्वाहिशें,
गर हमें मालूम हो कुछ
उसकी ख्वाहिश और है।